Fake psychological constructs and Theophilia

Humans as a biological system able to learn about its surroundings and about itself to live and survive in a habitat. Human body is like a biologically composed system like other species.  Any biological systems whether it’s from plant planet or from animal planet are just combination of smallest unit named cells those are made up of nonliving materials from our planet with specific function to make a systematic biological entity with specific function. Now many scientists confirm that human body is 90% microbial but only 10% human. According to a recent National Institutes of Health (NIH) estimate, 90% of cells in the human body are bacterial, fungal, or otherwise non-human. Although many have concluded that bacteria surely enjoy a commensal relationship with their human hosts, only a fraction of the human microbiota has been characterized, much less identified.  All most all individual biological species has function of reproduction of their own to have their population. Whether its microbial cell or any species cell i.e. cells of a plant or animal that are only made up of by basic elements of our planet. Many elements of our planet stay in different forms so we can say some elements those are used in a species may want to stay in biologically integrated form as a biological entity for specific purpose; when biological entity is destroyed i.e. become dead it disintegrated and reused by other species. The formulae of creation and to feel the existence even maintained by complex composition of the basic element of our existence. For an example humans created many dimensions of knowledge of their own like science, mathematics, biology, social science, political science, theology etc. etc. those bank of information can be stored in a 16GB/32GB/nGB pen drive or any kind of human made information storage system where the pen drive or information storage device is just a nonliving entity; I mean to say all creative formulae can be even stored in a nonliving material form; means, creative principles can be even in the form of nonliving forms.  One those decode the information from that pen drive can get all the bank of knowledge and can use that information for their use. The information should be understood by the entities; Here we come across the human made or developed communication constructs. As a biological entity human has made languages to commutate each other; might be every species does the same for their species group to communicate to each other. Language, a system of conventional spoken, manual, or written symbols by means of which human beings, as members of a social group and participants in its culture, express themselves. Language is the expression of ideas by means of speech-sounds combined into words. Words are combined into sentences, this combination answering to that of ideas into thoughts.” The American linguists Bernard Bloch and George L. Trager formulated the following definition: “A language is a system of arbitrary vocal symbols by means of which a social group cooperates.” Language is a system that consists of the development, acquisition, maintenance and use of complex systems of communication, particularly the human ability to do so; and a language is any specific example of such a system. We can get many definition of language, but ultimate conclusion is the action or activity by which a species communicates to each other or other species is called language. Language is a medium of communication to biological entities. Language is developed through stimuli or perception or cognition or feeling or realization to the existence around them and all biological entities do it by their senses. The sensing organs associated with each sense send information to the brain to help a species to understand and perceive the existence around them. A sense is a physiological capacity of organisms that provides data for perception. Humans have a multitude of sensors. Sight (vision), hearing (audition), taste (gustation), smell (olfaction), and touch (somatosensation) are the five traditionally recognized senses. The ability to detect other stimuli beyond those governed by these most broadly recognized senses also exists, and these sensory modalities include temperature (thermoception), kinesthetic sense (proprioception), pain (nociception), balance (equilibrioception), vibration (mechanoreception), and various internal stimuli (e.g. the different chemoreceptors for detecting salt and carbon dioxide concentrations in the blood, or sense of hunger and sense of thirst). However, what constitutes a sense is a matter of some debate, leading to difficulties in defining what exactly a distinct sense is, and where the borders between responses to related stimuli lie. Human mind just store the data percept form its surrounding existence and code a psychological entity for its identification. Humans represent the entity thorough propagation of vocal sound or by artistic representation etc. to share same meaning to other humans. Reality coded psychologically i.e. biologically or chemically stored in a human brain which is shared to group of people with a conformity as a reliable source of information becomes believe which is used as way or medium of communication for information interchange.  Human mind is able to make or create artificial psychological construct from the data fed from real existence from the world. Like we can create any numbers of fake entity with psychological construct without their real existence which we often say mind born or imaginative entities. We can create thousands of mind born characters like Mickey Mouse, Spiderman, He Man, Superman, Hulk, Captain America etc. etc. without any boundaries those had not born in real forms but exists as an entity in human race only due to their mind born existence. Their powers or abilities and time line actions can be even psychologically constructed which we often say fiction or story i.e. mind born composition.  If somebody loved to these mind born entities and create social group to promote them as their source of inspiration or any kind of addition to these entities to commit offenses in the name of those entities or for their artificial existence; then their followers’ evil actions are totally human made disasters due human made mental deviation or wrong information programing or making wrong psychological constructs in human brain; which is harmful to human race. Indian polytheist Idolism or Hindu deities majorly mind born entities and addiction to these entities is just a mental deviation or disorder created by itself some of the root natives of Indian demography. Vedic caste system which is defined in Rig.Veda “Purusha Sukta 10.90” is just a stupid psychological construct that had forcefully implemented to the root native of this land, that has been devastating the social integrity of this demography after the declination of Buddhism and promotion of lies and blind beliefs by cons of this land those controlling the minds of their followers just using mind born super characters made by them. Since sacrificing or killing a cosmic imaginative male named “Purusha;” universe, world, Sanskrit chants, horses, cows, moon, air, humans with specific professions like priests (Brahmana), Kings(Kshatriya), Traders(Vaishya) and working class slaves (Shudra) etc. can’t be made; it’s the reason why it just a stupid psychological construct (मन से निर्मित) and this belief confirmed by mass social group is nothing but believers of blind beliefs. Observed verified information is rational information where irrationally made construct by human mind which can’t be verified is called irrational information. Human mind is capable to create any psychological construct with both kind of information. Vedic promoters or Brahmanism made many mind born entities as God/Goddess to control their followers brain making a conformity for these irrational fake deities saying these entities are controlling their lives is totally a fake psychological construct or deception or cheat by these people to have a parasitic livelihood by cheating to their mind due to their ignorance and innocence. This promotion of fake psychological constructs those are basically made by their lies and deception whose base is irrational or base less real data information is totally promoting fake data in their mind and implanting fake data in their brain. These information makes them sluggish in critical thinking, logical interpretation and make them logical blind; they are intentionally stagnated by lies promoters so that they can’t develop their rational brain.  Addiction to these godly entities is called addiction to God or Theophilia which is a mental or psychological disorder. Here you can see psychologically composed new super character entities mixing their fake entities and even some new super character entities. If you can make conformity for these entities by making shrines, devotional scriptures and songs or Mantras, Movies and TV serials, festivals, rituals and ceremonies and Mela or social unification of same faith followers for them then you can have good faith following group with lump sum money those can be even used as human power to accomplish your any target.

In the depiction of bridge making by Rama army of monkeys or Banara Sena they are shown as, they are writing “राम” (Rama) on the each stone they are using for the bridge. It means monkeys were literate and was speaking in Hindi. Nagari letters alias DevNagari letters alias Hindi letters are the letters of 7th century; before that there was no letters of Hindi or Devanagari its the reason why we can’t find any Hindi stone, bronze or palm inscriptions for anything before 700AD. It means 7th century monkeys were literate and was speaking in Hindi language. We are living now in 2018; it means 2018-700=1318 years before monkeys were literate. How many monkeys now speaking in Hindi and writing in Devanagari letters? If we will consider this picture as a source of their belief then we have to admit Ramayan was only possible after 700AD because before that there was no letter of Hindi. If we consider to some hypocrites promoters of Ramayana i.e. Rama had existed millions of years ago in the dark age where there was no electricity, toilets, gas, vehicles, clothes, shelters etc. etc. then lord Rama will look like a nude human. Is not it a joke? Do you think lies, deception, vandalism and hypocrisy has any boundaries and limits?

IF IT WAS IDENTITY THEFT IN THE NAME OF AVATAR

HUMANS HAS ABILITIES TO MAKE ENDLESS FAKE PSYCHOLOGICAL SUPER CHARACTERS.

आप को इंडिया में हर जगह, वह किताब हो या मीडिया या कोई लेख “हिन्दू हिन्दू” करते लोग मिलजाएँगे. जब भी आप उन महापुरुषोंको मिले जो हिन्दू पहचान का प्रमोशन करते हैं उनको हिन्दू का डेफिनेशन जरूर पूछना; वह हिन्दू क्यों है और उनको कैसे पता चला वह हिन्दू है और उनके पूर्वज हिन्दू थे. हिन्दू सब्द का उत्तपति कैसे हुआ और इंडिया के बहुदेवबाद मूर्त्ति पूजा करने वाले वर्णवादी अनुगामियाँ कैसे हिन्दू बने. क्या वह सदियों हिन्दू थे? हिन्दू के नामपे ये क्या थोपना चाहते हैं? इंडिया में रहने केलिए हिन्दू होना क्यों जरुरी है? इसके पीछे राज क्या है? संबिधान तो ये नहीं बोलता जो वर्णवाद को मानता है यानि हिन्दू ही देश का नागरिक है और सब गैर नागरिक? तो ये पाखंड और अतिवादी बनाम हिन्दू आतंकवादी क्यों जबरन १०० करोड़ लोगों के ऊपर हिन्दू पहचान थोपना चाहते हैं? क्या उनका इंडियन होना काफी नहीं? कुछ वैदिक प्रमोटर्स संस्थाएं जिनका RSS जैसे संस्था और BJP जैसे राजनैतिक दल है वह हिन्दू और हिन्दुत्त्व को ज्यादा बढ़ावा क्यों देते हैं? ये यहां के मुसलमानों को बोलते हैं आपके पूर्वज सब हिन्दू थे; इनलोगों को कैसे पता चला उनके पूर्वज हिन्दू थे जब की इंडिया में बनी किसी भी धार्मिक रचनाओं में हिन्दू सब्द का इस्तेमाल ही नहीं हुआ? अल हिन्द, ईन्दोस्तान/हिन्दोस्तान जैसे पहचान मुस्लिम राजाओंने इस्तमाल किया और ना खुद को वह हिन्दू मानें या यहाँ के मुलनिवाशियाँ जो मुस्लमान धर्म अपनाये वह अपने आप को हिन्दू मानते हैं. अल हिन्द, ईन्दोस्तान/हिन्दोस्तान जैसे सब्द कौनसी स्क्रिप्चर में कितनेबार इस्तेमाल हुए हैं? क्यों के पार्सीयों का इस भूखंड में पडोसी का रिस्ता रहा इसलिए सिंधु नदीसे प्रेरित “हिन्दू” सब्द पार्सीयों के द्वारा दी गयी नाम होगी यानि ये एक पार्सी सब्द है जिसको आरबीक और अफगानी सभ्यता भी अपनाया होगा. हिन्दू सब्द शिन्दु नदी से प्रेरित नाम है जिसका रिस्ता सिंधी भाषी सभ्यता को छोड़कर और किससे नहीं है; देश बिभाजन के बाद शिंद सभ्यता “शिंद प्रोविंस” के नाम से पाकिस्तान में है इंडिया में नहीं. जितने भी मुस्लमान राजाओं ने अपने रियासत की नाम दी इस पहचान की आधार पर ही उनकी मुल्क का नाम दिया और गैर मुस्लिमों को हिन्दू पहचान दी. इस्लाम दुनिया को 610AD में या उसके के बाद ही इंडियन भूखंड में आया. उससे पहले ये भूखंड कई राजाओंका भूखंड था यानि एक राज्य एक देश की तरह था; उनके खुद के आस्था था और अपनी जीवन शैली थी; यानि सब गैर हिन्दू ही थे. इस भूखंड में कई तरह की धर्म बने जैसे आजीविका, चारुवाक/लोकायत, वैशेषिक, योग, नाय, बौद्ध, जैन, सांख्य, वेदांत, अलेख इत्यादि इत्यादि. वेदांत ही बहुदेववाद मूर्त्ति पूजा को बढ़वा दिया जो की एक सांगठनिक पुजारीवाद है और मूर्त्ति दिखाकर आस्था के नाम पर बैठ बैठ के पैसा कमाना और उसकी भक्त की मन को नियत्रण करने की कुबुद्धि इज्जात किया और बृत्ति के नाम पर लोगोंको बड़े और छोटे में बर्गीकृत करके उन में फूंट डाली और सामाजिक एकता को कमजोर किया ताकि उनके अगेंस्ट कोई आवाज उठा ना सके. ये सब मौर्या साम्राज्य को पतन करने का बाद हुआ. इस भूखंड में सबसे विशाल अखंड राज्य राजा अशोका ने बनाया. राजा असोका ने बौद्ध धर्म को अपने राज्य का धर्म बनाया और उसको देश बिदेश में फैलाई. कभी अपने सुना हैं किंग असोका ने राम मंदिर, विष्णु मंदिर या कोई हिन्दू देवा देवी का मंदिर बनाया हो? जितने हिन्दू भगवान बने वह सब संगठनिक पुजारीवाद बनाम ब्राह्मणवाद ने अपने मनगढ़न भगबान बनाई और वह सब बौद्ध धर्म के पतन के बाद बने. यानि अपने मन से यानि कल्पनाओं से बनाया एंटिटी हैं; इसीलिए वह “मानष पुत्र” जैसे सब्द उपयोग करते हैं यानि मन से बनाया पुत्र; ये छलावा और पाखंड यानि चीटिंग नहीं तो क्या है? बौद्ध मंदिर और उसकी सम्पदा को ध्वंस और अपभ्रंस करने वाले इस्लाम या ईसाई थे? या ये सब ब्राह्मण ही थे? पहले ब्राह्मण थे और उसके वाद वह बने. बौद्ध मंदिरों को उनके मनगढ़न भगवान मूर्त्तियों से डिस्प्लेस किया गया; बौद्ध धर्म को नष्ट करने केलिए. ज्यादा खतरनाक कौन हैं देशी आतंकवादी या बिदेशी आक्रन्ता? क्यों के सबसे बड़ा विशाल भूखंड का प्रमुख धर्म बौद्ध धर्म था इसलिए ज्यादातर पूर्वज बौद्ध धर्मी थे कोई हिन्दू नहीं. उन जमानें में हिन्दू शब्द ही पैदा नहीं हुआ था इसलिए ये सब्द हमको ना कोई स्टोन इनस्क्रिप्सन में मिलता है ना कोई पाम और ब्रॉन्ज इनस्क्रिप्सन में, यहाँ तक की कोई भी वेद में इस सब्द का इस्तमाल नहीं हुआ. 263BC में बौद्ध धर्म दुनिया का सबसे बड़ा धर्म बन चूका था. जात पात छुआ छूत धर्म जैसे वैदिक विचार के धर्म को असोका ने सप्रेस किया था. खुदको ब्राह्मण पहचान देनेवाला असोका किंगडम का सेनापति पुष्यमित्र शुंग असोका का वंसज बृहद्रथ को धोकेसे मारा और असोका किंगडम को 185BC में हथिया लिया. उसने बौद्ध धर्म को ख़तम करने केलिए बौद्ध सन्यास और उनके प्रमोटर्स की नर संहार की; और वर्णवाद को उनकी विशाल राज्यपर मौत की आतंकसे जबरन थोपा. मनुस्मृति लागु की और भूखंड को ब्रह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र में बांटा. इसलिए जो मुर्ख बोलते हैं मुस्लमान तुम्हारे पूर्वज हिन्दू थे उन मुर्खोंको जान ना चाहिए के उनके पूर्वज हिन्दू नहीं गैर हिन्दू थे जिनको उनके आतंकवादी आका पुष्यमित्र शुंग की जबरन थोपा पहचान ब्रह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र में बांटा गया था. क्यों के साम दाम दंड भेद से वैदकी प्रमोटर्स वर्णवाद को हर राज्यों में इम्प्लीमेंट करदिये थे तो यहाँ पाए जाने वाले अनेक मूल निवासी जो बहु भाषिय समुदाय से आते हैं चार वर्ण में बंट चुके थे. वर्णवाद जबरन थोपा गया पहचान है नहीं तो कोई स्व इच्छासे अपने आप को शूद्र होना क्यों अपनाएगा? अगर ब्राह्मण सबसे ऊँची जात है एक क्षत्रिय और एक वैश्य ब्राह्मण जात अपनाएगा या उससे कम इज्जत वाला वर्ण को? तो इन विचाधाराओंके कुबुद्धि धूर्त मूलनिवासियों ने ये घटिया तरकीब निकालके आस्था के नाम पर मन गढन भगवान के मूर्तियओं को दिखाकर १०० करोड़ वर्णवाद अनुगामियों के बॉस बने हुए हैं. आस्था के ग्लू में जोड़के वर्णवाद और अपने आस्था के धंदे को बचाये रखने केलिए तरह तरह की तरकीब निकालते हैं ताकि हिन्दू पहचान के अंदर ब्रह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र को समेट के अपने वर्णवाद को सदियों बचाये रख सकें. जितना बड़ा अनुगामी उसका उतना सियासी फ़ायदा भी है. राम ना हिन्दू थे ना उनको पसंद करने वाले हिन्दू. हिन्दू मानिआ वैदिक प्रमोटर्स ब्राह्मणो का बनाया सडयंत्र है जिसको आजाद इंडिया में कांग्रेस ने सरंक्षित किया हिन्दू पर्सनल नियम बनाके. कांग्रेस ही आजाद इंडिया का वर्णवाद का पहला प्रमोटर है और उनसे निकले वागी हिंदूवादी कांग्रेस नेतायें जो ज्यादातर हिन्दू महासभा के नेता थे वह आरएसएस, BJP यानि संघ परिवार जैसे हिंदूवादी संगठन बनायीं जो सीधा वर्णवाद का ओकालत करते हैं. कांग्रेस हिन्दू महासभा के नेताओंसे भरे पड़े थे जिसके बजह से देश की बिभाजन हुआ और लाखो लोग मरे. देश जब बना उसका नाम भारत नहीं था क्यों की कांग्रेस के समय इस नाम को इन्क्लुजियन किया गया बिना संदेह हम ये कहसकते हैं कांग्रेस छद्म सेकुलर है; नहीं तो अति हिंदुवादीयों का दियागया नाम देश केलिए नहीं अपनाते. जिसने गाँधी को मारा उसकी दिया गया नाम “भारत” देश का नाम क्यों रखा जाता? सावरकर की हिंदूवादी संस्था की नाम अभिनव भारत था और उन हिंदूवादी संगठन ही इस नाम की एडवोकेसी की थी; जिससे ये पता चलता है इंडियन कांग्रेस डबल गेम खेलता आरहा है. दूसरा उदहारण ब्राह्मणोंका भगवान जो केवल संस्कृत में समझता है जिनके बोलनेवाले इंडिया में १५ हजार से भी कम है फिर भी इसको हमारे एडुकेसन में कंपोलसारी बिषय बनाके उसकी सरंक्षण करने की कोशिस की. कांग्रेस की रूल में ही ASI बौद्ध सम्पदा की असलियत को छुपाना और अपभ्रंश करने की कोशिस में आजतक लगा हुआ है जिसको आम आदमी जानता तक नहीं. इससे ये साबित होता है कांग्रेस कोई सेकुलर नहीं सेकुलर का मुखौटा पहना हुआ गुप्त अतिवादी हिन्दू है जो आजतक डबल गेम खेलता आ रहा है. आजाद इंडिया में हिन्दू और हिंदुस्तान नाम प्रमोट करने वाले कांग्रेस की लीडर ही थे जब की अतिवादी और आतंकवादी हिन्दू लीडर “भारत” नाम का प्रमोशन किया. देश का नाम क्या रखा जाये क्या उसकलिये प्लेबीसाईट हुआ था? तो ये लोग जो उनको अच्छा लगा उस नाम को रखने की साजिश क्यों की? असलियत में असली जड़ ब्राह्मणवाद ही देश की बिभाजन की और लाखो लोगों की मौत की कारण बनी. इस्लाम राजाओं ने 700AD में इस भूखंड में आये जिनको हम आक्रांता कहते है. वैसे देखा जायतो क्यों के असोका का अखंड राज्य टूटने के बाद सब एक एक छोटे बड़े देश की तरह ही थे और क्यों के एक दुशरे के साथ उनका युद्ध होता था वह एक दूसरे केलिए आक्रांता ही थे. मुस्लमान राजाओं का प्रभाव अंग्रेज आनेतक रहा; क्यों की अंग्रेज 1600AD में आये हम ये बोलसक्ते हैं उनका प्रभाव 1600AD – 700AD = 900 साल तक रहा. इन ९०० सालों में कई मुसलमान राजाओं अपने अपनाई गयी धर्म इस्लाम थोपने की कोसिस की होगी लेकिन वह अगर सक्ति से पेश आते तो इन ९०० सालों में हर किसीको मुसलमान बना देते और आज के १०० करोड़ से ज्यादा बहुदेवबाद मूर्त्ति पूजाकरने वाले वर्णवादी देखने नहीं मिलते; जब की ईरान, अफगान और कई अबके इस्लाम धर्म को मानने वाले देश की तरह इंडिया का हर ब्यक्ति अब मुस्लमान होता; इसलिए हम को ये मान ना पड़ेगा यहाँ के मुसलमान राजाओं में कई उदारवादी थे जिन केलिए अबके १०० करोड़ वर्ण वादी देखने मिलते हैं. ज्यादातर बहु भाषीय मूलनिवासी वर्णवाद के बजह से ही इस्लाम क़बूले हैं तो असली अपराधी कौन है? मुस्लमान राजा या हमारे मुल्क के ही धूर्त आतंकवादी ब्राह्मणवाद? मुस्लमान हिंसावादी उनके स्क्रिप्चर केलिए हैं; लेकिन अगर वह मुस्लिम ही नहीं बनते तो वह आज हिंसावादी नहीं होते. क्यों के दिल्ली सल्तनत से ज्यादा बड़ा मुग़लों को साम्रज्य रहा उनके समये में ही इस्लाम ज्यादा फैला होगा. जो इस्लाम धर्म क़बूले उनके हर पूर्वज 610AD से पहले गैर मुस्लमान ही थे, वह आक्रांता हो या हमारे मूल निवासी जो इस्लाम को कबुल कर ली. मंगोल डाइनेस्टी का संस्थापक चंगेज खान टेंगरिजिम को मानते थे जबकि उनकी चार बेटे कभी भी इस्लाम नहीं क़बूले. उनके बेटे की कुछ पीढ़ियां इस्लाम क़बूले थे और कुछ बौद्ध धर्म. जो चीन में राज किये और चीन सभ्यता का प्रगति की वह अब कहाँ हैं आप खुद ही जानकारी हाशिल करें; कैसे कुबलाई खान बौद्ध धर्म अपनाके चीन की सभ्यता का प्रगति की ये तारीफे काबिल है. चंगेज खान ने स्पष्ट रूप से मुसलमानों और यहूदियों को “दास” कहा, और उनके हलाल विधि के बजाय खाने में मंगोल विधि को पालन करने केलिए मजबूर किया. खतना को भी प्रतिबन्ध लगा दिया गया था. खान हमेशा मुस्लिम नहीं टेंगरिस्ट और बुद्धिस्ट भी होते हैं. अगर धर्म के आधार पर सिविलाइज़ेशन की प्रगति की आंकलन करें तो जो बुद्धिजीम को ज़्यदातर अपनाया वह अंधविश्वाश और इर्रेशनलिटीज़ से दूर रहे इसलिए उनके विकाश साइंस और टेक्नोलोजी में ज्यादा हो गया; इसलिए जापान और चीन अब तकनीक में सबसे आगे हैं. जितने भी बैज्ञानिक है वह कभी थेयिजिम को नहीं कबूला यानि बुद्ध की तरह भगवान की स्थिति को स्वीकार नहीं किया और सत्य, परिक्षण, निरिक्षण, तर्क इत्यादि से सत्य की खोज करके रेसियोनलिटी का अनुयाई बने और कई अत्याबश्यक रचनायें की जिससे मानब दौड़ आज के स्थिति में पहुंचा है. बुद्धजीम को जिन धर्मों ने कॉपी की यानि ख्रिस्टीआनिटी; क्यों के ख्रिस्टीआनिटी में जीसस को एक ही भगवान बनाके ओल्ड टेस्टामेंट से कुछ चुराके और जीसस की जीवनी को कुछ मनगढ़न कहानी बनाके बाइबल बना दिया और बाकि बौद्ध धर्म से प्रेरित है; मिसनरी कांसेप्ट बुद्धिजीम से प्रेरित है; मोंक और बौद्ध सन्यासिनी कांसेप्ट से पोप और नॉन बने. बौद्ध मंदिर और विहार के कांसेप्ट से चर्च बने, और तो और जीसस खुद बौद्ध सन्यास थे इसका इल्म ख्रिस्टीआनिटी अनुयायिओं को आजतक पता ही नहीं है. ख्रिस्टीआनिटी ज्यादा इसलिए फ़ैल गया क्यों की इसकी पॉलिटिजाइसन ज्यादा हुआ. इस्लाम 610AD में बना. ये यहूदी, ख्रिस्टीआनिटी, बौद्ध धर्म, इसमें प्रोफेट मुहम्मद की जीवनी को मिलाके (हदीथ) और मुर्तिबाद की उपासना पद्धति के सारे मिश्रणसे बना धर्म बनगया. इंडिया में ब्राह्मणवाद तो बनगया लेकिन इस भूखंड से बाहार जा नहीं पाया. ब्राह्मणवाद कोई आरयन रेस नहीं है या एक ही तरह की DNA से पैदा रेस नहीं है. ये एक बिचारधारा है जैसे आजके पोलटिकल पार्टीयों का विचार धारा होता है जो की आस्था के नाम पर ओर्गानाईजड पुजारीवाद ने इस भूखंड के धूर्त्त और चालाक मूलनिवासियों ने बनाया था. अगर इनके उत्स एक होता तो उनके माँ बोली एक होता और उनके सर नेम भी एक होता; नहीं तो ना केवल ६ करोड़ इंडियन ब्राह्मणों का ५०० से ज्यादा सरनेम होता ना प्रदेश बदलते ही उनकी माँ बोली बदल जाते. अगर एक ही भाषीय सभ्यता में ब्राह्मण और शूद्र का माँ बोली एक है वह अलग रेस से कैसे पैदा हो सकते हैं? जैसे एक पोलिटिकल पार्टी का लीडर, मेंबर और वोटर देश की हर कोने में पाए जाते हैं और उनकी पहचान उनके पार्टियों से होता है, ठीक ऐसे ही ब्राह्मणवाद है जो एज ऑफ़ किंगडम में ब्रैनवास, मौत के भय, छल और बल से राजाओं को पहले क्षत्रिय का सर्टिफिकेट देकर उसकी ब्रेन वाश की गयी होगी और बाद में उनके राज्य में बुद्धिजीम को नष्ट करके वर्णवाद फैलाया गया होगा. मूर्त्तिवाद और वर्णवाद के अगड़ी प्रमोटर्स ही ब्राह्मण बने जिन्होंने संस्कृत में उनके मनसे बनाये गए सुपर करैक्टर भगवानों की मूर्त्तियों को संस्कृत भाषा में संवाद किया. इंडिया को छोड़ कर कितने ऐसे सभ्यता है जंहा राजाओं को क्षत्रिय कहा जाता है? क्या मुस्लमान राजाओं को ये क्षत्रिय कहेंगे? ब्राह्मणवाद राजाओं को क्षत्रिय का सर्टिफिकेट देकर ब्राह्मणवाद की दायरे में लाया और प्रोफेशन के हिसाब से उनकी प्रजाओं का इज़्ज़त की श्रेणी बना डाली जो की सरासर अपराध ही है. झूठे मक्कार और मुर्ख इतिहासकार हम को गुमराह किया और हमको डिस्टॉर्टेड इतिहास बताई जो की तर्क के आधार पर ठीक नहीं बैठता; जिसका मतलब ये है इन लोगोंने पीढ़ियों को गुमराह किया और मिसइन्फोर्ममेशन क्यारी की. ब्राह्मणवाद से इस भूखंड का केवल घाटा ही हुआ; यहाँ तक ब्रह्मणवाद को बनाने वाले भी घाटे का शिकार हैं जो की उनके ऊँची पहचान की पागलपनके कारण उनको इसबात की अहसास नहीं. ब्राह्मणवाद, इस्लाम और ख्रिस्टीआनिटी ये तीनो प्रमुख धर्म ताकत के जोर पे लागु किये गए इसलिए ये तीनो ही आतंकवादी धर्म है. इस्लाम में मौत के भय के कारण ये सबसे बड़ा भीड़ के तौर बढ़ रहा है. लेकिन इनकी फिलोसोफी किसी सभ्यता को इतना प्रगतिशील नहीं बनाया जितना बौद्ध फिलोसोफी को मानने वाले सभ्यता को बनाया. आज के जितने भी इस्लामी प्रगतिशील मुल्क है वह केवल अपने नेचुरल रिसोर्स के बजहसे है यानि ज्यादातर पेट्रोल केलिए अर्थात अऐल मनी के लिए हैं, धर्म के वजह से नहीं. धर्म एक पुराना विचार है आजके जेनेरशन को इसकी कोई जरुरत नहीं. आप सत्य और ज्ञान की अनुयाई बनसकते हैं, साइंस, तर्क और रिजॉन की अनुयाई बनसकते हैं; प्रेम, करुणा, सेवा और शांति के अनुयाई बनसकते हैं इत्यादि इत्यादि लेकिन हिंसाकि उपयोग तब करे जब बात आत्म रक्षा की हो क्यों की ये एक नेचुरल राइट्स है. इन सब चीजों की अनुयाई होने केलिए किसी धर्म की अनुयाई होना जरुरी नहीं. बौद्ध सभ्यता भी अनेक ज्ञानी और स्वार्थी अनुयाईओं के बिचार धारासे कई मोड़ लिए लेकिन इतना अपभ्रंस नहीं हो पाया; कोई बुद्ध का भगवान माना तो कोई पुनर्जन्म और अवतार कांसेप्ट उनमें दाल दिया यानि ज्यादातर वैदिक वालों ने ही इसका अपभ्रंश किया. बुद्ध के मरने के बाद कितने भी सेक्ट बनजाये लेकिन उनकी चार महान सत्य और आष्टांगिक मार्ग जो की उनकी मूल सिक्ष्या थी ज्यों की त्यों है. जिस में ना कोई भगवान की जिक्र है न कोई अंधविस्वाश की आस्था; केवल मानवता को रस्ता दिखाने वाला आठ मार्ग है जिससे मानवता की प्रगति है. सिद्धार्त गौतम एक अच्छे इंसान ही थे और अच्छी सुस्थ समाज और इंसानी जीवन के लिए उन्होंने अच्छे बिचारोंका रस्ता दिखाया था. उनकी प्रमुख सिक्ष्या आठ बिचार ही थे; जो “सही दृस्टि, सही विचार या इरादा, सही वचन, सही आचरण या कार्य, सही आजीविका, सही प्रयास, सही सचेतन, सही एकाग्रता” को प्रमोट करता था. आपको इशमें कोई भगवान या धर्म की छाप नहीं दिखेंगी ये बस एक सिक्ष्या ही है. इस आठ मार्ग का अनुयाई बनने केलिए आप को बौद्ध धर्म अपनाना जरुरी नहीं ये आठ मार्ग ही आप की जिंदगी को सही रस्ता दिखा देंगे. आप को ब्राह्मण, मुल्लों, फादर और बौद्ध सन्यास की चंगुल में फसना नहीं या खुद को किसी बड़े भीड़ का हिस्सा बताना जरुरी नहीं बस खुद को इंसान मानना काफी है; इस आठ मार्ग को अपनाके एक अच्छा इंसान बनने की कोशिस करना और बनना; एक हिन्दू, मुस्लिम, ईसाई, सिख या बुद्धिस्ट बनने से कई गुना अच्छा है. भगवान राम हो या हिन्दू के कोई भी देवादेवी, वह जीसस हो या प्रोफेट मुहम्मद वह सब कितने इनसब चीजों की अनुयाई थे उनके बिषय में पढ़ने के बाद आपको पता चल जायेगा. आप को तय करना पड़ेगा ज्ञान में उनसे पिछड़े रहना है या अपने पीढ़ियों को आगे लेना है; क्यों की कोई भी इंसान की बच्चा धर्म के साथ पैदा नहीं होता है; वह एक स्वाधीन प्राणी ही होता है. उसकी बचारों को एक बिशेष श्रेणी के बिचारों को थोपकर उसकी सोच को नियत्रण करना ये नेचुरल राइट्स का बिरुद्ध है और सामाजिक, नैतिक और प्राकृतिक अपराध है. ब्राह्मणवाद आजाद इंसान को मुर्ख, अन्धविश्वाशी और इर्रेशनालिटी को थोपकर लोगों को अपने घटिया विचार की प्रोमोट करते हैं और उसको हिन्दू यानि बहुदेव मुर्तीबाद की वर्णवाद का अनुयाई बनाते हैं. इज़्ज़त का श्रेणी बनाके उनको सर्टिफिकेट देते हैं और उनमें छोटे बड़े की फुट डालते हैं; सेलीब्रेशन, मीटिंग एंड इटिंग की आइडिआ इस्तमाल करके अपना अनुयायिओं का बंधन दृढ़ करते हैं. इनका प्रोपागण्डा ज्यादा स्ट्रांग होता है और बस झूठ, ठगी, अन्धविश्वाश, अफवाह के सहारे ये अपना आस्था की साम्रज्य विस्तार करता है. जब की हमारा भूखंड का सबसे पुराना बौद्ध धर्म इन सब झूठ, ठगी, अन्धविश्वाश, अफवाह, मूर्खता, इर्रेशनलिटीज़, हिंसा को सप्रेस करता था और इंसान को ज्ञानवान और तार्किक बनाता था. इंसान जब पैदा होता है वह एक आजाद इंसान होता है; लेकिन उसको जबरन ब्रांड के दायरे में लाना एक अपराध नहीं तो क्या है? हमारा देश का कानून इस भूखंड में पैदा हुआ हर आजाद इंसान को जात और धर्म से क्लासिफ़ाइ करता है जो की एक अपारध है. ब्राह्मणों को ये सुन कर जरूर ख़राब लगेगा, लेकिन ये सत्य है जो ब्राह्मण पहचान को जन्मसे अपनाता है वह जन्मजात पंडित नहीं जन्मजात मुर्ख होता है; क्यों के उनके पूर्वज इस जात को इलीट क्लास और नामसे कंज़र्व किया इशलिये सब अपॉर्चुनिटी का पहला हक़दार वह होते हैं. इसलिए ब्राह्मण सरनेम वाले ज्यादातर अगड़ी रेस में पहला चांज मारलेते हैं. वह अयोग्य होनेसे भी पहला चांज उनको ही मिलता है जो ज्यादातर मूलनिवासी नहीं जानते. लेकिन हक़ीक़त कुछ और है; ब्राह्मण पहचान अपनाते ही वह ये स्वीकार करलेता है वह झूठ, डिसेप्शन, इरेसनालिटीज़, धूर्त्तता, अज्ञानता, अंधविश्वास, बहुदेवबाद और मूर्त्तिबाद, छुआ छूत यानि ह्यूमान डिस्क्रिमिनेशन, डिसहारमोनी, फुट डालो राज करो और हिंसा जैसे मनुष्य के कई दुर्गुणों का अनुयायी और प्रचारक है. ये वह रेस हैं जो जन्मके बाद ही झूठ, डिसेप्शन, इरेसनालिटीज़, धूर्त्तता, अज्ञानता, अंधविश्वास, बहुदेवबाद और मूर्त्तिबाद, छुआ छूत यानि ह्यूमान डिस्क्रिमिनेशन, डिसहारमोनी, फुट डालो राज करो, छल और बल से राज करना और हिंसा जैसे दुर्गुणों की सिक्ष्या सुरु करदेते हैं और अपने आप का नोबल तथा इलीट पीढ़ी बोलकर प्रमोट करते हैं. ये इलीट पीढ़ियां नहीं इस भूखंड का गंदगी और ईविल पीढ़ियां हैं जिनके वजह से इस भूखंड का प्रगतिसील सभ्यता भ्रष्ट और ध्वंस हो गया है. अगर इस भूखंड में ज्यादातर मूल निवासी अनपढ़, पिछड़ा और गरीब हैं इस का मूल कारण ब्राह्मणवाद ही है. नियत साफ़ होना चाहिए; आज़ाद पैदा हुआ इनसान का बच्चा को आज़ाद ही रहने देना चाहिए. लोगों की मन को आस्था की बेडियोंसे आजादी मिलना चाहिए यानि झूठ, अन्धविश्वाश, तर्कहीनता, अज्ञानता, धोखा, छल, कपट, वंचना, धूर्तता, दंगाबाजी और हिंसा जैसे भावावेश से पैदा विचारधारा की आस्था से आज़ाद होना चाहिए. उसको कोई संकीर्ण बविचारधारा आपने बेडियोंसे बांधे उसका विरोध होना ही चाहिए. इंसान आज़ाद रहने के साथ साथ उसका मन भी आज़ाद होना जरूरी है; उसकी मनको किसी आस्था की जकड में बांधकर उससे गुलामी करवाना एक अपराध है. उसकी मनको कम से कम इतनी आज़ादी तो होना चाहिए के वह किस विचारधारा को अपनाये और नकारे, वह आपने तर्क के आधार पर उसकी चयन कर सके. विचारधारा को थोपना, छल से या प्रलोभन के सहारे उसकी नियंत्रण करना निश्चित रूप से अपराध ही है. आज़ाद इंसानों को संकीर्ण सोच के बंधन में बांधना और उस सोच के बंधन से उनकी इस्तेमाल करना या उनकी उत्पीड़न करना मानवता केलिए ना केवल अपराध है, मानबाधिकार की उलंघन भी है. प्रतिबन्ध तब लगाना जरुरी है जब ब्यक्ति का मन और उसका कर्म उस केलिये और दूसरों के लिए हानिकारक हो. जो विचारधारा मानव समाज के लिए खतरनाक हैं उस विचार धाराओं को प्रतिबन्ध लगाना जरुरी है. संकीर्ण, गलत तथा बुरा सोच और विचार के गुलाम होने से अच्छा एक आजाद इंसान को खुद अपने हिसाब से अच्छी विचार और सोच का चयन करके अपने मन को बनाने का अधिकार होना चाहिए. जिन सोच या विचारधरा संदेहास्पद, खतरनाक और मानव समाज केलिए गलत हो, उसकी निंदा और उसकी बेनकाबी होना जरूरी है. इंसान की मन और सोच की आज़ादी तो होना चाहिए लेकिन इसका मतलब ये नहीं मतलवी, स्वार्थी, धूर्त्त और दुष्ट इंसान अपने स्वार्थ केलिए उनकी बनाये गए विचारधारा और सोच को दुशरों की मनपर लागु करके उनकी उत्पीड़न की लाइसेंस दे दी जाये और उस ब्यबस्था को हमेशा कायम और सहन की जाये. हिन्दू विचार धारा इंडिया में सडयंत्र के तौर पर १०० कऱोड़ों से ज्यादा लोगों पर वर्णवाद, ब्राह्मणवाद, बहुदेवबाद इत्यादि थोपने का कोशिस है. जब भी कोई आप को हिन्दू का पाठ पढ़ाये उसको जरूर पूछना में हिन्दू क्योँ हूँ, तुम हिन्दू क्योँ हो? और हिन्दू होना क्यों जरूरी है? इंडियन होने केलिए किसी धर्म की जरूरत नहीं तो धर्म की विचारधारा को थोप के देश को एक धर्मी या एक विचार वाला सोच की गुलाम बनाके उनकी मन और जीवन पर राज करने का कुछ लोगों की कोशिस को क्यों सहन की जाये? अगर तुम्हें पसंद है तो तुम बनो, मुझे बनाने का पीछे तुम्हारा इरादा क्या है? पहले इंसान है या पहले धर्म? पहले इंसान या पहले हिन्दू और मुस्लिम? अगर यूनिटी बनाना है इंसान की यूनिटी बनाओ ये हिन्दू और मुस्लिम वाली यूनिटी बनानेका क्या जरूत है? इनको इंसान को इंसान होना क्यों काफी नहीं लगता जो हिन्दू और मुस्लिम वाली इंसान चाहिए? ये सोच के आधार पर बस पोलिरटिक्स ही है; और उनके विचार धारा को रन करने वाले इसकी फायदा उठाते हैं; और उनके सोच की गुलाम बनाते हैं. आस्था एक ऐसी चीज है जिनके अनुयाईयों के बच्चे पैदा होने से पहले ही उसको उस सोच का गुलाम बना दिया जाता है. अगर यूनिटी बनाने का है तो मानवता का यूनिटी बनाओ, अच्छे प्रगतिशील बुद्धिमान मानव या हम इंडियन यानि राष्ट्रीयता का एकता बनाओ; ये हिन्दू, मुस्लिम, सिख, इसाई, बौद्ध और जैन इत्यादि यूनिटी बनाने का मक़सद क्या है? ये विचार धारा की गुलामी क्यों? इनमें से जो सोच या विचार अच्छा है वह सब सोच और विचारधारा को एक आज़ाद इंसान की रूपसे अपनाने में क्या बुराई है? अच्छे विचारों की अनुयाई बनने केलिए उनकी सोच की ब्रांड या गुलामी अपनाना क्यों जरूरी है? आज़ाद इंसान की मन आजाद ही रहना चाहिए; जो उसको अपने गन्दी इरादोंसे अपनी विचार धारा की गुलाम बनाना चाहे उसकी इरादों को बेनकाब करके उसकी विरोध के साथ साथ उसकी खात्मा भी जरूर करना चाहिए. सोच की गुलामी से अच्छा, अच्छी सोच की अनुयायी बने. अच्छे सोच की अनुयायी बनने केलिए किसी धर्म को अपनना जरूरी नहीं. एक आज़ाद अच्छा इंसान बनें और उसके साथ साथ अपने मन और विचारों को भी आज़ाद बनाएं. अपने मन की बुरे विचार जो अपने और दुशरों केलिए हार्मफुल हो उसके ऊपर खुद ही प्रतिबन्ध लगाएं इससे समाज में खुद ही क्राइम बंद हो जाएंगे उस के लिये मोराल स्टोरी वाले धर्म की जरूरत नहीं. 2011 की जनगणना के अनुसार, इंडिया की 79.8% आबादी वर्णबाद का अनुयायी है और 14.2% इस्लाम का अनुयायी; जबकि शेष 6% अन्य धर्मों (ईसाई धर्म, सिख धर्म, बौद्ध धर्म, जैन धर्म और विभिन्न स्वदेशी जातीय आस्था को मानते हैं) का अनुयायी है. ईसाई आस्था इंडिया में तीसरा सबसे बड़ा आस्था के तौर पर बढ़ रहा है. हिन्दू राष्ट्र का सोच हिन्दू पहचान से प्रेरित है; इसलिए जो लोग बहुदेवबाद मूर्त्तिबादी वर्णबाद को मानते हैं वह ही केवल अपने आप को हिन्दू पहचान की दायरे में होने का दावा करते हैं; गैर वर्णबादी नहीं. इसका मतलब साफ़ है हिन्दू राष्ट्र बनाके ये हिन्दू संगठन वर्णबाद को कंज़र्व करने का साथ साथ जो गैर वर्णबादी हैं उनको वर्णबाद के दायरे में लाने की कोशिस में है. वर्णबाद के बजह से अबके ९६.४% इंडिया का मूलनिवासी जिनके पूर्वज इस्लाम को कबुल लिया था वह अब इंडियन मुस्लिम का इस्लामी मुल्क बनाम पाकिस्तान बना चुके हैं और बांग्लदेश की अबकी ९०% मुस्लिम्स जो इंडियन मूलनिवासी पूर्वज थे वह एक अलग मुल्क बन चुका है. अब बताओ जिनका मातृभाषा बंगाली है वह कैसे इस्लाम हो गये? क्या कोई आरबीक मूलनिवासी बंगाली भाषा में बात करता है? इनलोगों की इस्लाम होने के पीछे राज क्या है? बांग्ला भाषी सबसे बड़ा पाल एम्पायर तो बौद्ध धर्मी किंगडम था उसको वर्णवादी किसने बनाया? वर्णवाद केलिए ही ज्यादातर बांग्लाभाषी वर्किंग क्लास शूद्र बनादिये गये और डिस्क्रिमिनेशन के वजह से वह इस्लाम कबुल ली. बांग्लादेश की 15 करोड़, पाकिस्तान की 20 करोड़ और प्रेजेंट डिवाइडेड इंडिया की लगभग 20 करोड़ इस्लाम अनुयायीयों को अगर मिलादिया जाये ये लगभग 55 करोड़ होंगे जो की वर्णवाद की कारण ही बने; इसका मतलब ये नहीं की जबरन या अन्य कारण से बने या बनाये गए मुस्लिम इन में शामिल नहीं है. यहां के लोग सोच के आधार पर बँटगये है और ये सब एक एक सोच की अनुयायी है; ये लोग इसलिए एक सोच से बिछड़ गए क्यों के सोच को उनपर थोपा गया या वह सोच उनकेलिए हानिकारक था, जिस केलिए वह दुशरे सोच अपना लिए. सोच की लड़ाई में बनी संगठित भीड़ जो की उनके अपने टाइप के भगवन की ऊपर आधारित है; ये मानवता के लिए घातक है. वर्णवाद के बजह से अब 55 करोड़ आपने मूलनिवासी आपनो से बिछड़ के दूसरे मुल्क के बनाये सोच यानि विचार धारासे चल रहे है. ५५ करोड़ इसलिए करीब ३% इस्लाम अनुयाई आक्रांता जो बहार से आये थे वह हमारे भूखंड के रेस में विलीन है और उनकी सत्ता हमारे रेस में डूब गया है, बस उनकी लायी गयी सोच कुछ लोगों की मन में राज कर रहा है. 22 अरब स्टेट्स की पपुलेशन जहाँ इस्लाम का असली घर है उनकी पपुलेशन केवल 420 मिलियन यानि सिर्फ 42 करोड़ है, जब की इंडियन मूलनिवासी के ओरिजिन्स से 55 करोड़ मुस्लिम है. हिन्दू राष्ट्र बनाने से धर्मांतिकरण ज्यादा होगा क्यों की शिक्षित शूद्र पीढ़ियां हिन्दुइज़्म की मूर्खता को कभी भी पसंद नहीं करेगा ना आने वाले पीढ़ियां जबरन थोपा धर्म को कबुल करेगा ना ब्राह्मणवाद के प्रमोटर्स लोगों को तर्कहीनता और अज्ञानता के अंधेर में उनको ज्यादा देर तक रख सकेंगे, इसलिए हिन्दू राष्ट्र और हिन्दुइज़्म बनाम वर्णवाद राज्य की पुनः स्थापना यानि वर्णवाद की राष्ट्र बनाना मूर्खता है; इसलिए हम को आधुनिकतावाद यानि तार्किकवाद और विज्ञानवाद की और चलना है ना की वही पुरानी संकीर्ण सोच से पैदा वर्णवाद बनाम हिन्दुइजम, इस्लाम और ख्रिस्टीआनिटी के राह में चलना है. तार्किक नैतिक मूल्य बनाने केलिए आस्था का सहारा की जरूरत नहीं. ह्युमान मोराल्स से भगवान और धर्म का कोई कनेक्शन नहीं. हमारे प्लानेट में पैदा हर जीबित आइडेंटिटी आज़ाद ही पैदा होता है किसी सोच के गुलाम बनकर नहीं. आप खुद ही सोचो आप लोगों को मानव रेस में आज़ाद इंसान बनकर जीना है या कुछ संकीर्ण दिमाग के लोगों की बनायीं गयी सोच के गुलाम बनकर जीना है. मानवता को एक ही दौड़ मानना है या इंसानो को तरह तरह की सोच और कर्म से बाँटकर उनको उस सोच और कर्म के आधार की इंसान बना के उस सोच के दौड़ की इंसान बनाना है; या एक आजाद इंसान बनकर अज़ादीसे अपने सोच, विचार, ज्ञान और तर्क के आधार पर अपनी मन या दिमाग को बनाना है. एक आजाद इंसान को किसी संकीर्ण सोच की ब्रांड की जरूरत नहीं उसको आज़ाद दुनिआ का आज़ाद इंसान बोलना काफी है. इसलिए इंसान की बच्चों को इंसान ही रहने दो आपकी आस्था जैसे संकीर्ण सोच की इंसान बनाना बंद करो. ये आप को तय करना पड़ेगा कुछ लोगों के द्वारा बनाये गये बुरे विचार या सोच के गुलाम बनना है, या मानव दौड़ में जितने भी अच्छे सोच और विचार है उनको अपना पसंद से चुनकर उनके अनुयायी बनना है. बुरे विचार या सोच की गुलाम बनने से अच्छा अपना पसंद की अच्छे विचारों का अनुयायी बने. आप को ही तय करना पड़ेगा आप को; अंधविश्वास, डिसेप्शन, अज्ञानता, झूठ, कुतर्क, वर्णवाद, ईरेसिओनालिटी, डिस्क्रिमिनेशन, डिसहारमोनी, पक्षपातपूर्ण न्याय, छुआ छूत, घृणा, ईर्ष्या, लोभ, गर्व, क्रोध, लालच, अहंकार, अनुलग्नक, हिंसा, कुसंस्कार, अपराध इत्यादि इत्यादि बुरे विचरों से बनी विचारधारा की धर्म की गुलाम बनना है या सत्य, ज्ञानविज्ञान, तर्क, प्रेम, करुणा, सेवा, शांति, समानता, उचित न्याय, उचित दृष्टी, उचित विचार, उचित सोच, उचित जीविका, उचित प्रचेश्टा, सही बचन, सही आचरण, सही सचेतन, सही एकाग्रता, सही सुरक्षा और स्वरक्षा, सही क्रिया इत्यादि इत्यादि अच्छे विचरों से बनी खुद की चुनी हुई विचारधारा और सोच की अनुयाई बनना है और दूसरों को भी प्रेरित करना है.

एक इंसान ही इंसान की काम आता है कोई भगवान नहीं. इंसान की मदद या उसकी स्किल ही जरुरत में काम आता है कोई भगवान अपने स्किल से इंसान को मदद नहीं करता; काम तो इंसान ही आता है या कोई मददगार जिव लेकिन अंधभक्त हमेशा क्रेडिट अपने अपनाया हुआ भगवान को दे देता है. अंध भक्त वह कोई भी धर्म का हो “थिओफिलिआ” यानि “भगवान की लत” की बीमारी के कारण उस जीवित या निर्जीव हेल्पिंग एंटिटी को मददगार नहीं मानकर अपनी बीमारीके कारण भगवान को ही मददगार मानता है. प्रत्यक्ष रूपसे हेल्पिंग एंटिटी को क्रेडिट नहीं देना और उस हेल्प केलिए एक इमैजिनेटिव यानि काल्पनिक एंटिटी को क्रेडिट देना एक भ्रम ही नहीं पागलपन है. इशलिये “थिओफिलिआ” यानि “भगवान की लत” इंसान को केवल भ्रमित, अज्ञानता, स्वार्थी, मतलवी, बैमानी, अंधविस्वाश जैसे बद गुणोंका शिकार करवाता है. थिओफिलिआ के वजह से कोई भी धर्म का भक्त और दो प्रमुख बीमारी का शिकार होता है; एक है, धार्मिक जगह के वातावरण की लत (Religious place ambience addiction) और दुशरा है धार्मिक प्रथाओं की लत(Religious practices addition). भक्त किसी भी धर्म का हो या किसी हि भी तरह की भगवान को माने दरअसल वह मानसिक बीमार ही होता है; और भगवान को अपने मनकी दवाकि तरह इस्तेमाल करता है. मन स्वस्थ रहने से सरीर के कई बीमारी दूर हो जाता है और बीमारी दूर होनेमे ये अंधविस्वाश भी काम करता है, लेकिन इस मन की दवा हर बीमार की इलाज नहीं होता है; जबकि उसकी डिमेरिट्स कई है. मन को केवल भगवान की लत से स्वस्थ रखा नहीं जा सकता; मन को स्वस्थ रखने केलिए हजारों उपाय हैं और हजारों उपाय निकाला जा सकते हैं; इसलिए किसी अंध और काल्पनिक सोच की सहारा लेना ना केवल मूर्खता है, ये एक तरह की पागलपन की बीमारी है. हर जिव धरती में जीने केलिए ही पैदा हुआ है. जहाँ जीवन है वहाँ संघर्ष है, जहाँ संघर्ष है वहाँ प्रोब्लेम्स यानि दुःख भी है. प्रोब्लेम्स यानि दुखों से बचने केलिए चीजों की सही होने का “आशा” ही असलियत में अन्धबिश्वाशी इंसान को भगवान को बिश्वाश करने केलिए मजबूर करता है. अगर उसको भगवान की ज्ञान नहीं होता यहाँ बस HOPE यानि आशा ही उसकी जरुरत होती; ये “HOPE” यानि “आशा” ही जिन्दगीको आगे बढ़ाता है; और यही आशा यानि “HOPE” हम जीवित या निर्जीव एनएटीट्योंसे प्रैक्टिकली आशा कर सकते हैं. HOPE आप किसीसे भी कर सकते हो जो आप की मदद करने की क़ाबलियत रखता हो; जो की चान्सेस के ऊपर भी निर्भर है. जितने ज्यादा हेल्पिंग हैंड्स बनेगे उतने ही ज्यादा हेल्प पाने की उम्मीद बनपायेगी. इसलिए भगवान को छोड़ आप एक दुषरे केलिए कितने मददगार हैं और आप की बल, बुद्धि और विचार किसका कितने काम आ सकता है वही सक्ति ही सेवा या हेल्प या आशा की निम्ब है. अंध भक्त से अच्छा HOPE का अनुयाई बने और आप खुद ही दुषरे केलिए HOPE बने; और किसीकी होप यानि आशा के काबिल बनने केलिए अपने आप को अच्छी स्तर के बल, बुद्धि, विबेक और बिचारवान अच्छी इंसान बनना जरुरी है. धूर्त्तों का बनाया काल्पनिक दुनियाकी भगवान जहाँ मन की दवा बेचा जाता हो उन धूर्त्तों से बचें.

(Ignore typing and grammatical mistakes)

Posted in Uncategorized | Tagged | Leave a comment

थीओफिलिआ (Theophilia)

गेब्रियल को यहूदी धर्म, इस्लाम, बहाई विश्वास, और अधिकांश ईसाईयों द्वारा प्रधान देवदूत (archangels) के रूप में पहचाना जाता है । कुछ प्रोटेस्टेंट माइकल को एकमात्र महादूत होने का मानते हैं । गैब्रियल, माइकल और राफेल को रोमन कैथोलिक चर्च में पूजा की जाती है । इस्लाम में नामित आर्कांगल्स/प्रधान देवदूत गेब्रियल/जिब्राइल(Gabriel/Jibra’il), माइकल(Michael), इस्राफिल(Israfil) और अज़राइल(Azrael) हैं । यहूदी साहित्य, जैसे कि “एनोक की किताब(Book of Enoch),” मेटाट्रॉन(Metatron) को एक महादूत(archangel) के भी उल्लेख करती है, जिसे “स्वर्गदूतों का सर्वोच्च(highest of the angels)” कहा जाता है, हालांकि इस देवदूत की स्वीकृति सभी शाखाओं में कैनोनिकल(canonical) नहीं है ।

हिब्रू के मान्यता के अनुसार गेब्रियल, ‘गेब्री’एल(Gavri’el)’ का मतलब “भगवान मेरी शक्ति है”, प्राचीन ग्रीक, कॉप्टिक, अरामाईक और अब्राहमिक धर्मों में, गेब्रियल एक महादूत है जो आम तौर पर भगवान के दूत के रूप में कार्य करता है । यहूदी ग्रंथों में, गेब्रियल अपने दृष्टान्तों को समझाने के लिए पैगंबर दानिय्येल(Daniel) को प्रकट करता है (दानिय्येल 8: 15-26, 9: 21-27) । गेब्रियल महादूत भी अन्य प्राचीन यहूदी लेखनों में एक चरित्र है जैसे कि एनोक की किताब (Book of Enoch) में ।

क्रिस्टियन न्यू टेस्टामेंट के “लूक की गॉस्पेल(Gospel of Luke)” में, देवदूत गेब्रियल जकर्याह(Zechariah) और वर्जिन मैरी के सामने दिखाई देते है, जो क्रमशः जॉन द बैपटिस्ट और यीशु के जन्म की भविष्यवाणी करते है (ल्यूक 1: 11-38)। एंग्लिकन, पूर्वी रूढ़िवादी और रोमन कैथोलिक समेत कई ईसाई परंपराओं में, गेब्रियल को संत के रूप में भी जाना जाता है । इस्लाम में, गेब्रियल एक महादूत है जिसे भगवान(Allah) ने मुहम्मद समेत विभिन्न भविष्यद्वक्ताओं/नबी(prophets) के प्रकाशन केलिए भेजा था । मुसलमानों का मानना है कि, कुरान के 96 वें अध्याय के पहले 5 छंद, गेब्रियल द्वारा मुहम्मद को प्रकट किए गए ।

क्यों की भगवान विश्वासियों के मान्यता के अनुसार आदमी मरने के बाद ही स्वर्ग जाता है, जिन्दा होते हुए कोई स्वर्ग के लोगों का साथ बातचित करना क्या आपको तार्किक लगता है? जो कुछ क्रियासील है लोगों की मानना है की उसमे आत्मा है; अबतो कार, टीवी जैसे साधन या कंप्यूटर को भी लेलो या रॉबर्ट सब क्रियाशील है क्या उनमे आत्मा बसते हैं? तो वह फिर कैसे काम करते है? उनके डेस्ट्रक्शन के बाद उनकी आत्मा भटकती होगी या वह भी स्वर्ग और नर्क जाते होंगे? सायद जिस टीवी में ज्यादा भगवान की सिरिएल और प्रवचन दिखे गए होंगे वह सब स्वर्ग जायेंगे और जिस में पॉर्न(porns) और ब्लू पिक्चर्स दिखे गए होंगे वह सब नर्क । अगर एक इंसान मरने का बाद ही स्वर्ग या नर्क जाता है तो वह कौनसा पहला इंसान है जो मरने के बाद फिरसे जिन्दा होकर कहा की में स्वर्ग या नर्क से होकर आया हूँ? क्यों की स्वर्ग हो या नर्क का जानकरि केलिए मरना जरुरी है, इसलिए स्वर्ग या नर्क का पूर्ति कोई भी नहीं कर सकता; इसलिए ये एक सफ़ेद झूठ है । अगर मान भी लेते आत्मा दीखता नहीं जैसे मरे हुए आदमी एक जड़ है और जब वह जिन्दा था उसका अंदर आत्मा था और वही आत्मा स्वर्ग जाता है; क्या वह सरीर के साथ जाता है? यहाँ पर में आप को साफ़ साफ़ बता दूँ आत्मा फात्मा कुछ नहीं होता हर स्पेसिस एक बायोलॉजिकल एंटिटी ही होता है जो पानी और खाना से चलता है या साँस यानी हवा पानी और खाना से चलता है, पानी, साँस और खाना बंद करदो बायोलॉजिकल एंटिटी खुद बा खुद बंद हो जायेगा यानि उसकी डेथ हो जाएगी; इसमें से किसी एक को लम्बे समय तक बंद करदो उसकी भी मौत तय है; अगर आपकी भगवान भी इन चीजों में चलता है उसकी भी अगर ये बंद कर दिया जाये वह भी मर जाएंगे कोई चमत्कार उन्हें बचा नहीं सकता; भगवान की भगवान भी उससे बचा नहीं सकता । आज तक कभी आपने स्वर्ग में बशने वाले लोगों के साथ जिन्दा इंसान बात करते कभी सुना है? स्वर्ग और नर्क एक सबसे गन्दी झूठ है । मान्यता के अनुसार आपके किये हुए अच्छे या बुरे कर्म तय करते हैं उसकी आत्मा स्वर्ग जायेगा या नर्क । यहां साफ़ साफ़ कहा गया है की जो धर्म स्वर्ग या नर्क में विस्वाश करते हैं बस आदमी का आत्मा ही स्वर्ग या नर्क जाता है । यहीं लोगों की तर्क अंधापन है, वह है आत्मा । कभी किसीने आत्मा देखि है? अपने कभी दूसरे जानवर जो हमारे आसपास रहते हैं उनकी आत्मा देखि है? जिव जबतक जिन्दा है तबतक वह सोच सकता है और कुछ भी क्रिया कर सकता है जब मरजाये तो ना वह सोच सकता है ना कोई क्रिया कर सकता है । मरने के बाद उसकी कोई भी इन्द्रिय यानि सेंसेस(senses) काम नहीं करता; अगर इन्द्रिय यानि सेंसेस(senses) काम ही नहीं करेंगे तो उसकी सरीर को पीड़ा हो या इन्द्रिय आनंद (pain and pleasure) कभी भी अनुभव यानि फील कर ही नहीं पायेगा । जब आदमी मरता है तो उनके मान्यता के अनुसार आत्मा स्वर्ग या नर्क जाता है सरीर नहीं; तो नर्क में तेल की कढ़ाई में फ्राई हो या परियों के साथ प्रणय हो उसकी पीड़ा या इन्द्रिय आनंद केलिए जब आपकी इन्द्रियां ही नहीं होंगे तो आप को जो भी मिले उससे आपको कोई फर्क नहीं पड़ेगा इसलिए इसको मानने वाले तर्क अंध और बेवकूफ है । अगर आप अच्छा सोचते हो अच्छा कर्म करते हो जिससे आप आपके साथ साथ दूसरों की जीवन में खुशियां लाते हो वही असली स्वर्ग है अगर आपकी बुरे कर्म खुदकी जिंदगी को दुख देनेका साथ साथ दूसरों को भी दुख दे तो वह नर्क है । अच्छे सोच और अच्छी कर्म यानी सत् कर्म ही असली धर्म है; ना की अंधविश्वास, अज्ञानता, आपराधिक हिंसा, गंदी और संकीर्णता इत्यादि बुरे सोच और कुकर्म करके भगवान के नाम पे माफ़ी मांगो या भगवान के नामपे कुकर्म करते चलो वह धर्म है; दरअसल वै धर्म नहीं कुकर्म और कुधर्म है । भगवान धार्मिक होनेसे अच्छा एक अच्छी इंसान होना काफी है । असलियत में स्वर्ग और नर्क सबसे बड़ा झूठ और धोका है । अगर स्वर्ग और नर्क ही नहीं भगवान के दूत कहां से पैदा होंगे? इसलिए भगवान की दूत की पहचान(identity) भी सफ़ेद झूठ है । इसलिए गेब्रियल पहचान ही झूठ है । कहना का मतलब गेब्रियल के नाम पे कहे गए सभी तथ्य उनके नाम पे लेकर कहागया; इसका मतलब क़ुरान मुहम्मद की खुदकी बनाई गयी सोच है अल्लाह की नहीं । अगर गेब्रियल अल्लाह की दूत थे तो ये साफ़ है की मुहम्मद ने गेब्रियल के नाम पर सफ़ेद झूठ बोला, या अगर सच में मुहम्मद ने गेब्रियल देखि तो वह मोनोबिज्ञान के हिसाब से मानसिक बीमार थे; क्यों के आदमीको जब अनजान लोगों की बातें सुनाई देता है जिसको उसके सिवा किसी और को दिखाई नहीं देता वह एक तरह की मानसिक बीमारी है; मोनोबिज्ञान के हिसाब से जब कोई एंटिटी को किसी एक ब्यक्ति ही उसको सुन सके और देख सके जिसका कोई फिजिकल एक्सिस्टेंस ही न हो उसको मानसिक बिकृति कहते है ।

प्रोफेट मुहम्मद 570AD में पैदा हुए और जब उनको ४० साल हुआ तो वह अपनी बनायीं गयी धर्म की और मोड़े । उन्होंने चालिश की उम्र में “हिरा के गुफा” में अल्लाह की दूत गेब्रियल से बात किया करते थे जिससे की इस्लाम धर्म पैदा हुआ । इसका मतलब चालीस साल तक वह गैर मुस्लिम थे और काबा की ३६० मुर्तिबाद की अनुयाई थे जिसको उन्होंने इस्लाम बनने का बाद 630AD में तोडा । प्रोफेट मुहम्मद ने आपने पूर्वजों का आस्थाओं की हत्या किया था । अगर इस्लाम हिरा की गुफा में पैदा हुआ तो वहां इस्लाम की पहचान होना चाहिए ना की जहाँ ३६० मूर्त्तियों को ध्वश्त किया गया वह काबा में होना चाहीये । अगर आप प्रोफेट मुहम्मद की जीवनी पढ़ेंगे, तो आप को साफ़ साफ़ पता चल जायेगा जब वह गैर मुस्लमान थे (40years) तब वह कोई भी हिंसा नहीं किया; लेकिन मुस्लमान यानि अपनी बनाईगई इस्लाम धर्म बनाने का बाद वह बाकि के २२ साल as a Muslim अल्लाह की नाम पर हिंसा और कई तरह की अपराध किये । ना प्रोफेट मुहम्मद की माता पिता अमीना और अब्दुल्लाह मुस्लिम थे ना उनकी दादा जी और मामा अब्दुल-मुत्तलिब और अबू तालिब मुस्लिम थे; ये भी कंट्रोवर्सी है मुहम्मद अपने बापकी नहीं दादाजी अब्दुल-मुत्तलिब की बेटे थे । इण्डिया में जिन मुगलों ने इस्लाम ज्यादा फैलाई उनके पूर्वज जंगहिस खान और उनके बेटे ओगेडेइ खान, जोचि खान, तोलुइ और चगताई खान मुस्लिम नहीं थे बल्कि टेंगरिजिम का अनुयायी थे । जंगहिस खान(Genghis Khan) सीधे यहूदी और मुस्लिम को अपना दास कहा । चागताई खान के वंशधर इस्लाम कबुली और उनके वंशज ही इंडिया में इस्लाम को ज्यादा फैलाया जब की ओगेडेइ खान की कोडेन यानि गोदान खान और कुबुलाई खान बौद्ध धर्म अपनाया और चीन में उसकी प्रसार किया । प्रोफेट मुहम्मद को अपने कुकर्म की सजा मिली और इस्लाम स्कोलार शेख यासेर अल-हबीब के अनुसार वह अपने प्यारी बीवियां आइसा और हप्सा जिन के पिता अबू बक्र और उमर थे, जो प्रोफेट मुहम्मद की दोस्त और ससुर भी थे उनकी हत्या की साजिस रची और जेहेर देकर मार डाला; इसलिए वह कोई ज्यूस(Jews) औरत से नहीं मरे, बल्कि अपने ही करीबी लोगों के द्वारा हत्या किये गये ।

अमेरिकन साइकियाट्रिक एसोसिएशन का “डायग्नोस्टिक एंड स्टैटिस्टिकल मैन्युअल ऑफ़ मेन्टल डिसऑर्डर्स (डी.एसएम्) Diagnostic and Statistical Manual of Mental Disorders (DSM)” के अनुसार प्रोफेट मुहम्मद को कई तरह की मानसिक बीमारी थी । उन्होंने २५ साल की उम्र में आपने से १५ साल बड़ी ४० साल की औरत खादिजा(Khadijah) से सादी किया जो की “डी.एस.एम्” के अनुसार अनिलीलाग्निआ (Anililagnia) मानसिक बिकृति है । ४० साल की उम्र में उनको हिरा की गुफा में angel Gabriel यानि महादूत गेब्रियल दिखाई देते थे जिसने अल्लाह और इस्लाम के बारे में मुहम्मद को बताया जो आज तक मुहम्मद के सिबा किसी और को दिखाई नहीं दिया ना कभी दिखाई देगा जो की एक भ्रम की बीमारी है और साइकियाट्रि में इसको स्किज़ोफ्रेनिआ (Schizophrenia) कहते हैं । पहले बीवी खादिजा मरने के बाद उनहोंने कई औरत से सादी किया कुछ इस्लामिक स्कोलार जैसे अली दश्ती ३० से ज्यादा बीवी होने का दावा करते हैं । मुहम्मद की सबसे छोटी उम्र की बीवी आइशा(Aisha) थी; जब मुहम्मद 52 वर्ष के थे तब उसे केवल 6 साल की उम्र में मंगनी हो गई और 8 से 9 साल की उम्र में विवाह को समाप्त कर दिया गया । इतनी कम उम्र की लड़की से सेक्सुअल आकर्षण को डी.एस.एम् में पेडोफिलिआ(Pedophilia) बिकृति कहाजाता है । प्रोफेट मुहम्मद ने आपने पूर्वजों का आस्थाओं की हत्या किया था; आपने धर्म को फ़ैलाने केलिए उन्होंने आपने कबीले की नरसंहार की जो की एक आपराधिक कृत्य है और साइकियाट्रिक में इसको ASPD यानि Antisocial personality disorder अर्थात असामाजिक व्यक्तित्व विकार कहते हैं । उन्होंने आपनी आंटी की लास के साथ सेक्स किया जो की डी.एस.एम् की पाराफिलिआ(paraphilia) के अनुसार नेक्रोफिलिआ (Necrophilia) मानसिक बिकृति है । मोहम्मद ने अपने बेटे की पत्नी जैनब के साथ शादी भी कीया था । कुरान के मुताबिक, मुहम्मद अशिक्षित भी थे । इस तरह अगर आप गिनते जाओगे तो प्रोफेट मुहम्मद पैगम्बर कम मानसिक बिकृत ज्यादा लगेंगे ।

इस लेख का ये उद्देस्य है की इंडियन, पाकिस्तान और बांग्लादेश में पाए जानेवाले ९७% से ज्यादा मुसलमान इस भूखंड का ही मूल निवासी है । जिनके मातृभाषा कभी, अब वे जिस जमीं से जुड़े हुए है और अगर उनकी पूर्वज कभी खंडित भूखंड को विस्थापित नहीं हुए थे उसी भाषीय सभ्यता की ही मूलनिवासी हैं जो 700AD के बाद इस्लाम जब इस भूखंड में आया उसके बाद इस्लाम धर्म को कई कारणों केलिए कबुली है । इसका मतलब गुजरात में दिखने वाले मुसलमान गुजराती भाषिय सभ्यता से हैं और महाराष्ट्र में दिखने वाले मुस्लिम मराठी हैं इत्यादि इत्यादि । समय के साथ इस विशाल भूखंड कई धर्म के चपेट में आया और यहाँ के मूलनिवासी उसी धर्म के चपेट में घुलते गए; 263BC से 185BC तक यहांकी प्रमुख धर्म बुद्धिजीम था । 185BC के बाद वर्णवाद यानि वैदिक धर्म के चपेट मैं आया और यहाँ की मूलनिवासी चार वर्ण में बंट गए । ब्राह्मणबाद बौद्ध धर्म को अपभ्रंस और ख़तम करनेकी कोई कसर नहीं छोड़ी । जब 33AD में ईसाई धर्म पैदा हुआ इंडिया में उसकी प्रसार कुछ भी नहीं था क्यों की कोई इस धर्म को जोर जबरदस्ती या प्रलोभन दिखाके इम्प्लीमेंट करने की कोसिस नहीं की; लेकिन 700AD के बाद जब इस्लाम इस भूखंड में आया ये ज्यादा फैला और इस भूखंड का सेकंड मेजर धर्म बनगया । वर्ण बाद के वजह से कई भाषिय सभ्यता चार वर्ण में बंट ने कारण शूद्र का बर्ग ज्यादा बनगया था । मनुवाद यानि वैदिक चार वर्ण की हिसाब से पुजारी, राजा और ब्योपारी की संख्या गैर पुजारी, गैर राजा और गैर ब्यापारियों बृत्ति से बहुत कम थी; धूर्त वर्णवादियों ने पुजारी, राजा और ब्योपारी को अगड़ी बर्ग बना डाला और वर्किंग यानि श्रमिक श्रेणी को शूद्र यानि अगड़ी बर्ग का गुलाम यानि पिछड़ी वर्ग बना डाला जिसे की शूद्र यानि पिछड़ी वर्ग कभी अगड़ी बर्ग बन न पाये इसलिए नाम के पीछे उनके बृत्ति के सरनेम लगाके बृत्ति की सरंक्षण की और फ्रीडम ऑफ़ प्रोफेशन को ब्यान किया । शूद्र की प्रोटेस्ट को दबाया गया इसलिए ज़्यदातर शूद्र ही इस्लाम कबुल लिया, इसका मतलब ये नहीं की दूसरे वर्ण या अन्य धर्म मानने वाले लोग इस्लाम कबुली नहीं होगी । कुछ मुस्लमान राजाओं ने जबरदस्ती मूलनिवासियों को मुसलमान भी बनाया । ३% से भी कम invader मुस्लिम्स ज्यादातर आपने देश नहीं लौटे और यहाँ बस गए; इसका मतलब इस भूखंड की संकरीकरण से उनकी सत्ता इस भूखंड में ही विलीन हो गया लेकिन उनकी लायी गयी धर्म आज तक एक बड़ी प्रॉब्लम हो गयी है जिसके वजह से अखंड भूखंड तीन भूखंड में यानि पाकिस्तान, इंडिया और बांग्लादेश में बंट गया । यहाँ के लोग इतनी मुर्ख है की उनकी साधारण ज्ञान ही नहीं । क्या कोई आरबीक लोग जिन्होंने इस्लाम धर्म बनाई कभी उर्दू या हिंदी में बात करते देखा है? या बांग्लादेश की मुसलमानों का क्या इतना ज्ञान नहीं अरब में कोई बंगाली में बात नहीं करता? अगर उनको आपकी मातृ भाषा की इल्म ही नहीं आप लोग अरबी भाषा की इतने भूखे क्यों हो? अगर कोई भगवान है उसको केवल आरबिक या संस्कृत भाषा ही क्यों पसंद है? किसी भगवान को आरबिक या संस्कृत भाषा में संबाद करने के पीछे राज क्या है? अगर आपकी भगवान केवल आरबी जानता हो तो क्या ग्यारंटी है गैर आरबिक भाषा वाले मुसलमानों की बात वह समझ पा रहा होगा? मुसलमान आपने ही भाषा में नमाज क्यों नहीं पढ़ते? गूगल ट्रांसलेटर भी आरबिक से दूसरे लैंग्वेज को ट्रांसलेट करलेता है; बंगाली मुस्लिम बंगाली में नमाज़ नहीं पढ़के आरबीक में पढ़ने का क्या जरुरत? इसका मतलब साफ़ है की उनके पूर्वज कभी social existence केलिए धर्म को जबरन कबूला था आपने स्व इच्छासे नहीं; तो इस्लाम केलिए इतना कट्टरपंथी क्यों? क्या ये एक पागलपन या मानसिक विकृति नहीं है? इससे ये साबित हो जाता है की गैर आरबिक भाषीय लोग बस आरबिक सोच यानि इस्लाम को आपने सोसियल एक्जीस्टेंस केलिए बिकल्प की तौर पर चुना था। ये भी सच है एक धर्म के साथ दूसरे धर्म की मत भेद रहता है और उसकी रिजल्ट हिंसा से भी होता है यानि दंगे, झगडे और मौत एक आम बात है । ये झगडे इसलिए होते हैं की उनके स्क्रिप्चर उनके दिमाग को कट्टर बनाता है; स्क्रिप्चर के सब्द उनको ये करने में प्रेरणा या मजबूर करते हैं । जो धर्म बनाये थे उनकी अब एक्जीस्टेंस नहीं है; सीबाये उनके सोच के, उनकी भगवान की तो पता नहीं क्यों की रियल वर्ल्ड की झगडे में किसीके भगवान उनको बचाने नहीं आते; तो एक सोच जो एक जेनेरेशन से दूसरे जेनेरेशन को ट्रांसफर होता है जो की रिसाईटेसन के मध्यमसे हो या किसी और तरह की कम्युनिकेशन की माध्यमसे हो, वह ही इस सब सामाजिक इविल्स(evils) का जड़ होता है । और इस सोच को रन करनेवाले ही असली गुनेहगार होते हैं । क्यों की इस्लाम एक बार कबूलनेके बाद उससे निकलना मुश्किल है यानी अपोस्टसी और कन्वर्शन के लिए सजाए मौत है ये एक तरह की सोच की ट्रैप ही है । जो एक बार इसका चंगुल में फंसा उससे निकलना नामुमकिन की बराबर ही है जिसलिये अब तक हमारे ही भूखंड के ज्यादातर मूलनिवासी वैदिक ट्रैप से बचने के लिए इस्लाम ट्रेप में 700AD से आज तक फंसे हुए हैं । और कुरान की कट्टर सोच उनकी दिमाग को नियंत्रण करता आ रहा है । नागरी/नगरी भाषा(नगर की भाषा) को वैदिक वाले “देव ‘ नागरी=देवनागरी” बना डाला और इस्लाम आनेका बाद इसका नामकारण “हिंदी” हो गया; इस्लाम राजाओं ने इसके साथ कुछ पर्शियन और आरबीक सब्द मिलाके इसका नाम उर्दू रखा दिया और इसके लिपि को आरबीक लेटर्स से प्रेरित होकर बना डाला और मदरसे के माध्यमसे हर भाषिय सभ्यता की मुसलमानों की भाषा उर्दू बना दिया ।

अगर इंसान की मौत कोई बीमारिसे होता है उसकी कारण डिस्फंक्शन ऑफ़ ऑर्गन्स (dysfunction of organs) या वाइरस(virus) या बैक्टीरिया(bacteria) जैसे चीज उसके कारण होता है; वेसे ही अगर एक सोच सामाजिक बुराइयां या इविल्स का कारण हो जाता है, और तो और मौत की कारण भी होता है, इसके पीछे जो सोच या मानसिकता इसका कारण है उसको हम क्यों उस मौत या सामाजिक बुराइयां का कारण नहीं मानेंगे? जैसे बीमारी का कारण होता है, वेसे ही जिस सोच की बजह उनके अंध भगवान प्रेम है, उसको हम एक बीमारी क्यों नहीं कह सकते? इसलिए थेओ(Theo) यानि गॉड/गॉडस यानि भगवान या भगवान से संबधित, और फिलिआ(philia) यानि एब्नार्मल(abnormal) लव तथा अंधा प्रेम जिसका कोई कारण या कारण होना जरूरी नहीं है जिसको हम थीओफिलिआ(Theophilia) बीमारी कह सकते हैं । थीओफिलिआ (Theophilia) का मतलब भगवान की सोच से उत्पन्न मानसिक विकृति है; जिसका जागरूकता(awareness) लोगों को होना चाहिए जो की मानवता के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक मानसिक बीमारी है । यहां की बहु भाषीय मुलनिवाशी जिनलोगों की पूर्वजों ने 700AD के बाद इस्लाम अपनाया इनका आरब भूखंड से कोई रिश्ता नहीं लेकिन यहाँ पैदा हुए हर बच्चे के दिमाग में उनके स्क्रिप्चर में लिखे गए एंटिटी की बाईओलॉजिकल काल्पनिक एंटिटी उनके दिमाग के अंदर पीढ़ी दर पीढ़ी सम्बाद के माध्यम से पैदा किया जाता है और उस एंटिटी के साथ सेंटीमेंटल और इमोशनल सम्बद्ध पैदा किये जाते हैं जो की असलियत में एक्जिस्ट ही नहीं करता और उसकी सेंटीमेंटल डिस्टर्बैंसेस से वह रियेक्ट और इन्टॉलरेंट भी हो जाता है, यही है थीओफिलिआ की असली लक्षण यानी जो एक्जिस्ट ही नहीं करता उसकेलिये लोग मरने और मारने पर उतर आते हैं; इसको हम पागलपन या मानसिक विकृति नहीं कहेंगे तो क्या कहेंगे? इसको हम भगवान की लत (God Addiction) भी कह सकते हैं । क्यों की ३ मेजर रिलिजियन ईसाई, इस्लाम और हिन्दुइजम मानव जाति और मानवता को विभाजन करते आ रहे है, और बिना परिसीमा के एक एक तरह की धर्म की साम्राज्य चला रहे है; जो की भविष्य में अपने भीड़(crowd) बढ़ाने की चक्कर में एक दूसरे से लड़ कर मानव दौड़(Mankind) का विनाश की कारण बन सकते हैं ।

धर्म की लड़ाई करने से पहले इन लोगों की उनकी धर्म की बेसिक्स तो पता होना चाहिए? लेकिन उनको बेसिक तो पता नहीं आपने धर्म की लिखी ज्ञान की पांडित्य दिखाते फिरते हैं । धर्म के वजह से हमारा भूखंड हमेशा पिछड़ा रहा और अगर इन अंधे भक्तों का आँख ना खुले, सदियों पिछड़ा ही रहेगा । थीओफिलिआ (Theophilia) यानी God Addiction अर्थात भगवान की लत के कारण धर्म से जुड़ी आतंकवाद और अतिवाद (extremism) पैदा होता है जो की मानबता के लिए खतरा है । वेबसाइट का काम सोये हूए को जगाना है, अगर आप जागतेहुए सोया हो तो आप सोसिओपैथ हो और समाज केलिए सबसे ज्यादा खतरनाक हो जिसकी निदान या खात्मा जरुरी है ।

NB: यदि आपको कोई टाइपिंग और व्याकरण संबंधी गलतियां मिलती हैं तो इसे स्वयं सही करें । (If you found any typing and grammatical mistakes correct it yourself.)

आप को एक अनुरोध है; आप ईस्वर विश्वासी यानी ईस्वर आस्तिक बनने से अच्छा स्वस्तिक/स्वास्तिक(स्व+आस्तिक)  बने यानी आपने आप पर विश्वास करे; आपने दिमाग की मालिक आप खुद ही बने, न की किसी एक काल्पनिक एंटिटी के नाम पर दूसरों को अपने दिमाग को कंट्रोल करने दें, जो लोग खुद की और अपने संगठित लाभ के लिए उनके अनुनायियों की मानसिक स्वास्थ्य का परवा नहीं करते और उनको सदियों मुर्ख और तर्क अंध बनाये रखकर अपने स्वार्थ के लिए उनका इस्तेमाल करना चाहते हैं । जो इस्लाम धर्म क़बूली हैं 610AD से पहले वह सब गैर-इसलामी थे; वैसे प्रोफेट मुहम्मद भी 610AD से पहले मुस्लिम नहीं थे । इंडिया में जो इस्लाम अनुयायी दीखते हैं उनके पूर्वज 700AD से पहले गैर इस्लाम ही थे । क्यों की वह अब इसलामी है, उनके दिमाग को अल्लाह की एंटिटी से कंट्रोल किया जाता है; अगर इस्लाम धर्म मानने वाला ईसाई धर्म क़बूल लें, तो यीशु के नाम पे दिमाग को कंट्रोल किया जायेगा; अगर हिन्दू धर्म अपना लें तो ३३ करोड़ भगवान के नाम पे उनके दिमाग को कंट्रोल किया जायेगा यानी कुछ लोग हैं जो की भगवान के नाम पे उन की दिमाग को कंट्रोल करना चाहते है; और जो भी धर्म आप अपनाए आप अपनी नहीं उनके दिमाग की दिखाई गए रास्ते पे चलते है; इसलिए उनके गुलाम हैं भगवान की नहीं; भगवान की नाम एक माध्यम है । आप जो भी धर्म अपना लें आपकी दिमाग उनका गुलाम ही रहेगा और उनकी कही गयी रास्ते पे आप चलोगे; धर्म परिवर्तन से बस अपने दिमाग कंट्रोल करने वाले मालिक बदलते हैं । इसलिए धर्म एक तरह की स्पिरिचुअल स्लेवरी(Spiritual Slavery) है । हर धर्म इंसान की दिमागों को भगवान के नाम पे गुलाम करने का तरीका है जिससे धर्म की मैनेजर्स यानी धर्म को चलाने वाले अपने बनाया गया भीड़ से तरह तरह की संगठित लाभ उठाते हैं । कोई भी धर्म के बनाने वाले और उनको चलानेवाले हमेशा सोसिअल कनफेरमिटी (Conformity) को अपने स्वार्थ के लिए गलत इस्तेमाल किया है । इसलिए कृपया आप खुद ही खुद की दिमाग की मालिक बने । आप की आस्था किसी काल्पनिक एंटिटी के ऊपर नहीं सत्य, ज्ञान और विज्ञान यानी सद् बुद्धि, तर्क, प्रेम, करुणा, सेवा, अहिंसा, मानवता और स्वस्थ जीवनके ऊपर होना चाहिए । आपने बल और बुद्धि को हिंसा में अपने सुरक्षा के लिए हि उपयोग करे न की किसी दूसरे के नुकसान के लिए । सरल अर्थ में, जब आप अपना बल और बुद्धि अपने सुरक्षा या जीने की संघर्ष के लिए इस्तेमाल करते हो उस को सेल्फ एक्जिस्टेन्स और सेल्फ डिफेंस यानी आत्मरक्षा कहते हैं लेकिन जब वही बल और बुद्धि आप अपने लोभ, क्रोध, ईर्सा या अपने स्वार्थ के कारण खुद को और दूसरों को हानि पहुँचा ने के लिए करते हो उस को अपराध कहते हैं । अपना जीवन की सुरक्षा एक प्राकृतिक अधिकार है इस के लिए किसी किताब में लिखी नैतिकता, किसी ज्ञानी से या गुरु से कहा गया नैतिकता या किसी देश की नियम को जानना जरूरी नहीं । और जहाँ तक भगवान की बात है, आप की पूर्वज न कभी भगवान को देखे थे, न आप अपने जीवित रहते देख पाएंगे , ना भविष्य में आप के पीढ़ियां कभी भगवान को देख पाएंगे, ये जरूर है अगर आप की आस्था सांइंस एंड रीजनिंग में हो उस को एक दिन ढूंढ पाएंगे ये सच है या गलत है और उसको समझ पाएंगे । एक दिन सच जान ने का वाद भी आप ये फेथ, आप छोड़ नहीं पायंगे क्यों की ये फेथ एक दिन में आप की दिमाग में नहीं बना इसलिए जो अंधविश्वास अभ्यास में परिवर्तित हो जाये उससे छोड़ना इतना आसान नहीं होता जो की थीओफिलिआ का लक्षण है । प्रोफेट मुहम्मद ने एंजेल गेब्रियल/जिब्राइल को देखा था इसका कोई प्रमाण नहीं, वह कैसे दीखते थे उसका भी कोई कुरान में लेख नहीं; गेब्रियल/जिब्राइल अल्लाह की वारे में कुछ भी वैसे विस्तार जानकारी नहीं दी बस कहा अल्लाह ही एक भगवान है जो दीखता नहीं पर है, और सबसे बड़ा ताक़तवर है जो दुनिया बनाया और दुनिया का रखवाला है । गेब्रियल/जिब्राइल को प्रोफेट मुहम्मद दिख गए की मुझे इस इंसान को अल्लाह की वारे में कहना है लेकिन जिसके वारे में कहा वह अल्लाह क्यों नहीं दिखा? अगर नहीं दिखा तो गेब्रियल/जिब्राइल को कैसे पता चला की अल्लाह है? कुछ देर के लिए मान भी लेते हैं जैसे अंधा आदमी अहसास कर सकता है लेकिन देख नहीं पाता वैसे गेब्रियल/जिब्राइल कभी नहीं कहा के इस इस कारण से उनको पाता चला या अहसास हुआ के अल्लाह का एक्जिस्टेन्स इस कारण से पता चला । ये अहसास ठीक उसी तरह की है जैसे किसी इंसान को एक काली रात में एक काली बिल्ली का अहसास होना जो की जन्मजात से अंधा और बहरा है, जिसने ना कभी काली बिल्ली को देखा है ना उसकी आवाज सुनी है फिर भी उस को उसकी अहसास है । अगर अल्लाह एक एंटिटी नहीं है लोग हज करने काबा क्यों जाते हैं और काबा के सामने सर झुका ने के पीछे क्या लॉजिक हैं? प्रोफेट मुहम्मद के क्या क्या ऐसे अच्छे गुण थे जो अल्लाह ने उनको ही अपने वारे में बोलने के लिए चुना? चालिस साल तक तो वह कोई संत या भक्त होने का कोई पुख़्ता प्रमाण आपको नहीं मिलेगा । वैसे कहने को हम कुछ भी कह सकते है । हम ये भी कह सकते यूनिवर्स या जो भी कुछ देखते हो, अहसास करते हो ये सब एक मेंढक/कुत्ता/बिल्ली… ने बनाया जो सबसे बड़ा ताक़तवर है, जो सर्वव्यापी है कोई इससे देख नहीं सकता, उस को बस अहसास कर सकते हो, जिसका रूप भी नहीं है न आप उसकी वारे में कल्पना कर सकते हो, उनके वारे में जानना इंसान की दिमाग का बस में नहीं, वह सबसे दयालु, सबसे बड़ा, सबसे शानदार, परम सत्य, अनंत भगवान, पालन कर्त्ता, संहार कर्त्ता और शांति का स्रोत है इत्यादि इत्यादि… जो की शब्द का सक्ति है जिससे कोई इंसानी दिमाग उस एंटिटी का अपने दिमाग में एक आयाम बना लेता है जो की इंसानी क्षमता है; इसका मतलब ये नहीं की वह एंटिटी रियलिटी में एक्सिस्ट करता है; हाँ ये जरूर है काल्पनिक एक्सिस्टेंस पैदा होजाता है । वैसे इंसान कितने काल्पनिक चरित्र बनाये जैसे स्पाइडर मैन, ही मैन, मिकी माउस इत्यादि इत्यादि लेकिन वह बस एक काल्पनिक चरित्र ही हैं । चरित्र काल्पनिक हो या असली उसकी हमेशा लोगों की दिमाग के ऊपर असर रहता है और आप जैसे असर डालने के लिए प्रोग्रामिंग करोगे उसका असर भी लोगों की ऊपर वैसे होगा । यहाँ सोसिअल नर्म प्रोग्रामिंग (Social norms programming) करनेवला की नियत क्या है उस को आप को अहसास करना पड़ेगा, बद नियत वालों को आप को नकारना पड़ेगा नहीं तो बस धर्म के नाम पे आप को दुःख ही मिलेंगे । असली चरित्र यानी कोई चरित्र अगर एक दिन पैदा हुआ था और दुनिया के लिए उसकी कुछ सोच और ऐक्शन अच्छे या बुरा था वह मरने का वाद कल्पना के बराबर ही है । एक बार एक चरित्र कल्पना या मैमोरी हो जाये उस चरित्र सच हो या झूठ उसके किये गए नफरत या कुकर्म या गंदे और बुरे विचार को प्रमोट करना या आगे बढ़ाना हमेशा घातक ही होता है । दरअसल अल्लाह या हुब्बुल अरब के सबसे ज्यादा माने जाने वाले मूर्त्तिवाद पहचान थे । वक्किदी जैसे इतिहासकारों का मानना है मोहम्मद जब ताक़तवर बने अल्लाह वास्तव में अरब वासियों के मानाजानेवाला देवताओं में अरब की देवताओं का प्रमुख देवता थे । अल्लाह की पहचान प्रोफेट मुहम्मद से पहले था; मुहम्मद ने बस उस पहचान को अपने धर्म केलिए इस्तेमाल किया और मूर्त्तिवाद को उसमें से एलिमिनेट यानि खत्म कर दिया; यानी अपने धर्म केलिए वह अल्लाह की नाम या पहचान की इस्तेमाल किया जिसको हम आइडैंटिटी थेफ़्ट या पहचान की चोरी या डकैती भी कह सकते हैं । अपने धर्म केलिए प्रोफेट मुहम्मद ने अपने पूर्वजों की फ़ेथ सिस्टम को ध्वंस कर दिया ये आतंकवादी का काम नहीं तो क्या है? अगर आप की धर्म उनके फ़ेथ सिस्टम से अच्छा होता तो वह अपने मर्जी से इस्लाम क़बूल लेते जबरदस्ती थोपना ये कौन सा अच्छी कर्म है? इस्लाम को प्रोफेट मुहम्मद ने तलवार के दम पर और मृत्यु के भय दिखा के अपने ही लोगों के ऊपर पहले थोपा था, प्यार से नहीं, ये कौन सा पैगम्बर वाली बात है? ये पूरी तरह आतंकवादी वाला बात है; जैसे पुष्यमित्र शुंग ने तलवार और मृत्यु के भय दिखा के 185BC में वर्णवाद और वैदिक सोच इम्प्लीमेंट करके बौद्ध धर्म का ख़ात्मा किया था । अगर आप इस्लामी हो ये आपको क्रोधित कर सकता है लेकिन आप खुद को ये प्रश्न पूछना चाहिए सच्चाई आप को क्रोधित करने के पीछे क्या राज है? जो की थीओफिलिआ की एक लक्षण है । प्रयोगसे पता चला है, जो थीओफिलिआ के शिकार हैं वह इस बीमारि से बचना मुश्किल है यानी नामुमकिन की बराबर है, क्यों के बचपन से ही परिवार से ये बीमारी दिमाग में प्लांट किया जाता है; लेकिन वह चाहे तो उनके आनेवाला पीढ़ियों को इस बीमारि से बचा सकते है, केवल उनके थीओफिलिआक सोच को दूसरे जेनेरेशन को ट्रांसफ़र न करें ।

उदाहरण के स्वरुप आप क्या बिना बिजली , बिना TV, और बिना इंटरनेट के जिंदगी जी सकते हो? अगर आप के जिंदगी में ५ घंटे का पावर कट शुरु हो जाये, इंटरनेट प्रोवाइडर ठीक से इंटरनेट सेवा नहीं दे, या कोई भी साधन जो आपके जिंदगी में अत्यावश्यक योगदान देता हो वह ठीक से काम न करे तो आप गुस्से में आ जाते हो यहाँ तक कुछ लोग जो कंपनी TV बनाया, या जो बिजली और इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर है, उनकेलिए माँ बेहन की गाली भी दे देते है, लेकिन जो लोग बिजली, इंटरनेट और TV की रचना की थी यानी उनके आविष्कारक जैसे बिजली के आविष्कारक बेंजामिन फ्रेंक्लिन, TV के आविष्कारक जॉन लोगी बैयर्ड और फिलो फार्न्सवर्थ; और इंटरनेट का आविष्कारक रोबर्ट इ.कहन और विन्ट सिर्फ के चरित्र या फॅमिली मेंबर के चरित्र के ऊपर कुछ भी कह दो आप की मुहं से कुछ भी नहीं निकलेंगे यहां तक भी ९०% से ज्यादा लोगों को उनके वारे में पता ही नहीं होगा, कहना के मतलब, जिनलोगों ने इंसान की जीने के नक्सा ही चेंज कर दिया उनको ज्यादातर लोग जानते तक नहीं; और उनके चरित्र के वारे में अगर उल्टा सीधा बोल दें आप उस स्थिति में कुछ नहीं कहेंगे; हो सकता है आप उसकी मजा भी लें; लेकिन धर्म को मानने वाले जैसे हिन्दुओं को राम, सीता या कृष्ण के वारे में या मुसलमानों को प्रोफेट मुहम्मद या अल्लाह की वारे में या ईसाई धर्म को मानने वालों को यीशु के वारे में कुछ उल्टा सीधा बोल दो तो भक्त लाल पीला हो जाता है और मरने और मारने तक भी बात चली जाती है, जिसको ना उनके पूर्वज देखे थे ना उनकी मूर्ति या स्मृति के सिवा उनका कोई अस्तित्व है, जिसमें ज्यादातर काल्पनिक चरित्र ही हैं, फिर भी उन एंटिटी को वह इतना प्यार करते है की उनकी बदनामी उनसे बर्दाश्त नहीं होता है; भक्त ये भी भूल जाते है की उनके मान्यता का हिसाब से वह अगर सब भगवान हैं, जो सर्व व्यापी और महा शक्तिमान हैं; और, जो उनको गाली देगा वह सर्व सक्तिमान भगवान उनको सजा देनेकी क्षमता रखते होंगे, लेकिन भक्त खुद ही अपने भगवान की भगवान बन के उनकी मान का रक्षा करना शुरु कर देता है जो की एक अंधा प्रेम है, ये वह अंधा प्रेम है जो उनकी सोच की लालन पालन से पैदा हुआ है; और ये सोच बचपन में ही जो जिस धर्म का भीड़ में पैदा हुआ है उसके दिमाग में प्लांट किया जाता है ताकि उसकी दिमाग को उस सोच से कंट्रोल किया जा सके इस अंधा भगवान प्रेम ही हिंसा करवाता है जिसको थिओफिलिआ कहते है; जो की एक अंध विश्वास से पैदा मानसिक विकृति है और समाज के लिए खतरनाक है । इस सोच को अनुनायियों की सोच में समय के साथ लालन पालन और बढ़ने के लिए स्पिरिचुअल होम्स, प्लेसेस, फेस्टिवल्स, स्क्रिप्चर्स, डिवोशनल गाने, पिक्चर, स्कल्पचर और मोटिवेशन जैसे माध्यम लिए जाते हैं । थिओफिलिआ के कारण इंसान की दिमाग पार्शियल इरेशनल बन जाता है, अज्ञानता का सीकर भी होता है, स्लो लॉजिकल थिंकर बन जाता है और उस में तर्क अंधापन भी पैदा होता है, धर्म की प्रेम डिस्क्रीमिनेशन यानी भेदभाव को पैदा करता है, थिओफिलिआ के वजह से वह धर्म बनानेवालों का झूठ की सीकर भी बनता है और धर्म को चलाने वाले कुछ स्वार्थी, मतलबी दुष्ट दिमाग स्वयंभू पंडित कई तरह की असामाजिक बुराई यानी एन्टीसोसिअल सोच और ऐक्शन उस में मिला के उनके स्वार्थ के लिए भीड़ और भक्त का इस्तेमाल अपने स्वार्थ के लिए करते हैं । आप को बता दूँ थिओफिलिआ एक खतरनाक मानसिक बीमारी है और इस मानसिक विकृति से आप अपने आप को और आप की पीढ़ियों को बचाएँ । थिओफिलिआ के वारे में इंटरनेट में आप को ज्यादा कुछ नहीं मिलेंगे क्यों की ये रिसर्च ये लेख की लेखक का रीसर्च है । आप चाहे विश्वास करें या ना करें ये आप की तर्क और विश्वास के ऊपर निर्भर है, क्यों के थिओफिलिआ का वैरिफ़िकेशन मेथड इसमें बता दिया गया है जो आप खुद टेस्ट कर के उसकी रिजल्ट पा सकते हैं । थिओफिलिआ की पुष्टि और उसकी सहमति कोई प्रतिष्ठित रीसर्च संगठन की सर्टिफिकेट से नहीं बल्कि आम आदमियों की सहमति से यानी सोसिअल कोन्फोर्मिटी से होना चाहिए ।

(सच्चाई के दुश्मन , इस्लाम की स्वयंभू ठेकेदार और दूकानदार इस वीडियो को डिलीट करदेने से पहले इसको डाउनलोड कर लें)

(सच्चाई के दुश्मन , इस्लाम की स्वयंभू ठेकेदार और दूकानदार इस वीडियो को डिलीट करदेने से पहले इसको डाउनलोड कर लें)

cavehiraइस्लाम का असली जन्म स्थान गुफा हिरा है काबा नहीं । इस्लाम 610 AD में पैगंबर मुहम्मद के द्वारा माउंट हिरा की इस गुफा में पैदा हुआ था । काबा प्राचीन अरबों की धार्मिक जगह थी जहां 360 मूर्तियों की पूजा किया जाता था, जिस को प्रोफेट मुहम्मद ने अपने बनाये गए धर्म इस्लाम के लिए ध्वस्त किया था । इसीलिए हज करने के लिए अनुयायी माउंट हिरा की इस गुफा में जाना चाहिए ना की काबा ।
khans
खुद ही सोचो जंगहिस खान की बेटों का वंशज जो इस्लाम क़बूली थी उनका सभ्यता कैसे है, और जो वंशज बौद्ध धर्म अपनाया था अब चीन, जापान और साउथ कोरिया जैसे देश कहाँ है ।

death

islam-pray

काबा की अंदर क्या है?

अल्लाह का अगर कोई आकार ही नहीं, तो काबा का अंदर की तीन खम्भा, उसमें झूलते हुए बर्तन और दीवार में लिखे लेख की आगे सर झुकाने का मतलब क्या है? ये क्या प्रतीकवाद के सामने सर झुकना नहीं है? वह प्रतीक मूर्ति हो या कुछ और, वह प्रतीक वस्तु या पदार्थ तो ही है? हज को करने के लिए शारीरिक और वित्तीय रूप से सक्षम होने की स्थिति को इस्तिताह(istita’ah)  कहा जाता है, और एक मुस्लिम जो इस स्थिति को पूरा करता है उसे मुस्ताती(mustati) कहा जाता है; मुसलमान मक्का में बस इस्लाम के पांच स्तंभों में से एक को पूरा करने के लिए हज करने जाते हैं । इस्लाम के भक्त देश विदेश से कई रूपया खर्च करके काबा आते है और इन निर्जीव प्रतीक के सामने सर झुका के कैसे उनको अल्लाह की कृपा मिलता है वह लॉजिक और विज्ञान से बाहर है । दुनिया के सब मुस्लिम अनुयायी काबा की तरफ मुंह करके नमाज पढ़ते हैं जब की सच्चाई ये है धरती फ्लाट नहीं है और क्यों की अर्थ गोल है वह सब स्पेस(space) की तरफ मुंह करके नमाज पढ़ते हैं । और मान भी लियाजाये अर्थ समतल(flat) है और वह सब काबा के और मुंह करके अपने भगवान अल्लाह को अपना, अपने परिवार और मानवता की ख़ैरियत के लिए प्रार्थना करते हो, क्या काबा का अंदर की तीन खम्भा, उसमें झूलते हुए बर्तन और दीवार में लिखे लेख की आगे सर झुकाने से ये हासिल हो जाता है? क्या ये खुद को और अपने पीढ़ियों को अंधविश्वास की खाई और पीढ़ीगत मानसिक विकृति में  धकेलना  नहीं है? क्या ये अल्लाह की नाम से सोसिअल कन्फोर्मिटी के द्वारा पैदा मॉस हिस्टीरिया नहीं है? और एक बात आम मुसलमानों को काबा की अंदर प्रबेश निषेध है यानि नामुमकिन की बराबर है; उसके अंदर बस अरब की प्रतिष्ठित रयाल फैमिली ही प्रवेश कर सकते हैं, आम मुसलमान नहीं; आम मुसलमान बस उसके चारों और घूमने की और उसके सामने सर झुकाने तक ही अनुमति है । तो अल्लाह क्या अमीर और गरीब मुसलमान, अरबी और गैर-अरबी का फर्क भी करता है? इंडिया में बसा हिन्दू हो या मुस्लिम थीओफीलीआ का इतनी सीवीअर सीकार हैं, आप अगर भगवान या अल्लाह के नाम पे उनको मल(feces) खाने को बोलेंगे तो व भी खा लेंगे; गालिगुलज, झगड़े, दंगा और जान लेना तो एक आम बात है । ना, रिग वेद का पुरुष सूक्त १०.९० के अनुसार पुरुष के वली से दुनिया और मनुष्य बन सकते हैं, ना कुरान की सूरए अल अलक़ (९६.२) के अनुसार इन्सान को जमे हुए ख़ून से पैदा किया जा सकता है, दो भी अवैज्ञानिकता, झूठ, भ्रम और मूर्खता की प्रचार करते हैं । धर्म प्रचारक और प्रसारक केवल उनके अनुयायीओंको बेवकूफ बना के ना केवल उनकी दिमाग को कंट्रोल करते हैं बल्कि अपने संगठित स्वार्थ के लिए उनकी शोषण और सियासी, सामाजिक, आर्थिक  फ़ायदा भी उठाते हैं ।

Source:odiakey

THEO-SOCIOPATHS

कृपया ध्यान दें : इन वैदिक धुर्तों ने कबीर को भी नहीं छोड़ा । कबीर के मूल रचनाओं में कुछ धूर्त “हरी” शब्द को “राम” की नाम में बदल दिए हैं; और उनके रचनाओं के साथ भी कई छेड़ छड़ की गयी है, कबीर की रचनाओं को भी वैदिक करण का भरपूर कोशिश किया गया है, अगर आप को कोई संस्करण में हरी के बदले राम की शब्द का उपयोग देखें, या वैदिक या उनके संबधित काल्पनिक बहुदेववाद देखें तो समझ लेना उस को अपभ्रंस किया गया है; और करनेवाला कौन है आप अच्छी तरह जानते हैं । वैदिक ब्राह्मणवाद ने हमारे देश की कई असली ज्ञान सम्पदा जो उनके अनुकूल नहीं थे उन को इतना अपभ्रंश किया है की कोई भी सज़ा उन केलिए कम है । ये इतने घटिया सोच के लोग हैं की हर गैर-वैदिक ज्ञानसम्पदा और ज्ञानियों को ब्राह्मण का ब्रांड देने में कोई कसर नहीं छोड़ते क्यों के ना आप की पास उनके इतिहास है ना उनको आप वेरिफाई कर सकते हो, इसीलिए ब्राह्मणवाद को फैलानेवाले घटिया राइटर्स और इतिहासकार इंडिया के हर गैर ब्राह्मणवाद ज्ञानसम्पदा और उनकी आइडैंटिटी को वर्ण व्यवस्था और ब्राह्मणीकरण करके ब्राह्मणवाद की प्रमोशन करते हैं; इन हरामी बद दिमाग और लोमड़ी सोच लेखोंको पहचानें जो हर चीज में अपनी गंदगी फैलाते हैं । ये इतना घटिया लोग हैं की कश्यप बुद्ध जो महान बौद्ध बुद्धिजीवियों में से एक थे उनको भी ब्राह्मण का ब्रांड दे दिया और उनको कश्यप ऋषि का सर्टिफिकेट देकर उनके ज्ञानसम्पदा के लिए यूज़ करते आ रहे हैं । ये गंदगी सोच वाले घटिया लोग विकिपीडिया को भी आपने गंदगी से भरना शुरु कर दिया है ताकि फ्यूचर जेनेरेशन उनको महान समझे । राम न हिन्दू थे ना वैदिक भगवान; कोई भी वेद में आपको उनकी नाम नहीं मिलेगा । रामायण एक लोकप्रिय काल्पनिक रचना थी जो रत्नाकर ने रचना किया था । वैदिक धर्म प्रचार और प्रसार करनेवाले पुजारी बनाम ब्राह्मण राम की चरित्र को विष्णु का अवतार बता कर उनकी पहचान की चोरी यानी पहचान फ्रॉड(Identity theft/Identity fraud) करके उनकी आइडेंटिटी को अपने स्वार्थ के लिए इस्तेमाल करते आ रहे हैं । रामायण को समय के साथ तरह तरह की अपभ्रंश की गयी; कहानी के चरित्र को विष्णु का अवतार बताया गया और उनको क्षत्रिय बना के वैदिक वर्णवाद को भी इसके जरिये प्रचार किया गया । समय के साथ इसके कई वर्शन बने और राम का चरित्र भगवान की नाम पर पुजारियों का व्यापार का सामान हो गया । संत कबीर के हिसाब से ब्राह्मण से अच्छा गधा है जो अपना मेहनत का घास खाता है ना कि किसी को भगवान की दर्जा देकर उनके निर्जीव मूर्ति दिखाकर चढ़वा और दान की नाम पे भिक मांग कर अपना गुजारा करता है । संत कबीर के अनुसार:

ब्राहमन से गदहा भला, आन देब ते कुत्ता
मुलना से मुर्गा भला, सहर जगाबे सुत्ता।

ब्राम्हण से गधा अच्छा है जो परिश्रम से घास चरता है । पथ्थर के देवता से कुत्ता अच्छा है जो,
घर का पहरा देकर रक्षा करता है । एक मौलवी से मुर्गा अच्छा है जो सोये शहर को जगाता है ।

ये वो सोच है जिसने मूर्त्तिवाद और पाखंडी धर्म का हमेशा विरोध किया । हमारे भूखंड के कई रेसिओनाल दर्शन जैसे चारुवाक/लोकायत, वैशेषिक, बौद्ध, अलेख, योग इत्यादि जैसे सोच वर्ण वाद और वैदिक जैसे धर्म का सम्पूर्ण खंडन किया । वह भी हमारे भूखंड की सोच है इसको नकार ने वाले भी नास्तिक हैं । नास्तिक का मतलब किसी सोच या तथ्य के ऊपर आस्था या विश्वास नहीं रखना है ना की जो केवल भगवान के ऊपर विश्वास नहीं रखे वह नास्तिक है और जो रखे वह आस्तिक । गॉड प्रमोटर्स आस्थिक शब्द का अपभ्रंश किया और उसकी अर्थ को डीमीन किया । आप अगर किसी में आस्था रखते हो तो आप उसके आस्थिक/आस्तिक हो अगर नहीं तो नास्तिक । अगर आप सत्य, विज्ञान, तर्क यानी रीजनिंग, स्वस्थ जीवन, प्रेम, सेवा जैसे अच्छे विचारों में आस्था रखते हो तो आप भी इन विचारों का आस्थिक/आस्तिक हो और आप की आस्था सत्य, विज्ञान, तर्क यानी रीजनिंग, स्वस्थ जीवन, प्रेम, सेवा जैसे अच्छे विचारों पर है ना की धर्म के नाम पर झूठ, भ्रम, घृणा, पाखंड, अंधविश्वास, तर्कहीनता, अज्ञानता, छल, कपट, नफरत और हिंसा जैसे गंदी सोच के ऊपर है । वैदिक प्रमोटर ऊंच नीच फैलाते है; काम की आधार पर लोगों को बांटा और उनको सदियों ना पढ़ने दिया, ना अच्छी जिंदगी दि, ना फ्रीडम ऑफ़ प्रोैफैशन दिया ना सामाजिक सम्मान और समानता दिया, ना उनको संपत्ति का अधिकार दिया, ना उनको उचित न्याय दिया; क्यों की ज्ञान और संपत्ति का अधिकार इन लोगों ने सदियों छीन लिया था इसलिए ज्यादातर मूल निवासियां अनपढ़ और गरीब हैं । धर्म परिवर्तन करने का बाद बस उनके भगवान और उपासना की विधि बदल गयी लेकिन रहे ज्यादातर वही गरीब और अनपढ़ । जिसके वजह से इंटेंशनली अनके मूलनिवासियों को इन्होने अपने गंदी सोच का दास बनाया । इसलिए इंडिया, पाकिस्तान और बांग्लादेश की करीब 54 करोड़ मुस्लिम, 80 करोड़ का इंडियन पिछड़ा बर्ग और कुछ अल्प संख्यक अगर मिला दें करीब 140 करोड़ के आसपास मूलनिवासियों का जिंदगी वर्णवाद ने सदियों बर्बाद की है । हमारा भूखंड का असली दुश्मन कोई और नहीं अपने भूखंड में पैदा घटिआ सोच वर्णवाद ही है । वर्ण वाद को प्रमोट करने वाले हर व्यक्तिबिशे को ओपनली विरोध करें; ओपनली विरोध नहीं करने के कारण ही आज तक ये सोच दूसरों को अपने सोच की लपेट में लेकर उनकी उत्पीड़न करता आ रहा है । वर्णवाद को प्रमोट करने वाले लोग नीच नहीं अपराधी(Criminals) है और मानवता की दुश्मन हैं; इन लोगों ने सदियों ह्यूमन राइट्स का धज्जियां उड़ाई । कांग्रेस मैं बैठे हिन्दू महासभा और RSS जैसे संगठन की हिंदूवादी नेताओं ने वर्णबाद को गुप्त रूप में छद्म सेक्युलर के नाम में फैलाया, जब की कांग्रेस से निकले हिन्दू महासभा और RSS सोच से बनी BJP पार्टी डाईरेक्ट हिन्दुत्त्वकी की बात करता है । इंडिया(India) को जब हिंदी में ट्रांसलेट कियाजाता है वह भारत हो जाता है लेकिन “भारतीय जनता पार्टी” जब अंग्रेजी में लिखा जाता है वह “Indian Peoples Party” नहीं “Bharatiya Janta Party” ही रहता है; इससे आप को उनके सोच और नियत का पता चल जायेगा । आजाद इंडिया में धर्म से जुड़ी डेफेमेशन का डर इसलिए बनाया गया ताकि उनकी विरोध न किया जाये । RSS और हिन्दू महासभा के लोगों को कभी बौद्ध धर्म को प्रमोट करते देखा है? ये एक कट्टरवाद ब्राह्मणवादी संगठन है ना की सेक्युलर और बौद्ध धर्म जैसे मानवता को प्रमोट करने वाला दर्शन का संगठन; ये लोग बस दूसरों को बेवकूफ बना के उनका इस्तेमाल करना जानते हैं, ना कभी इनके पूर्वज ज्ञानी थे ना आज भी हैं; लेकिन ज्यादातर लोग छलावा, कपटी और धूर्त जरूर है, जो लोगों को उत्पीड़िन और उनकी शोषण करना अच्छी तरह से जानते हैं, बस समय के साथ वह करने का तरीका बदलते रहते हैं । BJP ने योग को अपने पोलिटिकल लाभ केलिए इस्तेमाल करना शुरु कर दिया है । योग(Yoga) और मैडिटेशन ज्यादा बौद्ध धर्म से सम्पर्कित है ना की वैदिक धर्म से; आप ने कभी देखा है आराम से रहने वाले इन्द्र जो सोम रस पान करते हो और विलासी जिंदगी का लाभ उठा ता हो कभी योग किया होगा? अगर गणेश योग करते तो क्या वह इतना मोटे होते? कभी वैदिक धर्म को चलाने वाले तीन मठाधिस्वर को देखा है? अगर नहीं देखा तो आप जरा गूगल करके देख लें स्वरूपानंद सरस्वती, निस्चलानन्द सरस्वती और भारती तीर्थ कभी अपने जिंदगी में योग किया होगा? योग दरअसल वैदिक धर्म से संबधित ही नहीं है, लेकिन वैदिक प्रचारक और प्रसारक योग को अपने छतरी के नीचे लाकर इसको भी अपना गंदगी का हिस्सा बताते हैं और अपने स्वार्थ के लिए इस्तेमाल करते हैं । योग का भी आइडैंटिटी फ्रॉड यानी चोरी इनलोगोंनें किया है । आप को कहीं भी वेद मैं कोई भी वैदिक भगवान योग करते नहीं मिलेंगे; हाँ ये जरूर है इस लेख के बाद दूसरे पीढ़ियों में जरूर मिलेंगे ।

How Theophilia works, with an example.

Say the following story to a person saying “close your eyes and listen what I say, and try to visualize in your mind what I explain.” First copy and paste the following story in google translator in left hand side box. In the right hand side select any language that listener’s non-understandable language from the drop-down menu of different languages. Now try to read the translation or use text to speech speaker button to make it read automatically. For an example translate it in to “Polish” language for a Hindi speaking person that does not know Polish language. There will be speaker icon below the text window, click that speaker icon which will turn text to speech that you need not to read. If it reads fast, then  click again to read the text slowly so that listener can listen it perfectly. And try to make him feel the story and ask for his reaction. Again convert it in to is understandable language like Hindi and play the speaker button and get his reaction.

Story:

There was a beautiful pond in a jungle. Pond was surrounded by various of colorful flowers. Pond was even full of pink colored lotus. There were colorful butterflies flying here and there in that pond. Cuckoo were singing sweet songs. In that pond there was a very beautiful princess just had started to bath. She was fair, her eyes were large and attractive with colorful pupils & iris. Her body was very attractive with well-shaped breasts and hips. There were no clothes in her body when she was bathing. In the meanwhile, she listened a horse running sound that stopped near the pond. She saw a handsome man. He was so attractive & mannish. They started to stare each other.

Process results:

The story can create the imaginative characters and their actions in a human brain when they listen to this story with closed eyes, which has no real physical existence.If they can’t imagine say them to concentrate to imagine the characters and fee their actions still you get the success. You can create the visualization in their brain of your story and they can even feel the characters. Its how imaginative process works. If  they are told these characters were the real characters in the past they can even believe you blindly  if you hold a strong social authoritarian position to listener. If the same story is said to them in their non-understandable languages, they won’t be able to create the charters and their actions in their brain and even can’t feel the same except recognizing it as noise for their brain. It means, human brain understands the sounds that his brain knows its meaning which we often say language for communication; otherwise it’s a noise to human brain still they code meaning to it in their brain. On the basis of perceptive information our belief works. If information is verified according to their existence with proper perspectives, then human brain accepts it as valuable rational information. If information is logically not verified, then we take it as irrational which can’t be verified or there is no way exist to verify the information.  When irrational and non-verified information blindly accepted by humans believing it comes from our ancestors or from old origin which may be true or said by an individual which has a post of authority or individual of same kind who promoted the blind belief being a higher position of knowing the things more than to an ignorant pass only ignorance to its surrounding peoples. People even has their own level of logic and acceptance of information as they come across. So information plays different level of impact in their mind. It means we can create and even recreate the imaginative characters propagating the same story which characters has even no existence. I mean to say the Koran/Quran and Vedas are composed in Arabic & Sanskrit. If they are told to their followers in Arabic and Sanskrit they won’t be even realize their God if their mother tongue in not Arabic or Sanskrit or they don’t know the both the language. When it translated to their understandable language it creates the imaginative characters in their brain and same identity nursed for love and devotion in their brain. It means they love to an entity that has created by imagination and coded in bio-chemical form as biological storage in a human brain. This fake or imaginative love to the super power identity or God which has only men made imaginative bio-chemical form of existence as an entity in a human brain is called THEOPHILIA. THEO means God or related to God and PHILIA means abnormal love that needs an illogical reason or no reason why to love. Sociopaths use these kind of identities for their personal and organized benefits to control the followers mind or group of people with same beliefs through social conformity and ignorant mass follow them like cattle. This deviation should be considered as Mental deviation or disorder which is the root cause of many other social evils in our human race. Most of the root natives from Indian origin including Pakistan and Bangladesh those embraced Islam after 700AD has no connection with Arab in any kind without the acceptance of their set of thoughts i.e. Quran/Sharia but they think Arab is their origin. 99.99% of Islamic followers of this country can’t speak in Arabic but proud to learn Arabic because their faith system coded in Arabic. Its the part of the THEOPHILIA psychological disorder. They are logically so blind by God addiction or Theophila that they are even not capable to understand simple question i.e. if your God can’t understand your own language in first place then how it became your god? Why a God only understand just Arabic language without others? Why an old set of instructions made by some specific persons/jurists in the name of God and brand as religion should control your mind if something wrong in it? There was a time, people were without the phones. Then people used telephones. Now we use mobile phones. With the time lifestyle changes and even our used materials. Then why we should not change set of instructions for art of living or faith system according to our own requirements with the time? Living with set of irrational beliefs and delusions is one kind of partial psychotic disorder; and when this psychosis shared and practiced by mass its just mass hysteria. Those who claims they can see and feel the god; they are actually severely suffering from GDD(God Delusion Disorder) psychotic disorder.

Losses due to Theophilia.

Posted in Uncategorized | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

क्या वर्णवाद सोसिओपैथ्स की संरक्षण करता है?

सोसिओपैथ शब्द के वारे में बहुत कम लोग जानते होंगे लेकिन आप की जिंदगी में और आपके आसपास वह हमेशा होते हैं । ऐसे भी होसकता आपके फैमिली मेंबर भी में कोई सोसिओपैथ हो । आपने बहुत सारे चैनल में हिट सीरियल देखी होंगी जैसे “सास भी कभी बहु थी” इत्यादि सोप इसीलिए हिट हो जाते हैं क्यों के मुख्य कलाकार या चरित्र घर में या सगी संबद्ध, दोस्त, या समाज के सोसिओपैथ्स यानी दुष्ट चरित्रोंसे फाइट करके स्थितिओं को ठीक करने की कोशिश करता है । उसमें छल, कपट, चतुराई, शातिरपन, ईर्ष्या, गुस्सा, बेवफ़ाई इत्यादि जैसे इमोशन्स (emotions)  को आकर्षक चरित्रोंसे प्रेजेंट किया जाता है जिससे मुख्य कलाकार अपने विवेकी गुणों के द्वारा स्थतिओं को नर्मालाइज़ या समाधान करने को कोशिश करता है । दरअसल हमारे पूर्वज भी पुराणोंसे, ग्रंथों, महाकाव्यों इत्यादियों से वही चीज या मनोरंजन पाया करते थे जिसमें नैतिक सिक्ष्याकी एक बड़ा पार्ट होता था । रियल टाइम में भी आप कोई भी न्यूज चैनल खोल दो उस में तो सोसिओपैथों का लाइव सीरियल चलता रहता ही है जैसे कोई पोलिटिकल पार्टी का लीडर ही ले लो या बेईमान बिजनेसमैन जो देश का पैसा ले के भाग गया है या देश की पैसा लूट करके सीनाजोरी दिखारहा है इत्यादि इत्यादि ।  आप को सोसिओपैथ्स हर जगह और हर प्रोफेसन्स में मिलजाएँगे । साधुसंत से लेकर, गरीब और धनी कोई ऐसे वर्ग नहीं जहाँ सोसिओपैथ आपको नहीं मिलेंगे । तो दोस्तों चलिए जानते हैं सोसिओपैथ है क्या?

सोसिओपैथ या विवेकबिकृत लोग हमेशा अविवेकी वाले लोग होते हैं । उनकी लंबे समय की अनजान प्रवृत्तियां, जो की बाद में उनकी विकृत विशेषताओं को परिभाषित के तौर विकसित होती है, जब तक कि एक कठोर एपिसोड(घटना) नहीं होता है तब तक पता नहीं चलता ।

अमेरिकन साइकोट्रिक एसोसिएशन के डायग्नोस्टिक एंड स्टैटिस्टिकल मैनुअल के मुताबिक, एक सोसिओपैथ को “बचपन या प्रारंभिक किशोरावस्था में शुरू होने वाले अन्य लोगों के अधिकारों के उल्लंघन, और उल्लंघन के व्यापक पैटर्न” के साथ एक व्यक्ति के रूप में परिभाषित किया जाता है और जो वयस्कता में भी जारी रहता है।

सोसिओपैथिक प्रवृत्तियों में स्वार्थीता, सतही आकर्षण और स्वयं में अत्यधिक गर्व की भावना जैसे कुछ महत्वपूर्ण लक्षण शामिल हैं । हालांकि, इन प्रवृत्तियों के साथ सोसिओपैथ पैदा नहीं होते हैं, वे इन लक्षण को बचपनों से विकसित करते हैं क्योंकि वे अपने बचपन या प्रारंभिक किशोरावस्था में कई पर्यावरणीय कारकों का सामना करते हैं। यद्यपि सोसिओपैथ लक्षणों  की शुरुआत शुरुआती उम्र में होती है, लेकिन ये लंबे समय तक ध्यान नहीं दिया जाता की बच्चा बड़ा हो जाएगा और खुद ही सीखेंगे । कभी-कभी, सोसिओपैथ को साइकोपैथ के रूप में जाना जाता है क्योंकि दोनों मामलों में कम या ज्यादा एक ही तरह की लक्षण या व्यवहार  देखने को मिलते हैं । लेकिन सोसिओपैथ साइकोपैथ नहीं  है । जबकि सोसिओपैथ पर्यावरणीय कारकों के परिणामस्वरूप विकृत लक्षण को पैदा करता है, जब की साइकोपैथ अन्तर्जात विकृतियां से संबधित है ।

बातें सावधानी का

आप इन सोसिओपैथ लक्षणों को अपने अनुचित मित्रों, परिवार और अन्य परिचितों से जोड़ने के लिए प्रेरित हो सकते हैं; हालांकि, केवल एक विशेषज्ञ ही सोसिओपैथ को ठीकसे पहचान और उसकी निदान कर सकता है । इसलिए, किसी भी विशेषज्ञ राय के बिना किसी भी व्यक्ति को सोसिओपैथ के रूप में टैग करना नहीं चाहिए।

एक सोसिओपैथ की लक्षण

सोसिओपैथ का मानना है कि दूसरोंकी जिंदगी को छल, चतुराई या ठगी से छेड़ छाड़ करके बहुत कुछ हासिल किया जा सकता है । उस दिशा में, वे अपने दुर्भावनापूर्ण विचारों को कामियाब करवाने केलिए दूसरों को विश्वास दिलाने में कोई समय बर्बाद नहीं करते हैं । वे अपने आकर्षक चतुर वर्डप्ले (चालाकी मीठी बातों का जादू) का उपयोग करके ऐसा करते हैं । वे दूसरे व्यक्ति को ऐसे पीड़ित करते हैं जैसे कि वे अपनी योजनाओं का बस एक वस्तु है ।

सोसिओपैथ में सच्ची सामान्य बोध या भावनाएं नहीं होती हैं । वे केवल अपनी भावनाओं का छल या छद्म प्रदर्शन करते हैं । भले ही वे हंसते हैं, रोते हैं, क्रोधित हो जाते हैं और क्षणिक रूप से उदास हो जाते हो; वजह उनके अंतर्निहित कारण है जिस अपनी दुनिया में वह रहते हैं और अपने स्वयं के बनाया सेट ऑफ़ नैतिकता पर चलते हैं । वे अक्सर इस धारणा से अनुसाशित होते हैं कि उनके कार्यों का कोई गलत परिणाम नहीं होता है, और वे किसी के लिए उत्तरदायी नहीं हैं । सच्ची भाव और बोध के अक्षमता के कारण सोसिओपैथ अपने जिम्मेदारीयों की नाकामियावी केलिए दूसरों को आरोपी ठहराते हैं ।

सोसिओपैथयों के पास झूठ बोलने की असीम क्षमता है । यह सब तब शुरू होता है जब वे कुछ छिपाने के लिए झूठ बोलते हैं और फिर झूठ के अपने वेब (जाल) को कवर करने के लिए झूठ बोलते रहते हैं । चूंकि वे सच्ची भाव और बोध से वंचित हैं, इसलिए वे अनिवार्य झूठ के प्रभाव को नहीं समझते हैं । यदि वे झूठ बोलते हुए पकडे जाते हैं, तो सोसिओपैथ विषय बदलने में माहिर होते हैं; वे किसी और को दोष देकर स्थिति से बचाओ करने के विषय में चतुर हैं । वास्तव में, अधिकांश सोसिओपैथ झूठ बोलने में इतने चतुर हैं कि वे झूठ डिटेक्टर परीक्षण भी पास करलेते हैं । यही कारण है कि, अपराधियों जो सोसिओपैथ हैं शायद ही कभी कानून के द्वारा जेलों तक पहुँच पाते हैं ।

एक सोसिओपैथ में ऊपरी उथली भावनाएं होती हैं । ऊपरी भावनाओं (shallow emotions) का अर्थ है दूसरों के प्रति झूठी गर्मजोशी, खुशी, प्रशंसा और प्रेरणा को किसी का गुप्त या परोक्ष उद्देश्यों को पूरा करने के लिए होता है । हालांकि इन लक्षणों से वे भावनात्मक रूप से मजबूत लगते है, लेकिन वे उत्तेजनाहीन (cold) रहते हैं और सामान्य व्यक्ति की तरह भावनाओं को प्रदर्शित नहीं करते हैं । वे दूसरों को अपना काम पूरा करने की वादे करने के लिए जाने जाते हैं । हालांकि, एक बार उनकी काम पूरी होने के बाद, वे लगभग किए गए वादों को पूरा नहीं करते हैं ।

कुछ सोसिओपैथ, कुछ करने या कहने से पहले दो बार सोचने का तर्क उनके दिमाग में गायब होता है । वे एक निश्चित विचार से इतने अभिभूत हो जाते हैं कि वे इसके लिए आवेगपूर्ण प्रतिक्रिया देते हैं । ये क्रियाएं हमेशा धोखाधड़ी, चोरी और झूठ बोलने जैसे एक कुटिल कौशल से प्रेरित होती हैं । वास्तव में, इस क्रियाएं को पूरा करने का उत्साह उन में इतना गहरा होता है कि वे कभी भी परिणामों के बारे में नहीं सोचते हैं कि क्या यह क्रियाएं सही है या गलत है।

एक सोसिओपैथ की किए गए सभी कार्यों में बेहद स्पष्ट प्रकृति उनके परजीवी प्रकृति है । वे लीच की तरह कार्य करते हैं जो दूसरों से अपने फायदे के लिए चिपकते रहते हैं । वे उन लोगों का आपने शिकार करते हैं जो उनके सबसे नज़दीक हैं या जो उन्हें पूरा विश्वास करते हैं । एक बार उनकी योजना सफलतापूर्वक हो जाने के बाद, अगर पकड़ा जाएं वे आसानी से अपनी साजिश से बाहर निकल के दूसरे पर दोष डालते हैं ।

सोसिओपैथ्स में एक बेहद आकर्षक व्यक्तित्व होता है और वे जानते हैं कि अपने सभी कुशल तरीके से कवर करने के लिए इसे पूरी तरह से कैसे उपयोग किया जाए। वे बहुत मनोरंजक, लापरवाह, निस्संदेह और जीवंत हो सकते हैं जब वे बनना चाहते हैं, और यह उन लक्षणों से है जो लोगों को आकर्षित करते हैं । एक बार जब लोग उनसे आकर्षित हो जाते हैं उसके बाद वे उन्हें आसानीसे प्रभावित करते हैं, वे विभिन्न कार्यों के लिए इन ‘दोस्तों’ का उपयोग करते हैं।

सोसिओपैथ्स खुद के बारे में डींग मारने में व्यस्त होते हैं जैसे कल नहीं है । वे दृढ़ता से मानते हैं कि वे जो कर रहे हैं वह बिल्कुल सही है और उनका की गयी  कोई भी काम गलत नहीं हो सकता है । वे अत्यधिक आत्मविश्वास वाले होते हैं और इससे उन्हें जीवन, विवाह, पैसे कमाने और सामान्य जीवन के बारे में बेहद निराशाजनक और अवास्तविक योजनाएं मिलती हैं । सोसिओपैथ्स को यह समझने में कठिनाइ होता है कि उनके आसपास के लोग उनके खिलाफ क्यों हैं।

चाहे वह एक हत्या, लूट, झूठ, या कोई अन्य आपराधिक कृत्य है, सोसिओपैथ्स को ये सब अपराध नहीं लगता है । वे अपने आप की एक अनौपचारिक दुनिया में रहते हैं जहां वे कभी दूसरों के साथ सहानुभूति नहीं दे सकते हैं और न ही वे दूसरों को दोष देने के लिए अपराध महसूस करते हैं । वे बुनियादी झूठे होने के लिए जाने जाते हैं और वे उस  हद तक झूठ बोलते हैं जहां अपराध को छुपाने केलिए वे स्व-निर्मित वास्तविकता बना डालते है । वे अक्सर ये मानते हैं कि दूसरे व्यक्ति को दिए गए दर्द उनके पाने का लायक है । कई आपराधिक सोसिओपैथ्स को अक्सर उनके अपराध पकड़े जाने पे इस तरह के स्पष्टीकरण देने को देखा जाता है।

अन्य सामान्य लक्षण

1 । प्रारंभिक व्यवहार की समस्याएं जिन्हें किशोर अपराध के रूप में जाना जाता है।

2 । निंदा, बदनामी, अपवाद, अपमानवचन, अफवाह के अपराध में शामिल होना।

3 । विचित्र व्यवहार और बेवफाई का प्रदर्शन, अक्सर प्यार के अक्षम होने के रूप में टैग किया जाता है।

4 । एक उद्यमी आपराधिक मानसिकता होने का सोच ।

5 । सत्तावादी, प्रभुत्ववादी और गुप्त होना ।

6 । तुच्छ लक्ष्य-निर्धारण प्रवृत्तियों को दिखाना – जैसे पीड़ितों को दास बनाना ।

एक सोसिओपैथ्स से निपटना कई स्तरों पर बहुत मुश्किल हो सकता है । सबसे पहले, किसी व्यक्ति में सोसिओपैथिक प्रवृत्तियों को पहचानने में काफी समय लगता है, जिसकेलिए  विक्टिम को उसकी पहचान से पहले ही पीड़ा के विभिन्न स्तरों से गुजरना पड़ता है । दूसरा, इस विकार के लिए उपचार लगभग असंभव है क्योंकि एक सोसिओपैथ विश्वास नहीं करता कि उसे कोई समस्या है । क्योंकि उनके पास कोई विवेक नहीं होता इसलिए वह सही और गलत के बीच का अंतर नहीं समझता है और न ही वह अपने कार्यों के परिणामों की परवाह करता है । क्यों के वे पैथोलोजिकल झूठे होते  है; उनके उपचार सत्रों के दौरान वह झूठ बोल के ठीक होने का छल कर सकते हैं और ये अहसास दिला सकते हैं की वह ठीक हो गये हैं इसलिए उनकी उपचार काफी हद तक व्यर्थ और कठिनाई प्रदान करता है इसलिए उनके सुधार की उपेक्ष्या की गणना कभी भी नहीं की जा सकती है । इसलिए इस बात पर सहमति हुई है कि सोसिओपैथ्स से निपटने का सबसे प्रभावी तरीका उनसे दूर रहना है या उनको अपने से दूर करदेना है जो किसी भी तरह से संभव है।

अस्वीकरण (Disclaimer)

यह मनोविज्ञान लेख केवल जानकारीपूर्ण उद्देश्यों के लिए है और एक विशेषज्ञ द्वारा प्रदान किए गए उपचार के निदान को प्रतिस्थापित करने का इरादा नहीं रखता है।

कृपया ध्यान दें:

हमारे विशाल भूखंड की ही कुछ स्वार्थीवादी असामाजिक संकीर्ण सोच के शातिर बुद्धिजीवियों ने इस भूखंड को  सोसिओपैथ वर्ग(ruling caste/upper caste/sabarn/dwija) और पीड़ित वर्ग (slaves/shudra/working class/labor class/ekaja/asabarn) में तोड़ा जिसके वजह से इस भूखंड का हर भाषीय सभ्यता ये दो वर्ग में बंट गए। ये वर्ग रिग वेद की पुरुष सूक्त १०.९० है जिसको वर्ण व्यवस्था कहते हैं।  इस वर्ण व्यवस्था के कारण सोसिओपैथको उच्च वर्ण या उच्च वर्ग के रूप में अप लिफ्ट किया गया और पीड़ितों को गुलाम यानी शूद्र वर्ग में हमेशा सोसिओपैथ के द्वार उत्पीड़ित कियागया । हालाँकि ये सोच इंडिया को छोड़ के आप को कहीं और नहीं मिलेगा । यहाँ की लोग सदियों इतनी तर्क अंध से ग्रसित रहे की कभी वर्ण व्यवस्था क्या है? कौन पैदा किया? क्यों पैदा किया, किसने इम्प्लीमेंट किया, कैसे इम्प्लीमेंट किया और क्यों इम्प्लीमेंट किया कभी जानने की कोशिश नहीं की । वर्ण व्यवस्था कैसे पैदा हुआ अगर आप जान लें अगर आपकी दिमाग सही काम करता हो तो उसी समय ही इस व्यवस्था के ऊपर थूकेंगे । और ताज्जुब की बात ये है की कोई भी जिम्मेदार व्यक्ति आज तक इसकी खोज और इसकी सामाजिक हानि और अनुगामियों की मानसिक स्वास्थ्य का ख्याल क्यों नहीं किया? आपको जानकर बहुत ही दुख होगा आपकी वर्ण व्यवस्था एक सामाजिक बुराई के साथ साथ एक अंधविश्वास और मानसिक विकृति है । आप को ये पता होना जरूरी है की वर्ण व्यवस्था पीढ़ी-गत सोसिओपैथ (soft, moderate and orthodox) पैदा करता है और इस सोच के साथ ही मानसिक विकृतियां एक पिढीसे दूसरे पीढी तक सोच के माध्यमसे हस्तांतरण (transfer) होता है। बस कोई सामाजिक पहचान की प्रमाणपत्र दिया और बिना सोच समझ के उस प्रमाण पत्र को बिना जाँच किये अपना ली; ये मूर्खता और अज्ञानता नहीं है तो क्या है? आप को जानके ये दुःख जरूर होगा की ये सोच इस भूखंड के ज्यादातर मूलनिवासियों के ऊपर जबरदस्ती थोपा गया है ना कि लोग इस सोच को अपने मर्जी से अपनाया है । बिना मर्जी का कोई भी सोच दूसरों के ऊपर थोपना एक अपराध है ना कि धर्म । अगर हम हमारा देश को समृद्ध देखना चाहते हैं तो पहले जो सामाजिक और मानसिक विकृतियां या गंदगी है उसकी सफाई पहले करनी होगी । हमारे विशाल भूखंड की ही कुछ स्वार्थीवादी असामाजिक संकीर्ण सोच के शातिर बुद्धिजीवियों ने खुद की सामूहिक और संगठित वर्ग की लाभ की लोभ से भूखंड के आज की मुलमिवासियों के पूर्वजों को जो की अब १०० करोड़ से भी ज्यादा वैदिक अनुगामियों (हिन्दू) के जिंदगी और मन के साथ खेला और उनके अनुगामियों और उनके नस्लों को मानसिक विकृत्तिया धर्म के नाम पे दी और अपने ही लोगों को अपने स्वार्थ के ख़ातिर बाँट डाला । अगर आप वर्ण कैसे पैदा हुए नहीं जानते तो ये आज जान लें और अपनी तार्किक सोच को खोले । अगर आप सही माने में इंसान होंगे तो आपको हिन्दू होने में गर्व नहीं शर्म महसूस होगी क्योंकि पुरुष सूक्त ज्ञान की नहीं मूर्खता और अज्ञानता की परिभाषा है ।  इस वर्ण व्यवस्था को धर्म और ज्ञान के नाम से फैलाने वाले हर व्यक्ति असामाजिक और अपराधी है । पुरुष शुक्त ना केवल अंधविश्वास है बल्कि हर मानवीय अधिकार की उल्लंघन भी करता है ।

जातिवाद यानी वर्ण व्यवस्था संस्कृत भाषी रचनाओं में मिलता है इसका मतलब ये हुआ जो गैर संस्कृत बोली वाले है उनके ऊपर ये सोच यानी वर्ण व्यवस्था थोपी गयी है ।  रिग वेद की पुरुष शुक्त १०.९० जो वर्ण व्यवस्था का डेफिनेशन है उस को कैसे आज की नस्ल विश्वास करते हैं ये तर्क से बहार हैं? शायद आज की पीढ़ी भी मॉडर्न अंधविश्वासी हैं । पुरुष सूक्त बोलता है: एक प्राचीन विशाल व्यक्ति था जो पुरुष ही था ना की नारी और जिसका एक हजार सिर और एक हजार पैर था, जिसे देवताओं (पुरूषमेध यानी पुरुष की बलि) के द्वारा बलिदान किया गया और वली के बाद उसकी बॉडी पार्ट्स से ही  विश्व और वर्ण (जाति) का निर्माण हुआ है और जिससे दुनिया बन गई । पुरूष के वली से, वैदिक मंत्र निकले । घोड़ों और गायों का जन्म हुआ, ब्राह्मण पुरूष के मुंह से पैदा हुए, क्षत्रियों उसकी बाहों से, वैश्य उसकी जांघों से, और शूद्र उसकी पैरों से पैदा हुए । चंद्रमा उसकी आत्मा से पैदा हुआ था, उसकी आँखों से सूर्य, उसकी खोपड़ी से आकाश ।  इंद्र और अग्नि उसके मुंह से उभरे । ये उपद्रवी वैदिक प्रचारकों को क्या इतना साधारण ज्ञान नहीं है की कोई भी मनुष्य श्रेणी पुरुष की मुख, भुजाओं, जांघ और पैर से उत्पन्न नहीं हो सकती? क्या कोई कभी बिना जैविक पद्धति से पैदा हुआ है? मुख से क्या इंसान पैदा हो सकते है? ये कैसा मूर्खता है और इस मूर्खता को ज्ञान की चोला क्यों सदियों धर्म के नाम पर पहनाया गया और फैलाया गया? ये क्या मूर्ख सोच का गुंडा गर्दी नहीं है?

इंसानों का इंसान होना क्या काफी नहीं है जो उनको किसी दूसरे की सोच का सर्टिफिकेट चाहिए? इंसानों की अशांत मन और अज्ञानता केलिए अंधविश्वास की सहारे की क्या जरूरत? हम विज्ञान, तर्क और सत्य का सहारा भी तो ले सकते हैं? नैतिकता के लिए हम को अंधविश्वास धर्म की छतरी के नीचे बैठनेकी क्या जरूरत? हम तार्किक या वैज्ञानिक नैतिकता सत्य, तर्क और विज्ञान से भी तो पा सकते हैं।  किसी संकीर्ण सोचवालों इंसानों का बनाया सामाजिक और धार्मिक पहचान सर्टिफिकेट की क्या जरूरत? जो मानवता को अपने झुण्ड यानी अपने ही बनाया हुआ भीड़ तक सीमित रखना चाहते हैं और उस भीड़ को धर्म कहते हैं; हर किसी को उस भीड़ में शामिल होने का जरूरत ही क्या है? जो जिस भीड़ में पैदा हुआ उस इंसान की नाम करण उसकी भीड़ के नाम से हो गया । एक इंसान को किसी दूसरे की सोच की पहचान जैसे ईसाई इंसान, इसलामी इंसान और हिन्दू इंसान की ब्रांड की जरूरत ही क्या है? क्या इंसानों को किसी भगवान की सोच के ऊपर आधारित सामाजिक पहचान की ब्रांड की जरूरत है? क्या ये एक तरह की मानसिक विचलन नहीं है? इन बुराई सोचों को दूर करना क्या हम सबकी जिम्मेदारी नहीं? अगर देश की सोच साफ़ और सुस्त होगी तब तो देश समृद्ध और विकासशील होगा ।

धर्म का अर्थ सत कर्म है; अच्छा सोचो, सत्कर्म करो उसकेलिये किसी धर्म की छतरी के नीचे बैठनेकी जरूरत क्या है? धर्म पुराने ज़माने में एक पोलिटिकल पार्टी का जैसे काम करता था जिससे एक कम्यून को अपना राइट्स और जस्टिस के साथ साथ जीने का का कला मिलता था । अब तो फ्रीडम ऑफ़ लाइफ है आप आजाद से अपनी हिसाब से जी सकते हो क्योंकि अब हमारा देश डैमोक्रेटिक है न इस्लामिक स्टेट है न हिन्दू स्टेट और यहाँ पोलिटिकल पार्टियाँ ही देश को मैनेज करते हैं ना कोई धर्म फैलाने वाला राजा; तो धर्म की लड़ाई क्यों? अगर रूढ़िवादी पोलटिकल पार्टियाँ पसंद नहीं तो हम सत्ता बदल सकते है । एक नई पोलिटिकल पार्टी बना के उससे अपना देश को समृद्ध कर सकते हैं उसकेलिये नई सोच की आवश्यकता है न की पुराने यूग के रूढ़िवादी संकीर्ण सोच की । वैसे तो देश में २००० से ज्यादा रजिस्टर्ड पोलिटिकल पार्टियां है; बात पोलटिकल पार्टियों से से ज्यादा पोलटिकल पार्टियों के सोच की और उनके पॉलिटीशन्स की नियत की है । हमरादेश में ज्यादा पोलिटिकल पार्टियां बनने से अच्छा पोलिटिकल रेफोर्मेसन (Reformation) की ज्यादा ज़रुरत है ।  उनके नीति से ज्यादा उनके नियत साफ़ होना ज्यादा जरूरी है । ऐसे लगता है आज की प्रमुख पोलिटिकल पार्टियां सोसिओपैथ्स की झुण्ड है जो अपनी संगठित लाभ केलिए काम करते हैं; जो देश केलिए कम अपने केलिए ज्यादा सोचते हैं । ऐसा नहीं की हर पोलरिटीशन बेईमान और सोसिओपैथ है जबकि ज्यादातर प्रमुख पोलिटिकल पार्टियां  प्रमुख सोसिओपैथ्स से ही संचालित होता है और अच्छे पोलरिटीशन उनके गुलाम यानी दास होते हैं जहाँ कुछ अच्छे करने का आजादी की दम घूंट दिया जाता है और अपने पार्टी के स्वार्थ को ज्यादा इम्पोर्टेंस दियाजाता है । रूढ़िवादी या सांप्रदायिक या अतिवादी  पोलिटिकल पार्टियां  अपने सोच भी बदल सकते है लेकिन जो ज्यादातर होता नहीं है । हर पोल्टीसिअन हमारे देश का मानव संसाधन होते हैं कोई एक पोलिटिकल पार्टी का दास नहीं जो उनकी कुत्ते के जैसे नमक हलाली करें । अगर ऐसे पोलटिकल पार्टियां है जिनको बस अपनी पोलिटिकल पार्टी का ज्यादा फ़िक्र है देश की नहीं वह कुत्ता पाललें पोल्टीसिअन्स नहीं ।  अगर पोलटिकल पार्टियों का प्रोटोकॉल और मोटिव गलत हो या वह उसमें सहज या गड़बड़ी महसूस करें व उससे छोड़ जो अच्छी पार्टी है उसमें जा सकते हैं या सब अच्छे पॉलिटिसिअन्स मिल के एक नइ सोच की पोलिटिकल पार्टी भी बनासकते हैं जो देश का सोचता हो अपने संगठित स्वार्थ की नहीं; ये जरूरी नहीं अगर कोई कल देश चलाता था वही सही है और उसकी हाथ में ही देश की डोर रहेगी । पार्टियों का सोच टाइम के साथ बदलना या गलत पार्टियों के विरुद्ध यानी उनके विरोध में अच्छी पार्टियां बनना एक अच्छे गणतंत्र की निशानी है । अक्सर हमको बुरा या ज्यादा बुरा और कम बुरा से एक को अपना देश की मुखिया चुनना पड़ता है; जिसको हमको बदलना होगा । देश की पोलटिक्स को उस लेवल तक लेना होगा जहाँ पर विकल्प (choice) अच्छा और उससे ज्यादा अच्छा से हम को अपना देश की मैनेजर चुनना पड़े । गणतंत्र ही हमारा बल है उसे हमें हर हाल में बचाया रखने की जरूरत है । अगर उसको बचानेकेलिए हमें हिंसा की सहारा लेने पड़े उससे पीछे हटना गलत ही होगा । क्यों की जैसे अपने जीवन का रक्षा करना एक प्राकृतिक अधिकार है वैसे ही गणतंत्र की रक्षा करना हमारा सामूहिक सामाजिक अधिकार है क्यों की गणतंत्र ही हमारा देश की जीवन है ।

Posted in Uncategorized | Tagged | Leave a comment

अगर बुद्ध विष्णु का अवतार हैं कभी ब्राह्मणों को बुद्ध की पूजा करते देखा है?

इंडिया का बुद्ध सभ्यता

हमारा देश का नाम ना भारत था, ना हिन्दुस्तान था, ना इंडिया; ये विशाल भूखंड सदियों छोटे बड़े राज्यों का मिश्रित समूह रहा, ये भूखंड समय के साथ राजाओं के राज से जाना जाता था । ये भूखंड अनेक भाषीय सभ्यता का भूखंड है । आज भी यहाँ १२२ प्रमुख भाषा और १५९९ अन्य भाषाएं देखने मिलते हैं । जितने तरह की प्रमुख भाषाएं है उतने ही भाषीय सभ्यता इस भूखंड पैदा किया । क्यों की वर्ण व्यवस्था संस्कृत भाषा में ही कंपोज़ किया गया है और दूसरे भाषाओं को ट्रांसलेट कियागया है इसका मतलब ये है गैर संस्कृत भाषीय सभ्यताओं के ऊपर वर्ण व्यवस्था को इम्प्लीमेंट कियागया है । पुराने युग में कोई वर्ण व्यवस्था नहीं थी । संस्कृत बोलनेवाले या इस भाषा को अपना पहचान मानने वाले धूर्त्तों ने वर्ण व्यवस्था पैदा किया जो की रिग वेद परुष सूक्त १०.९० में लिखित है । पुरुष सूक्त यानी वर्ण व्यवस्था सम्पूर्ण रूप से बुनियादी मानवाधिकारों का उल्लंघन करता है और आज तक इस व्यवस्था को इस भूखंड में क्यों संरक्षण दी जा रही है वह एक बड़ा प्रश्न है । संस्कृत भाषा इस भूखंड का कभी भी लोकप्रिय भाषा नहीं रहा; संस्कृत भाषा को  किसने और कब अपभ्रंश या ध्वंस किया कभी आपने सुना है? संस्कृत भाषा को आजाद इंडिया में संरक्षण यानी ऐकाडेमिकस में बाध्यता विषय बनाने का बावजूद ये आज तक कभी इस भूखंड का लोकप्रिय दूसरी या तीसरी लैंग्वेज भी बन नहीं पाया । संस्कृत सब भाषा की जननी है ये बात धूर्त्तो ने फैलाई और मूर्खोंने आपने अज्ञानता के वजह से इसका ऊपर अंधविश्वास किया । अगर ये इतनी पुरानी और लोकप्रिय होता इसका आज के बोलने वाले कभी १५ हजार से भी कम नहीं होते । इन धूर्त्तों ने गैर संस्कृत बोलनेवाले सभ्यता को अगड़ी और पिछड़ी में बांटा और ऐसे साजिश की पिछड़ा कभी अगड़ी ना बन पाए । इसलिये ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य की पहचान बनाई जो की वैदिक समाज में पुरुष सूक्त के अनुसार समाज की प्रमुख पेशा (professions) थी, इस प्रमुख वृत्तियां को उनलोगोंने आपने और अपना पीढ़ियों के लिए आरक्षित (reserve) कर दिया और उसकेलिये सरनेम का इस्तेमाल किया; इसलिये पुजारी वर्ग ज्ञान को रिज़र्व कर दिया ताकि उनके ज्ञान से दूसरे चलें; जब की क्षत्रीय को क्षेत्र; यानी पीढ़ीगत राज और प्रसिद्धि के साथ साथ यश का रिजर्वेशन मिला । जो ब्योपारी  वैदिक बनिया का पहचान अपनाया वह खुद को वैश्य कहने लगे, और इस वृत्ति को अपने पीढ़ियों के लिए रिज़र्व कर दिया यानी सब अच्छी पेसाओं (professions) को वह खुद और उनके बच्चों के लिए आरक्षित (reserve) कर दिया और ये तीन प्रमुख बृत्तियों को अपनानेवाले गोष्ठी/class फ्रीडम ऑफ़ प्रोफेशन को बंद यानी जड़ (freeze) कर दिया और समाज के रूलिंग क्लास बन गए; इन तीन प्रमुख बृत्तियों को छोड़ के जितने भी बृत्तियाँ थे उनको शूद्र यानी उनके गुलाम बताया गया । यानी ज्यादातर श्रम श्रेणी (labor class) ही शूद्र बने, जिन को वैदिक वर्ण व्यवस्था लागू करके रूलिंग क्लास यानी शासक वर्ग बनने से रोका गया । अगर इस धर्म का कोई स्वतंत्रता होता क्या कोई अपनी मर्जी से शूद्र बनना पसन्द करता? इसलिये जो शूद्र हैं उनको जबरन शूद्र बनाया गया है यानी ये पहचान उन पर जबरन थोपा गया है और उनको सदियों फ्रीडम ऑफ़ प्रोैफैशन अपनाने से रोका गया है ।  शूद्रों को ज्ञान प्राप्ति की इसलिए प्रतिबन्ध लगा दी गयी क्यों की ज्ञान प्राप्ति से वह शासक वर्ग न बन जाये और गुलामों की कमियां न हो जाये; इसीलिए न केवल ज्ञान; समानता, सम्मान, स्वस्थ जीवन के अधिकार, संपत्ति का अधिकार, समान अवसर और उचित न्याय से उनको सदियों वंचित किया गया बल्कि उनको सदियों प्रताड़ित भी कियागया । वर्ण व्यवस्था को अपनाना या जोर जबरदस्ती किसी राज की ऊपर थोपने के पीछे ये मनसा थी की तब का शासक वर्ग हमेशा शासक वर्ग बने रहे और श्रम श्रेणी हमेशा श्रम वर्ग । ये गोष्ठियां/professional classes कोई एक मूल से नहीं हैं क्यों के स्थानीय भूखंड के बदलते ही इनके सरनेम और उनकी मातृभाषा अलग अलग हो जाते हैं, जिसका मतलब ये है की ये कोई एक मूल स्रोत से पैदा श्रेणी नहीं है, अगर होते उनके सरनेम और उनकी मातृभाषा एक होता अनेक नहीं; बल्कि ये एक सोच की श्रेणी है जो की प्रोफेशन से बंटी हुई हैं जैसे आज देश तरह तरह की पोलिटिकल पार्टियों के सोच से बंटी हुई है । वह ब्राह्मण हो या क्षत्रिय, वैश्य हो या शूद्र यह एक एक वृत्तीय श्रेणी है जिनको वैदिक परुष सूक्त के अनुसार विभाजन किया गया है । इसलिए हर भाषीय सभ्यता जिन्होंने ये वर्ण व्यवस्था आपनाई या उन पर थोपा गया उनके भाषा और सरनेम बदलते रहते है लेकिन वह सब उनके बृत्तियोंसे वर्गीकृत हुए हैं । आंध्र का महार या ब्राह्मण के साथ गुजराती ब्राह्मण या महार की साथ कोई रिश्ता नहीं सिवाय  एक वृत्तीय वर्ग की, शूद्र वृत्तीय वर्ग को अनपर थोपा गया क्यों की वैदिक सामाजिक वर्ण व्यवस्था फ्रीडम ऑफ़ प्रोफेशन यानी  पेशे की स्वतंत्रता को पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया था । यदि आप वर्ण व्यवस्था की मनोवैज्ञानिक विश्लेषण करेंगे ये आप को साफ़ साफ़ दिख जायेगा जिन राजाओं या सामाजिक सभ्यता वर्ण व्यवस्था को अपनाया उसी भाषीय सभ्यता की ही लोग चार वृत्तीय वर्ग में बंट गए; ज्यादातर उनके ही लोग जो धूर्त, बाहुवली या दबंग और बेईमान या सयाना ब्योपारी थे वह शासक बर्ग रूप में ऊंची जात यानी सबर्ण यानी अगड़ी बन गए और जो पिछड़ी उनसे थोड़ा कमजोर थे उनको  शूद्र यानी गुलाम बनाया गया । अगर आप मनोवैज्ञानिक विश्लेषण करें ब्राह्मण ही उनके अनुगामिओयों से ज्यादा अंधविश्वासी और तर्क अंध बने, जब की ज्यादातर उनके अनुगामी अज्ञानता, अंधविश्वास और तर्क अंधापन की सीकार के साथ साथ उनके उत्पीड़न के वजह से उनसे ज्यादा सहिष्णु, विनयशील, अनुशासित वर्ग बन गए । खुद की धूर्तता, चतुराई और शातिराना दिमाग इस्तेमाल करके दूसरों को बेवकूफ बना के बैठ बैठ के परजीवी की जैसे जीना और लोगों की जिंदगी और दिमागों को नियंत्रण करने के चक्कर में खुद की नस्लों को ही मानसिक विकृत बना डाला । आज तक निर्जीव मूर्तियों को ब्राह्मण घंटी बजा के उठाता है, फूल, चन्दन और बस्त्र से श्रृंगार करवाता है, सूंघ ने को अगरवती जलाता है, अंधेरे दूर करने को दीप जलाता है ताकि भगवान देख सके जब की खुद की दिमाग की अँधेरा दूर करने की जरूरत है; उनको संस्कृत की मंत्र यानी गाना सुनाता है, खाने को भोग देता है, और उन निर्जीव मूर्त्तियों के सामने जीवित जीवों की वली भी देता है; ये मानसिक विकृति नहीं तो क्या है? अगर आप आपकी मरे हुए कोई पालतू पशु की मूर्ति बना के वह सब करे जब वह जीवित था तो क्या आप इसको स्वस्थ दिमाग की हालत बोलेंगे या मानसिक विकृति? अगर वैसे ही आचरण आप अपने निर्जीव भगवान की मूर्त्तियों के सामने करते हो ये कैसा स्वस्थ दिमाग कहा जा सकता है? क्या इन निर्जीव मूर्तियओं के पास इंद्रियाँ है जो ये सबकी अनुभव करते हैं? जब एक सेर की मूर्ति आप को खा नहीं सकता, एक इंसान की मूर्ति आप को मदद नहीं कर सकता तो एक भगवान की मूर्ति आप को कैसे मदद कर सकता है? कभी आपने मूर्त्तियों के ऊपर चिड़िया को बैठते देखा है? अगर नहीं देखा तो देख ना, वह साधारण चिड़िया ये जानता है मूर्तियों से उस को खतरा नहीं क्यों की वह जड़ है; तो मूर्त्तिवादियों की क्या उस चिडियोंसे भी कम अकल है? या भगवान भ्रम उनको तर्क अंध बना देता है? आप इसको स्वस्थ दिमाग की निशानी कैसे मान सकते हैं? कोई भी चित्र, मूर्ति या चल चित्र केवल संज्ञान पैदा कर सकते हैं वह कोई प्रत्यक्ष क्रिया पैदा नहीं कर सकते । क्या कोई सेर की मूर्ति को आपने शिकार करते हुए देखा है? या गाय की मूर्ति दूध देते हुए? तो एक मूर्ति को जो आप भगवान के रूपमें पूजते हो न आप के पूर्वज उनको जीवित देखे थे ना आप की बाप दादा; उन मुर्तियों को श्रृंगार करने से, खाना खिलाने से (भोग) या उनके आगे जीवित जीवों की वली देने से या गाना (मंत्र या भक्ति गीत) सुनाने से क्या वह निर्जीव मूर्त्तियां आप को हैल्प कर देंगे? अगर आप को इतनी भगवान की लत है और आप का तर्क ये है भगवान दूसरों की रूप में मदद करता है तो मदद करनेवाला को ही भगवान मान लो! हैल्प करे कोई और नाम ले एक काल्पनिक या मरा हुआ एंटिटी की निर्जीव प्रतिमा? जिसकी दुकान खोल के ब्राह्मण बैठा है! क्या आप की दी गयी भेंट मूर्ति लेता है या ब्राह्मण ही चट कर जाता है? एक भक्त का पास कौनसा ऐसे यन्त्र है जो हैल्पिंग हैंड है उसकी भगवान की भेजा हुआ बंदा है वह जान लेता है? तो ये क्यों नहीं मानते जो हो रहा है सही है और हर वह चीज जो आप की जिंदगी में हो रहा है सब भगवान दूसरों की मदद से कर रहा है? यानी एक्सीडेंट, रोग, चोरी, रेप, हत्या, जितने भी बदतर चीजें हो रही हैं सब भगवान दूसरों की सहारे कर रहा क्यों की वह उसकी हिसाब से सही है? तो ना दुखी होने का ज़रुरत ना भगवान की पास जाने की जरूरत । अगर आप भक्ति नहीं भी करोगे आपकी भगवान जो चाहेगा वही होगा और जो अभी आप हो वह भगवान की मर्जी से हो । कोई काल्पनिक एंटिटी के आड़ में अपने आप को सही या गलत ठहराना, और अपने विचार और कर्मों की वजह से वह हुआ है उस को नकारना, क्या स्वस्थ दिमाग की निशानी हो सकता है? हैल्प करनेवाल एक गैर धर्मी या भगवान को ना मानने वाला भी तो होसकता है? जो केवल इनसानियत के नाते हैल्प करता हो? खुद की विकृत मन को समझाने के लिए प्रतीकात्मक का इस्तेमाल क्या अज्ञानता, मूर्खता और विकृति नहीं? अगर हेल्प की दुनिया केवल अपने भगवान की नाम से हो ये सियासी, चमचागिरी, पक्षपात और साम्प्रदायिकता नहीं है तो क्या है? वैसे हम ज्यादातर मरे हुए लोगों को याद करने के लिए उनकी मूर्ति का प्रतीकात्मक इस्तेमाल करते हैं, ना की उनसे रोबोट जैसे काम लेने के लिए । अगर मूर्ति या फोटो वाली भगवान को बात करने से या उनको चढ़ावा यानी भोग देने से भगवान की तुष्टीकरण यानी संतुष्टि हो जाता है और प्रसन्न होकर मनोकामना पूरी हो जाता है तो ये चीज हम अपनी जिंदगी में भी इस्तेमाल करना चाहिए । घर में आपने स्कूल जानेवाले बच्चों की फोटो के सामने खाना रखदो स्कूल में उनकी पेट भर जायेगा; और तो और कुछ लोगों को ड्यूटी में टिफिन लेने की जरूरत ही नहीं, पत्नी आपने घर में ही पति के फोटो के सामने खाना रखदे तो ऑफ़िस में खुद व खुद पतिका पेट भर जायेगा । अगर ऐसे नहीं होता तो आप इस सोच को क्या स्वस्थ सोच कहना पसंद करोगे? क्या आपको ये अहसास नहीं भगवान भ्रम पैदा करके कोई आपकी दिमाग को नियंत्रण कर रहा है? खुद ब्राह्मण अपनी मल द्वार मरते दम तक साफ़ करता है लेकिन वह हाथ जिससे वह अपना मल साफ़ करता है वह अछूत और मेहतर नहीं बनता, लेकिन जो उसकी मल को पर्यावरण को साफ़ रखने के लिए विस्थापित करता है उस को अछूत बोलता है; ये कौनसी ज्ञान की परिभाषा है? पुराने ज़माने में दबंग जैसे डाकू, चोर और लुटेरा क्या राजा नहीं बने? आप को ये सबूत भी मिलजाएँगे गाय चराने वाला भी राजा बना; क्या राजाओं की कोई पूर्वज हमेशा राजा होना जरूरी है या था? राजाओं के बच्चे कैसे अनुवंशीय राजा बने इसलिए कई राजाओंने इस वर्ण व्यवस्था को क्षत्रिय पहचान की रूप में अपनाया जब की ना अपनाते तो भी राजाओं के बच्चे कई सामाजिक व्यवस्था में राजा ही होते थे और अयोग्य होने पर कोई और हो जाता था । हर राजा को वैदिक सर्टिफिकेट क्षत्रिय की क्या जरूरत? क्या हम राजा सिकन्दर (Alexander the Great) और मुसलमान राजाओं को क्षत्रिय बोलते हैं? पुरुष सूक्त के अनुसार केवल राजा ही क्षत्रिय है ना की उनकी जमीन को रखवाली करनेवाले जमींदार (जैसे चौकीदार घर का पहरा देता है और उस को चौकीदार कहा जाता है; वैसे जमींदार राजाओं की जमीन की रखवाली करता था, जिस वृत्ति का पुरुष सूक्त १०.९० में कोई जिक्र ही नहीं है इसलिए उस को क्षत्रिय माना नहीं जा सकता) या जंग लड़ने वाला सिपाही या इन जैसे बृत्तियों के लोग । असली में क्यों के राजा की संख्या और उनकी वंशज कम थे उनकी संख्या यानी वैदिक पहचान अपनाने वाले राजाओं की संख्या यानी क्षत्रिय की संख्या कम ही होगी; यानी ये अब एक करोड़ से भी कम होंगे । अब जो खुद को क्षत्रिय की सर्टिफिकेट देते हैं वह दरअसल उपलिफ्टेड यानी अगड़ी शूद्र है जो आपने आप को शूद्र कहलवाना पसंद नहीं करते हैं और उनको इस बात का शर्म आता है, और खुद को ऊँची जात कहलवाने में सान महसूस करते हैं यानी खुद को वेद की गुलाम कहने में सान महसूस करते हैं; इसीलिए आप को कई ऐसे लोग मिलजाएँगे आज तक खुद की वर्ग को क्षत्रिय बनाने के चक्कर में आज भी लगे हुए हैं; अगर वह क्षत्रिय होते आज उनको क्षत्रिय होने की संघर्ष करने की क्या जरूरत है? क्या जो गैर वर्ण वाले समाज में लोग हैं वह इंसान नहीं? वह क्या आपने आप को वर्ण से बाँटते हैं? इंडिया को छोड़ के आपने कहीं वर्ण व्यवस्था देखा है? क्या उनका राजा राजा नहीं? उनका पुजारी पुजारी नहीं? या उनके व्यापारी व्यापारी नहीं? कभी आपने इंडिया की वैदिक अनुगामियों को छोड़ के पुजारी के लिए ब्राह्मण पहचान, राजा के लिए क्षत्रिय पहचान या व्यापारी के लिए वैश्य की पहचान इस्तेमाल करते देखा है? हमारे लोगों को वैदिक वर्ण का सर्टिफिकेट का क्या जरूरत? क्या वैदिक वर्ण व्यवस्था की सर्टिफिकेट की भूख यानी झूठी सान की ऊँची वर्ग का नशा क्या दिमागी पागलपन नहीं है? पूर्वजों की बृत्तियों के वैदिक सर्टिफाइड सरनेम वर्तमान की पीढ़ियों को क्या जरूरत? अब तो मेहतर, महार यानी वैदिक सर्टिफाइड अति शूद्र यानी दलितों की बच्चे भी डक्टर, इंजीनियर वकील बनते हैं, उनको अपने पूर्वजों की काम से सामाजिक पहचान देने के पीछे क्या लॉजिक है? क्या आप को नहीं लगता कुछ रूढ़िवादी लोग वर्ण व्यवस्था जैसे अंधविश्वास को  कायम रखने के कोशिश में है? यानी अपने ही लोगों को बांटना और उनके जिंदगी और उनके दिमाग को आपने स्वार्थ या संगठित स्वार्थ के लिए नियंत्रण करना उनके मक़सद है? यही सोच हमारे अखंड भूखंड को सदियों बाँटता आ रहा है और हर सम्पदा से भरपूर रहने के बावजूद देश हमेशा दूसरों देशों से हमेशा पिछड़ा रहा है क्यों की यहां के गंदी पॉलिटिसियानस इस वर्ण व्यवस्था और धर्म को मोहरा बना के आपने राजनीति की दुकान कायम रखना चाहते है और हमारी दी गयी टैक्स को चोरी करके सदियों देश को लूटने की चक्कर में रहते हैं । एक नेशन एक हि तरह की सिटीज़न बनने नहीं दे रहे हैं अगर एक जुट हो जायें तो उनकी दुकान कैसे चलेगी? इसलिये लोगों को वर्ण और धर्म से तोड़ा जा रहा है और तोड़ने वाले कोई नहीं वही स्वार्थी मतलबी संगठित सोसिओपैथस हैं । क्या आप जानते है देश स्वाधीन होने के वाद हमारे देश के ही लुटेरों ने  यानी सफ़ेदपोस अपराधी (वाइट हॉटेड/कलर क्रिमिनल्स) १०० ट्रिलियन डॉलर्स से भी ज्यादा धन काले धन के रूप में बहार रखे हुए हैं? वर्ण व्यवस्था क्यों की ब्राह्मणों का नियंत्रित सामाजिक व्यवस्था था  इसलिए अवसरवादिता उनके हात में ही था । इसलिए जब विदेशी ज्ञान जैसे इंजीनियरिंग या एलोपैथिक चिकित्सा का ज्ञान इत्यादि इत्यादि देश में फैला उनके अगड़ी यानी सवर्ण वर्ग ही ज्यादातर स्किल्ड होने का अवसर ले ली इसलिए आप को अब ज्यादा स्किल्ड प्रोफेशनलस उनके वर्ग के ही मिलजाएँगे; लेकिन दुःख की बात ये है ज्यादातर ये आप को विदेशी मुल्क में भी मिलेंगे क्यों के ये मौका परस्त भी हैं । ये इस भूखंड की मिट्टी, हवा और लोगों से पले बड़े लेकिन जब इस भूखंड को सेवा देना का समय आया तो गुलामी करने अमेरिका, कनाडा जैसे देश को भाग गए ।  ज्यादातर वाइट हॉटेड संगठित सोसिओपैथस वैदिक सर्टिफाइड सबर्ण ही हैं । इसका मतलब ये नहीं के वैदिक सर्टिफाइड शूद्र पुरे पाक साफ़ है । अपराधी जात और धर्म नहीं देखते हैं क्यों की उनके डिजायर उनके कंट्रोल में ही नहीं रहता इसलिए अपने डिजायर को फुलफिल करने के लिए वे किसी भी तरह की अपराध करने से नहीं चुभते । वैदिक वर्ण व्यवस्था  ज्यादातर वाइट हॉटेड क्रिमिनल्स को ही सदियों सवर्ण सर्टिफिकेट देकर अपलिफ्ट किया है और उनको सदियों वाइट हॉटेड क्रिमिनाल बनाता आ रहा है जब की उनके हर पीढी के हर संतान वाइट हॉटेड क्रिमिनल था या है कहना पूरी तरह से गलत होगा ।

सदियों इस भूखंड का नाम उनके राजाओं के राज से पहचाना जाता था ।  इस भूखंड का सबसे बड़ा राज्य मौर्य साम्राज्य बना जो की एक बौद्ध सम्राज्य था । यानी हमारे ज्यादातर पूर्वज बौद्ध धर्मी थे; क्यों के बुद्धिज़्म 263BC के बाद विश्व का सबसे बड़ा प्रमुख धर्म यानी मेजर रिलिजियन था; जब की वैदिक धर्म 185BC के बाद ही केवल इस भूखंड का प्रमुख होने की कोशिश की, ईसाई धर्म 33AD के बाद बना और इस्लाम 610AD के बाद ही दुनिया में आया, जब इस्लाम राजाओंने इस भूखंड में राज किये यानी 700AD के बाद ही हिन्दू धर्म का उत्पत्ति हुई । बौद्ध धर्म तार्किक धर्म था जो की ईस्वर, मूर्ति पूजन, बहु देवबाद, अंधविश्वास, असामंज्यता,  ऊंच नीच,  छोटे बड़े,  छुआ छूत, वर्ण व्यवस्था, हिंसा इत्यादि असामाजिक चीजों का घोर विरोध करता था । बौद्ध धर्म मानव समाज को एक ही परिवार मानता था । जबकि वैदिक धर्म अपने अनुगामियों को ही जात पात, बड़ा वर्ण छोटा वर्ण से अलग करते हैं, जिनसे एक परिवार का सोच भी मूर्खता होगी; जो की असलियत में वंशावली मालिक और गुलाम की व्यवस्था है । क्यों की वर्ण व्यवस्था इसी भूखंड का धूर्त्तों की बनायीं गयी संकीर्ण सोच थी इस भूखंड से बाहार जा नहीं पाया; जब की बौद्ध धर्म उसकी व्यापकता ज्ञान के वजह बिना हिंसा, बिना छल और बल, और बिना धूर्तता के बहुत सारे जगह फैल गया । बौद्ध धर्म को हिंसा के सहारे या अपभ्रंस करके ख़तम किया गया । 263BC से 185BC तक ये भूखंड बौद्ध साम्राज्य के नाम से जाना जाता था । बौद्ध धर्म से पहले इस भूखंड का कोई प्रमुख धर्म(major religion) नहीं था । 185BC में वैदिक ब्राह्मण सेनापति पुष्यामित्र शुंग ने राष्ट्रद्रोह करके धोखे से last Mauryan Empire की राजा बृहद्रथ का हत्या की और मौर्य साम्राज्य को हथिया लिया । ये सेनापति कोई युद्ध करके नहीं बल्कि अपने मालिक को धोखा देकर बेईमानी से हथिया लिया था । समय के साथ वैदिक प्रचारकों ने बौद्ध धर्म और इस भूखंड में जितने भी तार्किक धर्म थे उनको न केवल प्रदूषित किया उनको नष्ट भी किया और कुछ को अपने धर्म की छत्रछाया में ले आए । बौद्ध धर्म को समूल खत्म करने की कोशिश हुई । पुष्यमित्र शुंग ने बौद्ध सन्याशियोंका सामूहिक नर संहार किया । आतंक, दहशत, छल और बल, साम, दाम, दंड, भेद से मनुस्मृति को लागू करके वैदिक वर्ण व्यवस्था को जबरन हर गैर संस्कृत भाषी सभ्यता के ऊपर लागू किया गया । हर भाषीय सभ्यता के धूर्त, दबंग और बईमानों को अगड़ी यानी सबर्ण बनाया गया और पिछड़ों को उनके गुलाम यानी शूद्र । इस तरह अशोका की बुद्धिस्ट किंगडम अगड़ी और पिछड़ी दो समुदाय में बंट गया और समय के साथ ऐसे ही वैदिक धर्म फैलता चलागया । संगठित पुजारीवाद जो अपने आप को ब्राह्मणवाद का पहचान दी असलियत में हर भाषीय सभ्यता की धूर्त, शातिर और चालाक मूल निवासी थे, लेकिन ये जरूरी नहीं है की उनकी हर पीढी के हर संतान उनके ही जैसे सम्पूर्ण धूर्त, शातिर और चालाक हैं; जिन्होंने ब्राह्मणवाद को भक्तिवाद से जोड़ा और भगवान की नाम पे एक पोलिटिकल मूवमैंट चलाई जिससे हर गैरवैदिक धर्म यहाँ विलुप्त हो गया । इनलोगोंने झूठ, अंधबिस्वाश, अज्ञानता, मूर्त्तिवाद, छुआ छूत, ऊंच नीच इत्यादि सामाजिक बुराईयां धर्म के नामपे फैलाई और यहाँ की हर पीढी उनके फैलाई हुई झूठ को ही अपना पहचान की उत्पत्ति मान ली । इनलोगोंने अपनी मन गढन कहानियों को इतिहास बताया और हर पीढ़ी को भ्रम में डाला । इसीलिए ब्रम्हा, विष्णु, महेश जिनका कोई जैविक उत्पत्ति नहीं फिर भी इंसान की जैसे दीखते हैं और ये हर स्क्रिप्चर में स्पष्ट से  लिखा है  की वह सब मन से पैदा हुए हैं यानी काल्पनिक है फिर भी इनलोगोंने उनके अनुगामियों को ये अहसास दिलादिया के वह सब सत्य है । इस भूखंड का ज्यादातर मूल निवासी उनके झांसा में आ गये और वैदिक धर्म 185BC के वाद इस भूखंड का सबसे बड़ा धर्म बन गया । वर्ण व्यवस्था के वजह से इस भूखंड का सबसे बड़ा श्रेणी गुलाम यानी शूद्र बन गया । क्यों के ज्यादातर अनुगामी बुद्धिस्ट थे उनको जान सुनकर उत्पीड़ित किया गया और सदियों हर चीजों से बंचित किया गया । जब 700AD के बाद बाद मुसलमान आक्रमणकारियों इस भूखंड में आये तो सिंध भाषीय सभ्यता नाम से प्रेरित उनके राज(kingdom) के नाम रखे जैसे अल-हिन्द, इंदोस्तान, हिन्दुस्तान इत्यादि । अल-हिन्द, इंदोस्तान, हिन्दुस्तान इत्यादि शब्द का इस्तेमाल हमारे भूखंड में पैदा कोई भी स्क्रिप्चर में नहीं मिलेंगे; यहाँ तक की हिन्दू शब्द भी नहीं मिलेगा ना वैदिक धर्म माने वालों का भगवान हिन्दू थे ना उनके अनुगामियों के नाम हिन्दू । हिन्दू पहचान इस्लामी राज में ही दियागया पहचान है । मुसलमान आक्रमण कारियोंने यहाँ की कुछ मूल निवासियों के ऊपर अपनी धर्म को जबरन इम्प्लीमेंट किया; लेकिन ज्यादातर शूद्र और अतिशूद्र यानी Out Caste यानी वर्ण व्यवस्था से बाहर, जो की सदियों वैदिक सबर्णों से उत्पीड़ित रहे वह ज्यादातर इस्लाम धर्म क़बूल ली ।  जो मुसलमान अब जिस भाषीय सभ्यता के मिट्टी से जुड़ा है उनके पूर्वज भी उसी मिट्टी से जुड़े थे अगर कोई स्थानान्तरण का मसला ना हो तो वह उसी ही भाषीय सभ्यता की ही मूल निवासी है और समय के साथ इस्लाम क़बूली है । इसका मतलब ये है गुजरात में दिखने वाले मुस्लिम, गुजराती मूलनिवासी से ही मुसलमान बने हैं, आंध्र का मुसलमान आंध्र की तेलुगु भाषीय मूलनिवासी हैं, मराठा में दिखने वाले मुस्लिम मराठी भाषीय मुलनिवाशियोंसे ही इस्लाम क़बूली है इत्यादि इत्यादि । यहां को इस्लाम लाने वाले विदेशी इस बहु भाषीय सभ्यता में विलीन हो गये हैं जिनका कोई अनुवंशीय सत्ता और नहीं है । यहाँ दिखने वाले मुस्लिम 97% से ज्यादा यहाँ के मूलनिवासी है और 3% से भी कम विलीन विदेशी मुल्क की वंशज । नगरी (नगर की भाषा जिसका परिवर्तित नाम हिंदी है) भाषा में कुछ पार्सी और आरबीक शब्द मिला के उर्दू भाषा को 1600AD के वाद मुसलमान राजाओं की राज में यहाँ की मुसलमानों की मातृभाषा बना दी गयी है जब की उनकी मिट्टी से जुड़ी उनके सेकेण्ड लैंग्वेज ही उनकी पूर्वजों की मातृभाषा थी । क्यों के इस्लाम की राज में मुसलमानों को गैर मुसलमानों से अलग करना था तो इस्लाम शासकों ने गैर मुसलामानोंको हिन्दू पहचान दे दी; जो की तब का ज़्यदातर बुद्धिजीम से कनवर्टेड वैदिक अनुगामियों का पहचान बन गया । असलियत में देखो तो हिन्दू का मतलब इस्लाम राजाओं का गुलाम ही होगा ।  हिन्दू पहचान जो की शिन्दु नदी और शिंद प्रोविंस यानी शिन्दु सिविलाइज़ेशन से आया है; ३००० साल पहले तब शिन्दु पहचान था की नहीं कौन जानता है? कोई क्या अपने आप को मुसलमानों की गुलाम कहलवाना पसंद करेगा? ये दरअसल अज्ञानता की सबूत है की वैदिक धर्म फैलाने वाले अपने धर्म को फैलाने के लिए हिन्दू पहचान का चोला पहना हुआ है । वैदिक धर्म दरअसल शैवजिम, वैस्नबजिम, सक्तिजिम, मूर्त्तिवाद की बहुदेववाद की अगुवाई करता है और ये समूह विश्वास यानी आस्था को हिन्दुइजम कहाजाता है । शिन्दु भाषीय सभ्यता से गैर सिंद्धु सभ्यता जैसे पंजाबी, पाली/ओड़िआ, खरीबोलि/नगरी/नागरी/हिंदी, तेलुगु, तामील इत्यादि इत्यादि भाषीय सभ्यता से क्या सम्बद्ध? अब partition के बाद सिंध भूखंड शिंद प्रोविंस के नाम से पाकिस्तान का हिस्सा है और शिन्दु नदी भी पाकिस्तान में बहता है । शिंद प्रोविंस का ज्यादातर मुलनिवाशी अब मुसलमान हैं जब की उनके नाम से एक बड़ा वर्ग जबरन हिन्दू के नाम से जाना जाता है जो की मुर्खोंकी फैलाई गयी पहचान है । इस भूखंड का सबसे बड़ा अखंड राज्य मौर्य साम्राज्य था ।  इस्लाम आया तो उनके राज में इस भूखंड का पॉपुलर पहचान हिन्दुस्तान बना । अंग्रेज 1600AD के बाद आये और इसका सेक्युलर पहचान इंडिया रख दिया ।  क्यों की ये भूखंड और हमारे पूर्वज ज्यादातर बुद्धिस्ट अनुगामी थे, बुद्ध के वारे में जानना हर किसी का कर्त्यब्य है; वह हिन्दू हो या मुस्लिम, सिख हो या ईसाई, हर प्रमुख धर्म से बुद्धिजीम पुराना है । हिन्दू धर्म पुराना नहीं लेकिन वैदिक धर्म जरूर हिन्दू धर्म से पुराना है ।  प्रमुख धर्म के हिसाब से बुद्धिजीम वैदिक धर्म से भी पुरानी है । असोका की राज में यानी 263BC से 185BC तक बुद्धिजीम प्रमुख धर्म था यानी सबसे ज्यादा माना जानेवाल धर्म(Major faith) । 185BC से पहले वैदिक धर्म उत्तर इंडिया में कुछ ही जगह में शायद फैला हुआ था । जब पुष्यमित्र शुंग इंडिया की सबसे बड़ा बुद्धिस्ट अखंड राज्य को धोखे से हथिया लिया वहीं से ही बुद्धिजीम का पतन सरु हुआ और वैदिक सभ्यता की उत्थान हुआ । यानी सत्य और तार्किक सभ्यता (बौद्धिक) की विलुप्ति हुई और झूठ, अंधविश्वास, छुआ छूत, में बड़ा तू छोटा, और तर्कहीन (irrational) सभ्यता (वेदांत) की शुरुआत हुई । हिन्दू धर्म इसलामीक आक्रमण के वाद यानी 700AD के वाद इस भूखंडमें ही पैदा हुए सब धर्म का एक समूह नाम है जब की वेदांत ने हर किसी का ख़ात्मा करके आज अपने आप को सबसे बड़ा धर्म का दावा करता है; जबकि इस भूखंड में वैदिक धर्म का ही अनेक विरोधी थे ।

समय के साथ मौत के भय के कारण और बौद्ध सन्यासिनियों को उत्पीड़न के वजह से ऐसे भी हुआ होगा कुछ बौद्ध सन्यासी अपने आप को वैदिक कनवर्टेड ब्राह्मण का चोला पहने को मजबूर हुए होंगे, क्यों की ना उनका पास क्षत्रिय होने का बाहुबल या संपत्ति हुई होगी; ना व्यापारी होने का धन ना उनको शूद्र कहलवाना पसंद हुआ होगा । बरना जो वैदिक प्रथा हिंसा और वली की प्रथा को जोर देता हो, वह अहिंसा और शाकाहारी की अनुगामी कैसे हो सकते हैं? क्यों की वैदिक मान्यता के अनुसार “पुरुष” की वली से ही वर्ण पैदा हुआ है; यानी हिंसा वैदिक धर्म की उत्पत्ति से ही निहित है । कुछ भी चीज अग्नि को समर्पित करना (हवन या यज्ञ) यानी ध्वंस करना हिंसा नहीं तो क्या है?  वैदिक धर्म फ़ैलनेके वाद क्यों के ब्राह्मणों को मनुस्मृति में ज्यादा प्रध्यान और सुविधायें दी गयी थी; तो इस बात का फ़ायदा अनेक धूर्त मूल निवासियां भी  उठाया होगा और दूसरों की अनजाने में अपने आप को ब्राह्मण बना के वर्ग का फ़ायदा ली होगी । तब क्या कोई आइडैंटिटी कार्ड हुआ करता था जिससे लोगों की पहचान की डायरी मेन्टेन हुआ होगा? क्यों की राजा अशोक ने अपने राज्य में किसी भी तरह की पशु वली की रोक लगाई  थी और ये अवमानना के लिए कठोर दंड का प्रणयन किया था; जो भी वैदिक ब्राह्मण वली देकर उनका गुजारा चलाते हुए होंगे अपना जीविका हराया होगा और उस अवधि में शाकाहारी होने को मजबूर हो गए होंगे; क्यों के पुरषमेध यानी पुरुष की वली, अश्वमेध यानी घोड़े का वली, गोमेध यानी गाय की वली  यज्ञ में इस्तेमाल होना केवल वैदिक धर्म और उनकी शास्त्र में मिलते हैं किसी दूसरे शास्त्रों में नहीं; शाकाहारी होना बाद में ये उनके वर्ग के लिए शायद एक सुधार हुआ होगा । संगठित पुजारीवाद जो वैदिक धर्म को फैलाया वह ही वर्ण व्यवस्था आज तक समाज में संरक्षित करते आ रहे हैं । जैसे कोई गैर अंग्रेज मूल निवासी खराटे अंग्रेजी बोलने से अंग्रेज मूल निवासी नहीं हो जाता वैसे ही कोई दो चार संस्कृत मंत्र बोलने से या उनके नाम के पीछे ब्राह्मण की पहचान वाली सरनेम लगाने से वैदिक वंशज नहीं बन जाता अगर ये एक वंश से होते या एक रेस से होते इनकी मातृभाषा एक होती और उनके सरनेम भी एक होता ना की आज का केवल करीब ६ करोड़ ब्राह्मणोंका ५०० से भी ज्यादा सरनेम होते ना भूखंड बदलते ही उनकी मातृभाषा बदल जाती । अगर संस्कृत मातृभाषि वैदिक नस्ल नहीं हैं, तो वर्णवाद इस भूखंड में पैदा एक सबसे घटिया संकीर्ण सोच और अंधविश्वास है जिसको चतुर और धूर्तोंने (sociopaths) बनाया और चतुराई से लोगों के ऊपर लागू किया और झूठी भगवान की दुनिया बना के उनके अनुगामियों की जिंदगी और दिमाग को भगवान के नाम पर नियंत्रण करते आ रहे हैं । ये साफ़ साफ़ संगठित पुजारीवाद है जिन्होंने वैदिक पुजारी यानी ब्राह्मणवाद को अपनाया और वर्ण व्यवस्था को फैलाया जैसे आज की समय में कोई पोलटिकल पार्टी देश की किसी कोने में बनती हैं और उसकी प्रसार देश की दूसरे प्रान्त तक हो जाती हैं । पोलटिकल पार्टी के प्रोटोकॉल से पार्टी चलता है, देश की हर कोने में उनके पार्टी के पॉलिटिशियन, लीडर, मैंबर और वोटर बन जाते हैं । इसलिए अब जो ब्राह्मण वर्ग दीखते हैं उसमें कितनी असली वैदिक वंशज हैं, कितने परिवर्तित और छद्म ब्राह्मण हैं कहना मुश्किल है । लेकिन उनके सरनेम  से कुछ कुछ अर्थ निकाला जा सकता है; और किस नाम के पीछे क्या अर्थ है वह करीब करीब अंदाजा लगाया जा सकता है । जैसे चतुर्वेदी, त्रिवेदी, द्विवेदी यानी चार, तीन, और दो वेद पढ़नेवाले वर्ग इसका मतलब ये साफ़ है ये मूल वंशज नहीं है ये परिवर्तित हैं क्यों की उनको कुछ वेदों को पढ़ने का ही अनुमति थी या उनका कोई पूर्वज उतना ही वेद पढ़ा था या ज्ञान की अधिकारी थे; अगर वैदिक वंशज होते तो उनके नाम करण पढाइके हिसाब से नहीं होता । आप को त्रिपाठी सरनेम भी मिल जायेंगे जिसका मतलब है तीन (त्रि) पाठ की पढाई जो की वेद से सम्पर्कित नहीं है इसका मतलब ये सरनेम बुद्धिस्ट ओरिजिन से हो सकता है, जो बुद्धिस्ट सन्यासी बौद्ध ज्ञानसम्पदा “त्रिपिटक” की ज्ञानी थे उनके छाप इस नाम में छुपाये होंगे । वैसे आप अगर सरनेम को डिकोड करो आपको इसमें छुपा क्लू भी मिलजाएँगे । आज के करीब ६ करोड़ ब्राह्मणों में केवल १५ हजार से भी कम पूरी तरह से संस्कृत बोलने का दावा करते है, तो बाकी ब्राह्मणों को अगर अपनी मातृभाषा बोलना ही नहीं आता तो ये कैसे मानाजाये वह वैदिक वंशज से संबंधित हैं? जैसे यहाँ के इस्लाम को परिवर्तित मुसलमान आरबीक क़ुरान पढ़ के आरबी नहीं बन जाएंगे वैसे ही जो पुजारी वैदिक ब्राह्मण पहचान अपनाया, दो चार संस्कृत मंत्र बोल कर क्या वैदिक वंशज बन जाएंगे? अगर अपना मातृभाषा संस्कृत ही नहीं है तो हर भगवान संस्कृत मंत्र ही क्यों समझता है? केवल संस्कृत भाषा में भगवान को संवाद करने के पीछे क्या राज है? ये संस्कृत की दलाली या गुलामी क्यों?

इस भूखंड में दो तरह की दर्शन और उससे बनी धर्म बने; एक तर्कसंगत(Rational) और दूसरा तर्कहीन(Irrational); आजीवक, चारुवाक/लोकायत, योग, बौद्ध, जैन और आलेख इत्यादि इत्यादि बिना भगवान और बिना मूर्ति पूजा की तर्कयुक्त धर्म और दूसरा बहुदेबबाद, मूर्ति पूजन, अंधविश्वास, तर्कविहीन, हिंसा, छल कपट और भेदभाव फैलाने वाला वैदिक जैसे धर्म । अब वैदिक धर्म को सनातन और हिन्दू धर्म भी कहा जाता है, जो वैदिक वर्ण व्यवस्था के ऊपर आधारित है । राजा अशोक ने इसीलिए बौद्ध धर्म अपनाया था, क्यों के उन्हों ने पाया बौद्ध धर्म ही उनकी राज्य और प्रजा के लिए  सही दर्शन और धर्म है । उनहोंने पाया बुद्ध(563/480BCE–483/400BCE) ना खुद को भगवान माना ना कोई भगवान की प्रचार और प्रसार की । उनकी दर्शन प्रेम, करुणा, सेवा, अहिंसा, सत्य और तर्क की दर्शन पर आधारित थी ।  बुद्ध ने बहुदेबबाद और मूर्ति पूजन को नाकारा लेकिन आस्था उनकी सत्य और तर्क के ऊपर ही था । सिद्धार्था गौतम ने अपने आप को कभी भगवान की दर्जा नहीं दी ना कभी भगवान की आस्था को माना । ना वह खुद को भगवान की दूत बोला ना उनकी संतान; अगर वह भगवान की आस्था को मानते तो भगवान की वारे में उनकी विचारों में छाप होता । ना उनकी दिखाई गयी मार्ग में भगवान की जिक्र है ना उनकी कोई दर्शन में । इसलिए सिद्धार्था गौतम आज के वैज्ञानिक सोच वाले इंसान थे जिनका सोच ये था तार्किक बनो, सत्य की खोज करो, उसकी निरीक्षण और विश्लेषण करो उसके बाद अपनी तार्किक आधार पर सत्य की पुष्टि करो । आंख बंद करके अपने पूर्वज की पीढ़ी दर पीढ़ी अपनाया गया अंध विश्वास की चपेट मत फंसो; ना अंध विश्वास को यूँही स्वीकार कर लो क्यों की आपसे बड़े, गुरु और बुजुर्ग इसको मानते हैं; अपने खुद की दिमाग की विकास करो और बुद्धि की हक़दार बनो जिसके आधार पर आप उनकी अंध विश्वास को दूर कर सको । उनकी आस्था सत्य और तर्कसंगतता के ऊपर थी, उनकी आस्था मानवता, करुणा, प्रेम, अहिंसा और सेवा के ऊपर थी । आपने  “बुद्धं शरणं गच्छामि, धर्मं शरणं गच्छामि, संघं शरणं गच्छामि” के वारे में जानते होंगे जिसका सही अर्थ है “में बुद्धि यानी ज्ञान के सरण में जा रहा हूँ, में सत् कर्मों की सरण में जा रहा हूँ, में बुद्धिजीवियों के सरण में जा रहा हूँ ” यहाँ पर बुद्ध का मतलब “सिद्धार्थ गौतम” नहीं “बुद्धि यानी ज्ञान” ही है । सिद्धार्थ गौतम क्यों की सत्य, तर्क, मानवता, अहिंसा, सेवा, प्रेम और करुणा का प्रेरणा है उनकी मूर्ति को बस प्रेरणा का प्रतीक माना जाता था ना भगवान की जैसे हम आपने बाप दादाओं की तस्वीर उनके याद में लगते है ठीक वैसे ही । सिद्धार्थ गौतम ने ना कभी वेद को स्वीकार किया ना उन में लिखी हुई बातें और उनकी भगवान को स्वीकार किया अगर ऐसे होता तो उनके शिक्षा में उसका छाप जरूर होता । जबकि वैदिक धूर्त्तों ने उनके समालोचक सिद्धार्थ गौतम को ही विष्णु की अवतार बता कर उनको अपनी धर्म की छतरी के नीचे लाकर उनको भगवान बना के बहुदेववाद की मूर्त्तिवाद के श्रेणी में लाया और उनकी व्यापारी करण भी कर डाला । सिद्धार्था गौतम की मृत्यु के बाद उनके दर्शन से छेड़ छाड़ किया गया; क्योंकि सिद्धार्था गौतम बहुदेब बाद और मूर्ति पूजा की विरोधी थे ये संगठित पुजारीबाद का पेट में लात मारता था । इसलिये सिद्धार्था गौतम की मृत्यु की बाद उनकी सिद्धान्तों की अनुगामी पुजारीबाद की षडयंत्र की शिकार बना और बुद्धिजीम “हिन जन” यानी “नीच लोग” / “नीच बुद्धि” और “महा जन” यानी “ऊँचे लोग” / “उच्च बुद्धि” में तोड़ा गया; हाला की बाद में इसको अलंकृत भाषा में हीनयान और महायान शब्द का इस्तेमाल किया गया । सिद्धार्था गौतम जी के निर्वाण के मात्र 100 वर्ष बाद ही बौद्धों में मतभेद उभरकर सामने आने लगे थे । वैशाली में सम्पन्न द्वितीय बौद्ध संगीति में थेर भिक्षुओं ने मतभेद रखने वाले भिक्षुओं को संघ से बाहर निकाल दिया । अलग हुए इन भिक्षुओं ने उसी समय अपना अलग संघ बनाकर स्वयं को ‘महासांघिक’ और जिन्होंने निकाला था उन्हें ‘हीनसांघिक’ नाम दिया जिसने समय के साथ  में महायान और हीनयान का रूप धारण कर लीया । इस तरह  बौद्ध धर्म की दो शाखाएं बनगए, हीनयान निम्न वर्ग(गरीबी) और महायान उच्च वर्ग (अमीरी), हीनयान एक व्यक्त वादी धर्म था इसका शाब्दिक अर्थ है निम्न मार्ग । हीनयान संप्रदाय के लोग परिवर्तन अथवा सुधार के विरोधी थे । यह बौद्ध धर्म के प्राचीन आदर्शों का ज्यों त्यों बनाए रखना चाहते थे । हीनयान संप्रदाय के सभी ग्रंथ पाली भाषा मे लिखे गए हैं । हीनयान बुद्ध जी की पूजा भगवान के रूप मे न करके बुद्ध जी को केवल बुद्धिजीवी, महापुरुष मानते थे । हीनयान ही सिद्धार्था गौतम जी की असली शिक्षा थी । राजा अशोक ने हीनयान ही अपने राज्य में फैलाया था । मौर्य साम्राज्य बुद्धिजीम को ना केवल आपने राज्य में सिमित रखा उस को पडोसी राज्य में भी फैलाया । जहाँ जहाँ तब का समय में बौद्ध धर्म फैला, बुद्ध की प्रतिमा को बस आदर्श और प्रेरणा माना गया ना कि भगवान की मूर्ति  इसलिये आपको आज भी पहाडों में खोदित बड़े बड़े बुद्ध की मूर्त्तियां देश, बिदेस में मिलजाएँगे । ये मूर्त्तियां प्रेरणा के उत्स थे ना कि भगवान की पहचान । वैदिक वाले  उनको विष्णु का अवतार बना के अपने मुर्तिबाद के छतरी के नीचे लाया और उनको भगवान बना के उनकी ब्योपारीकरण भी कर दिया । बुद्धिजीम असलियत में संगठित पुजारीवाद यानी ब्राह्मणवाद के शिकार होकर अपभ्रंश होता चला गया । हीनयान वाले मुर्तिको “बुद्धि” यानी “तर्क संगत सत्य ज्ञान” की प्रेरणा मानते हुए मुर्ति के सामने मेडिटेसन यानी चित्त को स्थिर करने का अभ्यास करते हैं जब की ज्यादातर महायान वाले उनकी मूर्ति को भगवान मान के वैदिकों के जैसा पूजा करते हैं । महायान की ज्यादातर स्क्रिप्ट संस्कृत में लिखागया है यानी ये इस बात का सबूत है बुद्धिजीम की वैदिक करण की कोशिश की गयी । उसमे पुनः जन्म, अवतार जैसे कांसेप्ट मिलाये गए और असली बुद्धिजीम को अपभ्रंस किया गया । जो भगवान को ही नहीं मानता वह अवतार को क्यों मानेगा? अगर अवतार में विश्वास नहीं तो वह क्यों पुनर्जन्म में विश्वास करेगा? महायान सिद्धार्था गौतम जी की यानी बुद्ध की विचार विरोधी आस्था है जिसको अपभ्रंश किया गया; बाद में ये दो सखाओंसे अनेक बुद्धिजीम की साखायें बन गए और अब तरह तरह की बुद्धिजीम देखने को मिलते हैं जिसमें तंत्रयान एक है । तंत्रयान बाद में वज्रयान और सहजयान में विभाजित हुआ । जहां जहां बुद्धिजीम फैला था समय के साथ तरह तरह की सेक्ट बने जैसे तिबततियन बुद्धिजीम, जेन बुद्धिजीम इत्यादि इत्यादि । हीनयान संप्रदाय श्रीलंका, बर्मा, जावा आदि देशों मे फैला हुआ है । बाद में यह संप्रदाय दो भागों मे विभाजित हो गया- वैभाष्क एवं सौत्रान्तिक । बुद्ध ने अपने ज्ञान दिया था ना कि उनकी ज्ञान की बाजार । अगर आपको उनकी दर्शन अच्छे लगें आप उनकी सिद्धान्तों का अनुगामी बने ना की उनके नाम पे बना संगठित पहचान की और उनके उपासना पद्धत्तियोंकी । वैदिक वाले बुद्ध जन्म भूमि की भी जालसाज़ी की, क्योंकि आज तक ब्राह्मणवादी ताकतों ने देश की सत्ता संभाली और बुद्ध की जन्म भूमि की जालसाज़ी में वह कभी प्रतिरोध नहीं किया ना उसकी संशोधन; बुद्ध इंडिया के रहने वाले थे लेकिन एक जालसाज़ जर्मनी आर्किओलॉजिस्ट अलोइस आनटन फुहरेर बुद्ध की जन्म भूमि नेपाल में है बोल के झूठी प्रमाण देकर इसको आज तक सच के नाम-से फैला दिया ।  खुद आर्किओलॉजिस्ट अलोइस आनटन फुहरेर माना वह झूठा थे फिर भी आज तक बुद्ध की जन्म भूमि नेपाल ही बना रहा । बुद्ध ने अपनी ज्ञान पाली भाषा में दिया । पाली भाषा का सभ्यता कौन सा है उस को भी अपभ्रंश किया गया । अगर नेपाल में कोई पाली भाषा नहीं बोलता तो सिद्धार्था गौतम कैसे नेपाल में पैदा हो गये? नेपाल में ज्यादातर खासकुरा/गोर्खाली भाषा की सभ्यता रही तो पाली सभ्यता की सोच पूरा बेमानी है, और ये बात प्रत्यक्ष इसको झूठ साबित करता है । राजा अशोक ने कलिंग युद्ध के बाद ही बौद्ध धर्म अपनाया ये इस बात का सूचक है जरूर उस समय राजा अशोक ने उड़ीसा की बौद्ध धर्म से प्रभावित रहे होंगे । उड़ीसा जिसको तब के समय में ओड्र, कलिंग, उक्कल, उत्कल इत्यादि भूखंड के नाम से जाना जाता था उनके बोलने वाले पूर्वज ही पाली बोलने वाली सभ्यता थी । अब अगर आप ओड़िआ भाषा की पालि के साथ मैच करोगे ५०% भी ज्यादा शब्द बिना अपभ्रंश के सही अर्थ के साथ मिल जायेंगे । उड़ीसा का कपिलेश्वर ही कपिलवस्तु है जो की अपभ्रंश होकर कपिलेश्वर हो गया है जब की नेपाल में कपिलवस्तु नाम का कोई स्थान ही नहीं था । जिस को आर्किओलॉजिस्ट अलोइस आनटन फुहरेर ने लुम्बिनी का नाम  दिया, असल में उसका नाम कभी लुम्बिनी ही नहीं था उसका नाम रुम्मिनदेई(Rummindei) था जिसे जबरदस्ती आर्किओलॉजिस्ट अलोइस आनटन फुहरेर अपना खोज को सही प्रमाण करने के लिए उस जगह की नाम भी बदल डाला और झूठी असोका पिलर और प्लेट वाली साजिश की । ये सब साजिश के पीछे कौन होगा आप खुद ही समझ लो । राजा अशोक ने बौद्ध धर्म सोच समझ कर ही अपना विशाल भूखंड में फैलाया था; नहीं तो वह वैदिक धर्म का प्रचार और प्रसार किया होता; इसलिए उनके राज में आप को कोई भी उनके द्वारा बनाये गए वैदिक भगवान की  मंदिर नहीं मिलेंगे जबकि ब्राह्मणो के द्वारा बौद्ध धर्म की विनाश के वाद बौद्ध मंदिरों को सब वैदक मंदिर में कनवर्ट किया गया है । वैदिक वाले बोलते हैं मुसलमान राजाओंने बौद्ध सम्पदा को नस्ट किया; तो, पूरी, तिरुपति, कोणार्क, लिंगराज इत्यादि इत्यादि मंदिरों को क्या मुसलमान राजाओंने बौद्ध मंदिर से वैदकी बनाया? इंडियन भूखंड में मुसलमान राजाओंने जितना बौद्ध सम्पदा को नस्ट नहीं की उससे ज्यादा संगठित पुजारीवाद बनाम ब्राह्मणवाद ने किया ।

इंडिया की हर व्यक्ति बुद्ध को धर्म या भगवान से नहीं जोड़ के बस इस भूखंड का विद्वान के रूप में स्वीकार करना चाहिए । क्यों के बुद्ध इस भूखंड का ही मूल निवासी थे जो जापान, साऊथ कोरिया, नॉर्थ कोरिया, चीन जैसे विकासशील  देश उनको भगवान की मर्यादा देते है । हम अगर न्यूटन, आइंस्टाइन जैसे ब्यक्तित्त्वों को ज्ञानी की मर्यादा दे सकते है तो बुद्ध को उस श्रेणी में स्वीकार क्यों नहीं करना चाहिए? वह बुद्ध जो बिना भगवान की स्वस्थ जीने का कला मानव समाज को सिखाया । उनकी आस्था सत्य और तर्क की ऊपर थी इसीलिए वह भी आस्तिक थे । वह वो आस्तिक नहीं थे जिसकी परिभाषा वैदिक वाले फैलाया था यानी जो भगवान के ऊपर आस्था/विश्वास रखे वह आस्तिक और जो नहीं वह नास्तिक । आस्तिक का मतलब किसी भी सोच के ऊपर विश्वास या आस्था रखना है और नास्तिक का मतलब कोई भी सोच के ऊपर विश्वास पर आस्था नहीं रखना; इसलिए जो सत्य, तर्कवाद और विज्ञान पर आस्था नहीं रखते वह भी इन विषयों का नास्तिक हैं । बुद्ध स्वस्तिक थे यानी “स्व” मतलब आपने यानी खुद के ऊपर और आस्तिक का मतलब आस्था यानी विश्वास करना यानी “स्वस्तिक->स्व+आस्तिक” का मतलब खुद पर ज्यादा विश्वास करो जिसका प्रतीक  卐 , 卍 है और वैदिकवाले इसका दुरुपयोग, इसके अपभ्रंश करके शुभ लाभ में करते हैं । ॐ भी बौद्ध धर्म मानने वाले पाली भाषी (ओड़िआ) लिपि से आया है जो की बुद्ध सन्यासियां आपने मेडिटेसन के समय चित्त एकाग्र के लिए इस ध्वनि को निकालते थे; जो अब वैदिक वाले पूजा पाठ के लिए इस्तेमाल करते हैं । बुद्ध ने स्वस्थ जिनका पद्धति को आपने शिक्षा में ज्यादा जोर दिया ताकि मानवता का रक्षा हो और एक दूसरे से भाई चारा बढ़े । उनकी शिक्षा  बहुत ही सरल और ज्ञान वर्धक है ।

चार सत्य – (तत्त्व ज्ञान)

    (1) दुःख : संसार मैं दुःख है, (Life is full of Sufferings; birth, sickness, old age, accidents, death etc.)

    (2) समुदय : दुःख के कारण हैं, (Major cause of sufferings are ignorance and greedful desires)

    (3) निरोध : दुःख के निवारण हैं, (Ending of ignorance and greedful desires can end sufferings which is called Nirvana)

    (4) मार्ग : निवारण के लिये अष्टांगिक मार्ग हैं। (To end sufferings follow eight noble paths)

अष्टांग मार्ग बुद्ध की प्रमुख शिक्षाओं में से एक है जो दुखों से मुक्ति पाने एवं आत्म-ज्ञान के साधन के रूप में बताया गया है। अष्टांग मार्ग के सभी ‘मार्ग’ , ‘सम्यक’ शब्द से आरम्भ होते हैं (सम्यक = अच्छी या सही)। बौद्ध प्रतीकों में प्रायः अष्टांग मार्गों को धर्मचक्र के आठ ताड़ियों (spokes) द्वारा निरूपित किया जाता है।

अष्टांग मार्ग, दुःख निरोध पाने का रास्ता है । गौतम बुद्ध कहते थे कि चार आर्य सत्य की सत्यता का निश्चय करने के लिए इस मार्ग का अनुसरण करना चाहिए:

१ . सम्यक दृष्टि ( अन्धविशवास तथा भ्रम से रहित )  ( Right View)
२ . सम्यक संकल्प (उच्च तथा बुद्दियुक्त ) (Right Intention/Thought)
३ . सम्यक वचन ( नम्र , उन्मुक्त , सत्यनिष्ठ )  (Right Speech)
४ . सम्यक कर्मान्त ( शानितपूर्ण , निष्ठापूर्ण ,पवित्र )  (Right Action/Conduct)
५ . सम्यक आजीव ( किसी भी प्राणी को आघात या हानि न पहुँचाना )  (Right Livelihood)
६ . सम्यक व्यायाम ( आत्म-प्रशिक्षण एवं आत्मनिग्रह हेतु )  (Right Effort)
७ . सम्यक स्मृति ( सक्रिय सचेत मन )  (Right Mindfulness)
८ . सम्यक समाधि ( जीवन की यथार्थता पर गहन ध्यान ) (Right Concentration/Meditation)

पंचशिल

दुनिया के सभी धर्म अच्छे आचरण के मौलिक सिद्धांतों पर आधारित हैं और अपने अनुयायियों को दुराचार और दुर्व्यवहार से रोकते हैं जो समाज को बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचा है। इसलिए, बुद्ध की यह पंचशील आचरण की बुनियादी शिक्षाओं में शामिल है जो निम्नानुसार हैं:

1 . हत्या मत करो (जीवन के लिए सम्मान)
2 . चोरी  मत करो  (दूसरों की संपत्ति के लिए सम्मान)
3 . यौन दुर्व्यवहार  मत करो  (हमारी शुद्ध प्रकृति का सम्मान करें)
4 . झूठ बोला मत करो   (ईमानदारी का सम्मान)
5 . नशा मत करो (स्पष्ट दिमाग का सम्मान करें)

1 . No killing  (Respect for life)
2 . No stealing  (Respect for others’ property)
3 . No sexual misconduct  (Respect for our pure nature)
4 . No lying  (Respect for honesty)
5 . No intoxicants  (Respect for a clear mind)

देखाजाये तो बौद्ध ज्ञान दर्शन एक धर्म नहीं है, जीने की तार्किक नैतिक कला है और इसमें अन्य धर्मों की तरह कोई प्रबल आदेश और प्रथाएं नहीं हैं, बल्कि बेहतर मानव जीवन के लिए मार्गदर्शन है । इसमें अन्य धर्मों की तरह कोई केंद्रीय ईश्वर नहीं है जो एक केंद्रीय सृजनवादी ईश्वर होता है या तो एकेश्वरवादी या बहुईश्वरवादी रूप में होता है । बुद्ध भगवान नहीं थे । उन्होंने कभी भगवान होने का दावा नहीं किया । उन्होंने कभी भगवान और मूर्ति पूजा में विश्वास नहीं किया । उन्होंने कभी भगवान के दूत होने का दावा नहीं किया । कोई भी बुद्ध हो सकता है यानी कोई भी खुद को प्रबुद्ध कर सकता है । बौद्ध धर्म आपको अपने दिमाग का मालिक बनने देता है; यह आपके दिमाग को भगवान या भगवान के अधिकारियों जैसी कुछ शक्तिशाली पहचान के साथ नहीं फंसता, जो आपके दिमाग को नियंत्रित करते हैं । केवल बौद्ध दर्शन के बारे में सीखना, आपको जिंदगी के कठिनाइयों से नहीं बचाएगा; आपको सच्ची खुशी प्राप्त करने के लिए दर्शन का पालन करना होगा । बुद्ध के बिना आज बौद्ध धर्म मौजूद है। सिद्धार्थ गौतम ने मानव जाति के साथ सार्वभौमिक सत्य के रूप में अपना ज्ञान साझा किया, विशेष रूप से “अनुयायियों” के लिए नहीं जो उनके अनुयायी बनेंगे वही उनकी ज्ञान को इस्तेमाल करेंगे दूसरे नहीं । बौद्ध ज्ञान दर्शन को नियंत्रित नहीं किया जाता है; शिक्षाओं का अभ्यास करते समय उन्हें अपनी तार्किक व्याख्याओं के साथ जो कुछ भी चाहिए, उस पर विश्वास करने की अनुमति है । किसी को भी कुछ करने के लिए मजबूर नहीं किया जाता है । बौद्ध धर्म बदलने के लिए स्वाधीन है । प्रत्येक बौद्ध केवल एक चीज को समर्पित है: सच्चाई का खोज करो । अगर यह पाया गया कि कुछ बौद्ध शिक्षाएं गलत थीं, तो शिक्षण और दर्शन को तार्किक आधार पर बदलने का स्वाधीनता है । यह किसी भी माध्यम से एक कठोर प्रणाली नहीं है। यदि विज्ञान सिद्ध करता है कि बौद्ध धर्म की कुछ मान्यता गलत है, तो बुद्ध के शिक्षा के अनुसार बौद्ध ज्ञान को भी बदलने का स्वाधीनता है ।

ब्राह्मणों का बुद्ध को नकार ने के पीछे राज क्या है?

Posted in Uncategorized | Tagged | Leave a comment

भारत की खोज

हमारा देश का नाम ना भारत था, ना हिन्दुस्तान था, ना इंडिया; ये भूखंड सदियों छोटे बड़े राज्यों का मिश्रित समूह रहा, ये भूखंड समय के साथ राजाओं के राज से जाना जाता था. ये भूखंड अनेक भाषीय सभ्यता का भूखंड है. आज भी यहाँ १२२ प्रमुख भाषा और १५९९ अन्य भाषाएं देखने मिलते हैं. पुराने युग में कोई वर्ण व्यवस्था नहीं थी. संस्कृत बोलनेवाले या इस भाषा को अपना पहचान मानने वाले धूर्त्तों ने वर्ण व्यवस्था पैदा किया जो की रिग वेद परुष सूक्त १०.९० में लिखित है. संस्कृत भाषा इस भूखंड का कभी भी लोकप्रिय भाषा नहीं रहा. संस्कृत सब भाषा की जननी है ये बात धूर्त्तो ने फैलाई और मूर्खोंने आपने अज्ञानता के वजह से इसका ऊपर अंधविश्वास किया. अगर ये इतनी पुरानी और लोकप्रिय होता इसका आज के बोलने वाले कभी १५ हजार से भी कम नहीं होते. इन धूर्त्तों ने गैर संस्कृत बोलनेवाले सभ्यता को अगड़ी और पिछड़ी में बांटा और ऐसे साजिश की पिछड़ा कभी अगड़ी ना बन पाए. इसलिये ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य की पहचान बनाई जो की समाज की प्रमुख profession थी इस प्रमुख वृत्तियां को उनलोगोंने आपने और अपना पीढ़ियों के लिए reserve कर दिया और उसकेलिये सरनेम का इस्तेमाल किया; इसलिये पुजारी वर्ग ज्ञान को रिज़र्व कर दिया ताकि उनके ज्ञान से दूसरे चलें; जब की क्षत्रीय को क्षेत्र; यानी पीढ़ीगत राज और प्रसिद्धि के साथ साथ यश का रिजर्वेशन मिला. जो ब्योपारी  वैदिक बनिया का पहचान अपनाया वह खुद को वैश्य कहने लगे, और इस वृत्ति को अपने पीढ़ियों के लिए रिज़र्व कर दिया यानी सब अच्छी profession को वह खुद और उनके बच्चों के लिए reserve कर दिया और ये तीन प्रमुख बृत्तियों को अपनानेवाले गोष्ठी फ्रीडम ऑफ़ प्रोफेशन को बंद कर दिया; इन तीन प्रमुख बृत्तियों को छोड़ के जितने भी बृत्तियाँ थे उनको शूद्र यानी उनके गुलाम बताया गया. ये गोष्ठियां कोई एक मूल से नहीं हैं क्यों के स्थानीय भूखंड के बदलते ही इनके सरनेम और उनकी मातृभाषा अलग अलग हैं जिसका मतलब ये है की ये कोई एक मूल स्रोत से पैदा श्रेणी नहीं है, अगर होते उनके सरनेम और उनकी मातृभाषा एक होता अनेक नहीं; बल्कि ये एक सोच की श्रेणी है जो की प्रोफेशन से बंटी हुई हैं जैसे आज देश तरह तरह की पोलिटिकल पार्टियों के सोच से बंटी हुई है. सदियों इस भूखंड का नाम उनके राजाओं के राज से पहचाना जाता था. इस भूखंड का सबसे बड़ा राज्य मौर्य साम्राज्य बना जो की एक बौद्ध सम्राज्य था. यानी हमारे ज्यादातर पूर्वज बौद्ध धर्मी थे. बौद्ध धर्म तार्किक धर्म था जो की ईस्वर, मूर्ति पूजन, बहु देवबाद, अंधविश्वास, असामंज्यता, ऊंच नीच, छोटे बड़े, छुआ छूत, वर्ण व्यवस्था, हिंसा इत्यादि असामाजिक चीजों का घोर विरोध करता था. बौद्ध धर्म मानव समाज को एक ही परिवार मानता था. जबकि वैदिक धर्म अपने अनुगामियों को ही जात पात, बड़ा वर्ण छोटा वर्ण से अलग करते हैं, जिनसे एक परिवार का सोच भी मूर्खता होगी; ये वैदिक धर्म के प्रचारक और प्रसारक कभी मानब समाज को एक परिवार स्वीकार नहीं करते हैं अगर करते कोई अपने भाई को छुआ छूत थोड़ी ना करता? लेकिन उनके भांड प्रचारक “वसुधैव कुटुम्बकम” का फेकू नारा देते हैं जब की असलियत कुछ और है. 263BC से 185BC तक ये भूखंड बौद्ध साम्राज्य के नाम से जाना जाता था. बौद्ध धर्म से पहले इस भूखंड का कोई प्रमुख धर्म नहीं था. 185BC में वैदिक ब्राह्मण सेनापति पुष्यामित्र शुंग ने राष्ट्रद्रोह करके धोखे से last Mauryan Empire की राजा बृहद्रथ का हत्या की और मौर्य साम्राज्य को हतिया लिया. ये सेनापति कोई युद्ध करके नहीं बल्कि अपने मालिक को धोखा देकर बेईमानी से हतिया लिया था. समय के साथ वैदिक प्रचारकों ने बौद्ध धर्म और इस भूखंड में जितने भी तार्किक धर्म थे उनको न केवल प्रदूषित किया उनको नष्ट भी किया और कुछ को अपने धर्म की छत्रछाया में ले आए. बौद्ध धर्म को समूल खत्म करने की कोशिश हुई. पुष्यमित्र शुंग ने बौद्ध सन्याशियोंका सामूहिक नर संहार किया. आतंक, दहशत, छल और बल, साम, दाम, दंड, भेद से मनुस्मृति को लागू करके वैदिक वर्ण व्यवस्था को जबरन हर गैर संस्कृत भाषी सभ्यता के ऊपर लागू किया गया. हर भाषीय सभ्यता के धूर्त, दबंग और बईमानों को अगड़ी यानी सबर्ण बनाया गया और पिछड़ों को उनके गुलाम यानी शूद्र. इस तरह अशोका की बुद्धिस्ट किंगडम अगड़ी और पिछड़ी दो समुदाय में बंट गया और समय के साथ ऐसे ही वैदिक धर्म फैलता चलागया. संगठित पुजारीवाद जो अपने आप को ब्राह्मणवाद का पहचान दी असलियत में हर भाषीय सभ्यता की शातिर और चालाक मूल निवासी थे जिन्होंने ब्राह्मणवाद को भक्तिवाद से जोड़ा और भगवान की नाम पे एक पोलिटिकल मूवमैंट चलाई जिससे हर गैरवैदिक धर्म यहाँ विलुप्त हो गया. इनलोगोंने झूठ, अंधबिस्वाश, अज्ञानता, मूर्त्तिवाद, छुआ छूत, ऊंच नीच इत्यादि सामाजिक बुराईयां धर्म के नाम पे फैलाई और यहाँ की हर पीढी उनके फैलाई हुई झूठ को ही अपना पहचान की उत्पत्ति मान ली. इनलोगोंने अपनी मन गढन कहानियों को इतिहास बताया और हर पीढ़ी को भ्रम में डाला. इसीलिए ब्रम्हा, विष्णु, महेश जिनका कोई जैविक उत्पत्ति नहीं फिर भी इंसान की जैसे दीखते हैं और ये हर स्क्रिप्चर में स्पष्ट से  लिखा है  की वह सब मन से पैदा हुए हैं यानी काल्पनिक है फिर भी इनलोगोंने उनके अनुगामियों को ये अहसास दिलादिया के वह सब सत्य है. इस भूखंड का ज्यादातर मूल निवासी उनके झांसा में आ गये और वैदिक धर्म 185BC के वाद इस भूखंड का सबसे बड़ा धर्म बन गया. वर्ण व्यवस्था के वजह से इस भूखंड का सबसे बड़ा श्रेणी गुलाम यानी शूद्र बन गया. क्यों के ज्यादातर अनुगामी बुद्धिस्ट थे उनको जान सुनकर उत्पीड़ित किया गया और सदियों हर चीजों से बंचित किया गया. जब 700AD के बाद बाद मुसलमान आक्रमणकारियों इस भूखंड में आये तो सिंध भाषीय सभ्यता के नाम से उनके राज के नाम रखे जैसे अल-हिन्द, इंदोस्तान, हिन्दुस्तान इत्यादि. मुसलमान आक्रमण कारियोंने यहाँ की कुछ मूल निवासियों को अपनी धर्म को जबरन इम्प्लीमेंट किया; लेकिन ज्यादातर शूद्र और अतिशूद्र यानी Out Caste यानी वर्ण व्यवस्था से बाहर, जो की सदियों उत्पीड़ित रहे वह  इस्लाम धर्म क़बूल ली.  क्यों के इस्लाम की राज में मुसलमानों को गैर मुसलमानों से अलग करना था तो इस्लाम शासकों ने गैर मुसलामानोंको हिन्दू पहचान दे दी; जो की तब का बुद्धिजीम से कनवर्टेड वैदिक अनुगामियों का पहचान बन गया. असलियत में देखो तो हिन्दू का मतलब इस्लाम राजाओं का गुलाम ही होगा. RSS और BJP के कुछ मुर्ख विद्वान और उनके मुर्ख विद्वान पॉलिटिशियन ये कहते हैं की हिन्दू लाखों करोड़ों साल की धर्म है जैसे करड़ों साल पहले की लाइव डौक्यूमैंटरी उनके पास है. हिन्दू पहचान जो की शिन्दु नदी और शिंद प्रोविंस यानी शिन्दु सिविलाइज़ेशन से आया है तब था की नहीं कौन जानता है? शिन्दु भाषीय सभ्यता से गैर सिंद्धु सभ्यता जैसे पंजाबी, पाली/ओड़िआ, खरीबोलि/नगरी/नागरी/हिंदी, तेलुगु, तामील इत्यादि इत्यादि भाषीय सभ्यता से क्या सम्बद्ध? अब partition के बाद सिंध भूखंड शिंद प्रोविंस के नाम से पाकिस्तान का हिस्सा है और शिन्दु नदी भी पाकिस्तान में बहता है. शिंद प्रोविंस का ज्यादातर मुलनिवाशी अब मुसलमान हैं जब की उनके नाम से एक बड़ा वर्ग जबरन हिन्दू के नाम से जाना जाता है जो की मुर्खोंकी फैलाई गयी पहचान है. इस भूखंड का सबसे बड़ा अखंड राज्य मौर्य साम्राज्य था. इस्लाम आया तो उनके राज में इस भूखंड का पॉपुलर पहचान हिन्दुस्तान बना. अंग्रेज 1600AD के बाद आये और इसका सेक्युलर पहचान इंडिया रख दिया. 1947 के वाद कांग्रेस सत्ता संभाली और कांग्रेस के अंदर RSS और हिन्दू महासभा की  एजेण्टोने सावरकर की ओरगार्नाईजेशन “अभिनव भारत” के नाम से प्रेरित “भारत” रख दिया जब की भारत पहचान एक काल्पनिक ब्राह्मणवादी पहचान  है.

अपने कभी वर्ण व्यवस्था जो की रिग वेद में पुरुष शुक्त १०.९० में वर्णित हुआ है कभी पढ़ा है? अगर आप सही माने में इंसान होंगे तो आपको हिन्दू होने में गर्व नहीं शर्म महसूस होगी क्योंकि पुरुष सूक्त ज्ञान की नहीं मूर्खता और अज्ञानता की परिभाषा है. इस वर्ण व्यवस्था को धर्म और ज्ञान के नाम से फैलाने वाले हर व्यक्ति असामाजिक और अपराधी है. पुरुष शुक्त ना केवल अंधविश्वास है बल्कि हर मानवीय अधिकार की उल्लंघन भी करता है.

जातिवाद यानी वर्ण व्यवस्था संस्कृत भाषी रचनाओं में मिलता है इसका मतलब ये हुआ जो गैर संस्कृत बोली वाले है उनके ऊपर ये सोच यानी वर्ण व्यवस्था थोपी गयी है रिग वेद की पुरुष सुक्त १०.९० जो वर्ण व्यवस्था का डेफिनेशन है उसको कैसे आज की नस्ल विश्वास करते हैं ये तर्क से बहार हैं? सायद आज की पीढ़ी भी मॉडर्न अंध विश्वासी हैं पुरुष सूक्त बोलता है: एक प्राचीन विशाल व्यक्ति था जो पुरुष ही था ना की नारी और जिसका एक हजार सिर और एक हजार पैर था, जिसे देवताओं (पुरूषमेध यानी पुरुष की बलि) के द्वारा बलिदान किया गया और वली के बाद उसकी बॉडी पार्ट्स से ही  विश्व और वर्ण (जाति) का निर्माण हुआ है और जिससे दुनिया बन गई पुरूष के वली से, वैदिक मंत्र निकले घोड़ों और गायों का जन्म हुआ, ब्राह्मण पुरूष के मुंह से पैदा हुए, क्षत्रियों उसकी बाहों से, वैश्य उसकी जांघों से, और शूद्र उसकी पैरों से पैदा हुए चंद्रमा उसकी आत्मा से पैदा हुआ था, उसकी आँखों से सूर्य, उसकी खोपड़ी से आकाश ।  इंद्र और अग्नि उसके मुंह से उभरे

ये उपद्रवी वैदिक प्रचारकों को क्या इतना साधारण ज्ञान नहीं है की कोई भी मनुष्य श्रेणी पुरुष की मुख, भुजाओं, जांघ और पैर से उत्पन्न नहीं हो सकती? क्या कोई कभी बिना जैविक पद्धति से पैदा हुआ है? मुख से क्या इंसान पैदा हो सकते है? ये कैसा मूर्खता है और इस मूर्खता को ज्ञान की चोला क्यों सदियों धर्म के नाम पर पहनाया गया और फैलाया गया? ये क्या मूर्ख सोच का गुंडा गर्दी नहीं है?

क्यों के चार वर्ण में और मनुस्मृति में ब्राह्मणों को सबसे ज्यादा इम्पोर्टेंस दिया गया है इसलिये ये इस बात का सूचक है की ब्राह्मणवादी धुरर्तोंसे ही ये सोच पैदा हुआ है. क्या ब्राम्हणो की बच्चे नहीं होते? अगर बच्चे होते उनके बच्चों का टट्टी क्या ५ साल तक मेहतर साफ़ करता है? अगर हर ब्राह्मण की पत्नी ५ साल तक अपने ही बच्चे का मल मूत्र साफ़ करती है उसकी कपडे साफ़ करती है और बड़े होने पर उनके स्कूल की बूट भी पलिश करती है तो क्या वह मेहतर, धोबिन और चमार नहीं बनती? इस काम को ब्राह्मण छोटे और अछूत क्यों नहीं कहते? हर ब्राह्मण क्या अपनी मल दूसरों से धुलवाता है? वह भी तो खुद की “मलद्वार” का मेहतर है? अपने हात जो मल साफ़ करता है उसको अछूत और अलग क्यों नहीं रखता? ये इस बात का सूचक है ब्राह्मणवाद किस तरह का बीमारी और मानसिक विकृति है. आप ये बताओ पंजाब का ब्राह्मण से आंध्र का ब्राह्मण से क्या रिश्ता? क्या वह एक दुशरेको अपने भाषीय कम्यूनिकेशन से एक दूसरे को समझ भी सकते हैं? तो इन को कौन सा सोच ओर्गानाइज करता है? बस पुरुष सूक्त का समाज में श्रेष्ठ होने का सोच और वैदिक पुजारी होने का सोच जो की उन्हीं लोगों से फैलाई हुई सोच है उन सबको ओर्गानाइज करता है. ये जो कहते हैं इनके पूर्वज आर्य रेस से आते हैं वह क्या सच है? आर्यन रेस आये कहाँ से? सदियों इस भूखंड को पडोसी भूखंड के लोग आते रहें हैं और यहाँ बसते रहे हैं, इसलिए ये विशाल भूखंड अनेक भाषीय सभ्यताओंका भूखंड है. अगर संस्कृत बोलनेवाले  सभ्यता खुद को आर्यन कहते हैं उनका सभ्यता पहले कहाँ था? कुछ मुर्ख विद्वान कहते हैं की वह ईरान से आये थे तो ईरान से आर्यन है. तो ईरानवाले  क्या संस्कृत मैं बात करते हैं? संस्कृत के साथ पर्शियन लैंग्वेज का कितना मेल है और क्या कनेक्शन है? इनके प्रचारक और प्रसारक मन में जो भी आता है कुछ भी बिना आधार पे बोल देते हैं. कभी कभी लगता है शायद ये सब नशे में सोचे गए होंगे या सोचने वाला और फैलाने वाले मानसिक विकृत ही होंगे. अब का करीब ६ करोड़ ब्रह्मणों का मातृभाषा जैसे ही इंडियन डेमोग्राफी चेंज होती है तरह तरह की हो जाती है? कोई गुजराती है तो कोई पंजाबी, कोई बंगाली है तो कोई मलियाली, कोई तेलुगु है तो कोई ओड़िआ? इत्यादि इत्यादि… इन के सरनेम ५०० से भी ज्यादा हैं तो ये कौनसा एक आर्यन रेस से हैं? अगर आर्यन बाहरी मुल्क से आये हैं तो इस भूखंड में आकर उनके मातृभाषा अनेक कैसे हो गये? क्यों के हर भाषीय सभ्यता में ब्राह्मण, वैश्य, क्षत्रिय  और शूद्र देखने को मिलते हैं! अगर ब्राह्मण ही आर्यन थे तो यहाँ के क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र क्या उसी आर्यन रेस से थे? जिनका मातृभाषा भी  ब्राहम्हणों  की मातृभाषा से मेल खाता है? अगर क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र संस्कृत सिख कर जबरदस्त संस्कृत बोल दें तो क्या वह आर्यन हो जायेंगे? इस भूखंड में आप को ऐसे भी लोग मिल जायेंगे वह जबरदस्त अंग्रेजी बोलते हैं तो वह सब क्या इंग्लिश नेटिव हो गये? ये आर्यन थिओरी सफ़ेद झूठ है और वर्ण व्यवस्था हमारे भूखंड का धूर्त्तों का सोच है. संस्कृत भी इन धूर्त्तों का बनाया हुआ भाषा है ताकि आम आदमी इनके मुर्ख रचनाओं को जैसे समझ नहीं सके उसका एक षडयंत्र है. कितने अनुगामी हैं जब ब्राह्मण पूजा के समय मंत्र बोलता है उसका अर्थ समझते हैं? जिसदिन अनुगामी इनके अर्थ समझने लगेगा वह खुद ही धर्म छोड़ देगा. और हर भगवान संस्कृत मंत्र ही क्यों समझता है, ये कभी उनके अनुगामी अपने आपसे आज तक नहीं पूछा. हर पुजारी ब्राह्मण नहीं होता लेकिन जो पुजारी संस्कृत भाषा में निर्जीव मूर्तियों को सम्बाद करे और आपने आप को वैदिक पुरुष सूक्त का वर्ण व्यवस्था के  अनुसार खुद को ब्राह्मण की पहचान दे बस वह पुजारी और उनके बंसज ही ब्राह्मण है. कोई भी वर्ण के लोग दूसरे भाषीय वर्ण के लोगों से बिना कॉमन  लैंग्वेज जैसे हिंदी (नागरी) या इंग्लिश या एक दूसरे की लैंग्वेज को जानते होंगे तो ही सोच का सम्बाद कर सकते हैं; बरना एक दूसरे से सम्बाद भी  मुश्किल है; तो ये सामाजिक श्रेणियां कैसे बन गए? बस एक धूर्त्त सोच ही उनको क्लास्सिफ़ाये करता है जो की झूठ और भांड की सोच पर आधारित है  जिस केलिए  इस भूखंड की लोग सदियों प्रताड़ित हैं. इस सोच को नहीं मिटाने का मतलब यही है की इस सोच को बढ़ावा देनेवाले वही धूर्त्त सोच के  लोग ही है जो नहीं चाहते ये सोच मिटें और लोग प्रताड़ित हो और उनको सदियों शोषण किया जाये. क्या ऐसे सोच के व्यक्तियों को आप सामाजिक  लोग कहेंगे या असामाजिक और अपराधी? ये लोग ना केवल क्रिमिनल्स हैं बल्कि इस सोच को आज की जेनेरशन तक लानेवाला उनके हर पूर्वज भी अपराधी हैं जो अब इस दुनियां में नहीं है.

पुष्यमित्र शुंग के वाद अनेक राजायें जो वैदिक पहचान अपनाया और खुद को क्षत्रिय का पहचान दिया वैदिक चार वर्ण फैलाने में मदद की और संगठित पुजारीवाद को बढ़ावा दिया जो की वैदिक धर्म अपना के खुद को ब्राह्मण की पहचान देकर जातिवाद को अच्छीतरह से फैलाई. सातवां शताब्दी में बाँग्ला भाषीय सभ्यता का एक पुजारी का वंशज जिसका नाम शशांक था जो की खुद को ब्राह्मण का पहचान दिए थे जब राज किया वैदिक वर्ण व्यवस्था को वह भी पुष्यामित्र शुंग का जैसा फैलाई और बुद्धिजीम को उनकी भाषीय सभ्यता से सम्पूर्ण विलुप्त कर दिया. बचीकुची तार्किक दर्शनों को शंकरचार्य, रामानुज और माधवाचार्य जैसे शैवजिम और वैश्नबजिम यानी वेदांत की प्रचारक और प्रसारक के साथ साथ इस्लाम प्रचारकों ने ध्वस्त करने में कोई कसर नहीं छोड़ी और फिर बचीकुची तार्किक दर्शनों को 1500AD – 1700AD का भक्ति मूवमैंट सम्पूर्ण रूप से ख़तम कर दिया. जब यहाँ अंग्रेज 1600AD में आये इस्लामों की ९०० साल की उपस्थिति से यहाँ की मूलनिवासियां दो प्रमुख धर्म से बंट चूके थे जो की वैदिक यानी हिन्दू धर्म जो की वैदिक धर्म का  पर्सियन/आरबीक/आफ़ग़ान ओरिजिन का नाम था और खुद मुसलमानों से लाया गया इस्लाम धर्म. वैदिक धर्म का पोलिटिकल मूवमेंट ब्राम्हणोने 1903AD से शुरु कर दिया था.

अभिनव भारत सोसाइटी: 1903AD में विनायक दामोदर सावरकर और उनके भाई गणेश दामोदर सावरकर द्वारा स्थापित किया गया था । दोनों ही मराठी चितपावन ब्राह्मण थे ।

अखिल भारतीय हिंदू महासाभा: 1915 में स्थापित हुआ था और संस्थापक मदन मोहन मालवीय थे । उनका ओरिजिनल सरनेम चतुर्वेद था जो की अल्ल्हवाद की ब्राह्मण थे।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ: नागपुर में  27 सितंबर 1925 में  स्थापित हुआ था, और संस्थापक के.बी. हेडगेवार  जो की मराठी देशस्थ ब्राह्मण थे।

भारतीय जनसंघ: 21 अक्टूबर 1951 में स्थापित हुआ और संस्थापक स्यामा प्रसाद मुखर्जी  थे जो की एक वेस्टबेंगल ब्राह्मण थे । भारतीय जनसंघ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आर.एस.एस) की राजनीतिक भुजा थी जो 1980AD से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नाम से जाना जाता है.

विश्व हिंदू परिषद: 1964 में स्थापित हुआ और संस्थापक एम.एस गोलवलकर (मूल उपनाम पाधई था । पाधियां महाराष्ट्र के कोकण में गोलवाली नामक एक जगह से संबंधित हैं और ये ब्राह्मण हैं), केशवराम काशीराम शास्त्री (ब्राह्मण), एस.एस आप्टे (महाराष्ट्र के ब्राह्मण) थे।

आप खुद ही सोचिये सब हिन्दू संगठन ज्यादातर वैदिक वर्ण व्यवस्था को ही क्यों प्राथमिकता देते हैं जो की  बेवकूफ जाति आधारित सामाजिक शासन प्रणाली यानी वर्ण व्यवस्था जो की एक अंध विश्वास है, (पुरुष शुक्त 10.90) उस को बढ़ावा देते हैं और हमेशा ब्राह्मणों के द्वारा ही बनायेगये हैं और जिसकी अगुवाई भी ब्राह्मण ही करते हैं ।

Original Draft Constitution of India Vs. Present Constitution of India

In original draft of “Constitution of India” neither “Bharat” nor “Hindustan” used as its second name or name in Hindi. Bharat word later inserted by RSS and Hindu Mahasabha political agents in Congress party after it came in to force. If you think Congress is free from RSS and Hindu extremist Politicians then its totally wrong.

INDIAN STAMPS GIVES US CLEAR PROOFS WHEN WE GOT THE NAME BHARAT. CLICK HERE FOR A COLLECTION OF INDIAN STAMPS, WHERE YOU CAN FIND CLEARLY, FROM JANUARY 17 1963 BHARAT NAME INTRODUCED IN STAMPS. ADOPTION OF BHARAT NAME FOR OUR NATION IN CONGRESS ADMINISTRATION SHOWS LINK WITH RSS AND HINDU MAHASABHA DOMINANCE IN CONGRESS PARTY OF INDIA.

Savarkar in his book “Six Glorious Epochs of Indian History”, which he had wrote before his death in 1966, show his views about his sharp communal ideology and voice of extremism and radicalism. Written in Marathi, his book based on many dubious historical records justifies rape as a political tool. Quoting the mythological figure Ravan, Savarkar wrote:

“What? To abduct and rape the womenfolks of the enemy, do you call it irreligious? It is Parodharmah, the great duty!”

Savarkar wanted Pakistan should be formed its why he had never opposed to Jinnah though  Jinnah and Savarkar both were living in Bombay. Savarkar wanted Pakistan should be formed as nation of Indian Muslims so he kept silence; where Jinnah was just a puppet to his conspiracy of two Nation theory. We must know prominently that first Hindutva political organization “Abhinav Bharat” had made by Savarkar in 1903 for two Nation theory followed by Muslim political organization All-India Muslim League  in 30 December 1906 at Dacca/Dhaka, Bangladesh by Nawab Viqar ul Malik. Jinnah was the supporter of united India and was an active member of Congress party till he joined in All-India Muslim League in 1913. He left Congress party only due to Hindu dominance in Congress party ignoring political interests of few Muslim leaders. Jinnah was not an orthodox Muslim, then how he supported a Nation based on religion? Which shows his political greed not the devotion to Islam; if he even not wanted partition there would not even partition. If Savarkar  wanted no partition he could have kill to Jinnah instead of Gandhi. Gandhi was just used and killed after the Nation formed. Hindu and Muslim were not the issue. Political rule and religious hegemony was the real issue. How Muslims of India and Hindus were living for 900yrs together without any disturbances i.e. from 700AD to 1600AD till British came, partly or majorly ruled by Islamic emperors to Indian demography? After even partition Punjabi clan converted to Islam  majorly rules Pakistan. Pakistani linguistic groups majorly from  Punjabi (45%), Pashto (15%), Sindhi (12%), Saraiki (10%) Urdu (8%) and Balochi (3.6%) where you can’t find any major orthodox Muslim ethnicity; which shows Pakistan is just a fake Islam nation. Actually original Hindustan is Pakistan not India due to presence of Shind province (Shindu civilization) and Shindu river in Pakistan that gives the Indian demography a National identity name “Hindustan” and name to its people Hindu.

अंग्रेज World War II के बाद इंडिया को वेसे ही छोड़कर जाने वाले थे इसलिये सिविल सर्विस ऑफिसर अल्लन ऑक्टेवियन ह्यूम १८८३ में पोलिटिकल मूवमेंट पैदा की और कांग्रेस पार्टी बनाया ।  ब्रिटश वाले उनके ज्यादातर भूतपूर्व ब्रिटिश एम्पायर टेर्रीटोरीज़ों को ऑटोनोमी देकर उनको पोलिटिकल डोर से चलाने की दौर सुरु कर दिया था, और 1950AD तक इंडिया Commonwealth realms का हिस्सा रहा । जानुअरी 26, 1950AD में इंडिया को Republics in the Commonwealth of Nations में एक रिपब्लिकन फॉर्म ऑफ़ गवर्नमेंट के तौर शामिल करदियागया; जिसका हेड ऑफ़ कमनवेल्थ अब तक क्वीन Elizabeth II ही हैं । अंग्रेज कभी चाहते नहीं हुए होगें की देश की टुकड़ा हो क्यों के वह हर हाल में कॉमनवेल्थ का हिस्सा होना ही था वह एक हो या दो । देश का बंटवारा अपने ही लोगो ने अपने पोलटिकल स्वार्थ केलिए किया जिसका अंग्रेजों को कोई फर्क नहीं पड़ता था । १८८५ उमेश चंद्र बोनर्जी कांग्रेस के पहले सभाध्यक्ष थे; पहले सत्र में 72 प्रतिनिधियों ने भाग लिया था, इंडिया के प्रत्येक प्रांत का प्रतिनिधित्व करते हुए प्रतिनिधियों में 54 हिन्दू और दो मुस्लिम शामिल थे; बाकी पारसी और जैन पृष्ठभूमि की थी; जबकि १७५७ की  बैटल ऑफ़ प्लासी के साथ ही फ्रीडम मूवमेंट सुरु हो गया था । १९१५ में गांधीजी ने फ्रीडम मूवमेंट के १५८ साल वाद और कांग्रेस बनने की ३२ साल वाद गोखले के मदद से दक्षिण अफ्रीका से लौटे और कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए । १९२४ में वह पार्टी प्रेजिडेंट बनगए । सुभाष चंद्र बोस कांग्रेस के साथ १९२० में जुड़े और गांधीजी की कांग्रेस में प्रभुत्व और धूर्त्त कब्जेवाजी से असंतुष्ट सुभाष चंद्र बोस को कांग्रेस पार्टी से २९ अप्रैल में निष्कासित होना पड़ा; उसके वाद १९३९ जून २२ को वह अपना फॉरवर्ड ब्लॉक बनायी और आजाद हिन्द की स्थापना की; जबकि कांग्रेस पार्टी उसके बाद उनकी साथ क्या किया खुद इन्वेस्टीगेट करना बेहतर होगा । १९१९ में, नेहरू ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए जब की मुहम्मद अली जिन्ना कांग्रेस का साथ १९०६ से लेकर १९२० तक रहे । गाँधी और नेहरू जोड़ी ऐसे बनि आज तक नेहरू फॅमिली गाँधी का नाम लेके अपनी पोलिटिकल दुकान चला रहा है जब की और भी कितने कांग्रेस लीडर थे उनके नाम इनके जुबान पर कभी नहीं आया । मुहम्मद अली जिन्ना ने कांग्रेस पार्टी में ब्राह्मणवादी यानी हिंदुत्व की पकड़ से नाखुश होकर मुसलमानों की अलग देश के वारे में अगवाई की । जब की पाकिस्तान की सोच मुहम्मद इक़बाल ने की थी इसलिए मुहम्मद इक़बाल को पाकिस्तान का स्पिरिचुअल फादर कहा जाता है; मुहम्मद इक़बाल इंडियन नेशनल कांग्रेस की एक बड़ा क्रिटिक थे और हमेशा कांग्रेस को मनुबादी यानी हिन्दूवादी पोलिटिकल पार्टी मानते थे । वही मुहम्मद इक़बाल जिसने “सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा, हम बुलबुलें हैं इसकी यह गुलसिताँ हमारा” गाना लिखाथा । मुहम्मद इक़बाल के पूर्वज कश्मीर पंडित थे जिन्होंने इस्लाम क़बूली थी । वह ज्यादातर उनके लेख में अपना पूर्वज कश्मीर पंडित थे उसका जिक्र भी किया । जिन्ना के पूर्वज यानी दादाजी गुजराती बनिया थे । उनके दादा प्रेमजीभाई मेघजी ठक्कर थे, वे गुजराती में काठियावाड़ के गोंडल राज्य के पोनली गांव से लोहाना थे । उन्होंने मछली व्यवसाय में अपना भाग्य बना लिया था, लेकिन लोहाना  जाती का मजबूत धार्मिक शाकाहारी विश्वास के कारण उन्हें अपने शाकाहारी लोहना जाति से बहिष्कृत कर दिया गया था । जब उन्होंने अपने मछली कारोबार को बंद कर दिया और अपनी जाति में वापस आने की कोशिश की, तो उन्हें हिंदू धर्म के स्वयंभू संरक्षकों के विशाल अहं के कारण ऐसा करने की अनुमति नहीं थी । परिणामस्वरूप, उनके पुत्र, पुंजालाल ठक्कर/जिन्नाभाई पुंजा (जिन्ना के पिता), इस अपमान से इतना गुस्सा थे कि उन्होंने अपने और उनके चार बेटों के धर्म को बदल दिया और इस्लाम में परिवर्तित हो गए । वैसे देखाजाये तो पाकिस्तान बनने के पीछे कांग्रेस और उसके अंदर बैठे हिन्दूमहासभा की एजेंट्स ही जिम्मेदार थे । तो अब आपको पता चलगया होगा गांधीजीके हत्या में कौन शामिल हो सकता है? क्योंकि हिंदूवादी अगर पाकिस्तान नहीं चाहते थे तो जिन्ना को मार सकते थे गाँधी को मारने के पीछे जो तर्क वह देते हैं वह दरअसल भ्रम हैं । अगर गांधीजी को मार सकते थे तो जो पाकिस्तान के वारे में जो सोचा उसको क्यों नहीं मारा? इसका मतलब हिंदूवादी संगठन और कांग्रेस चाहता था की पाकिस्तान बने; तो ये ड्रामा क्यों किया? ये ड्रामा बस सो कॉल्ड सेकुलर वर्णवादी हिन्दू राष्ट्र बनाना था जो नेहरूने सोचा ताकि हिन्दू और मुसलमानोंकी वोट बटोर सके; ये इसीलिए किया नेहरू विरोधी मुसलमानोंको रवाना की जाये और जो उनके साथ हैं उनके साथ राज किया जाये क्योंकि उनके पास गांधी जैसे कुटिल राजनीतिज्ञ थे । गांधी जी के कुटिल दिमाग के कारण नेहरू देश का प्रधान मंत्री बन गए । देश स्वाधीन १९४७ अगस्त १५ क़ो हुआ और नेहरु देश की कमान सँभालने का वाद ३० जानुअरी १९४८ क़ो गांधी जी की हत्या हो गयी । कांग्रेस में हिंदूवादी एजेंटोने जब देखा सम्पूर्ण हिन्दू राष्ट्र बनाना मुश्किल है तो अखिल भारतीय हिन्दू महासभा की प्रेजिडेंट श्यामा प्रसाद मुख़र्जी नेहरू के साथ सम्बन्ध बिगड़े और असंतुस्ट होने के बाद, मुखर्जी ने इंडियन नेशनल कांग्रेस छोड़ दी और 1951 में भारतीय जनसंघ की स्थापना की जो की अबकी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के पूर्ववर्ती पोलिटिकल पार्टी है । जिसका एजेंडा वर्ण वादी हिन्दू राष्ट्र बनाना है । इसका मतलब ब्राह्मणवादी देश और न्याय व्यवस्था को चलाएंगे, क्षत्रियवादी देश की आर्मी यानी सुरक्षा को संभालेंगे, देश की इकोनॉमी को वैश्यवादी चलायेंगे और जितने अन्य यानी वैदकी प्रमाण पत्र के हिसाब से शूद्र और अतिशूद्र यानी आउट कास्ट हैं उनके लिए  काम करेंगे । भारत शब्द ही उनकी पूर्व प्रेजिडेंट सावरकर की संगठन की साथ सम्बंधित थी । आर.एस.एस और अखिल भारतीय हिन्दू महासभा ही भारत से जुडी श्लोगान इस्तेमाल करते हैं । उनकी पॉलिटकल पार्टी का नाम भी भारतीय जनता पार्टी है; जब की इस भूखंड में इस पहचान का कोई विस्तार रिस्ता नहीं है । इस भूखंड का नाम कभी भारत नहीं था । भारत नाम देश स्वाधीन होने का वाद ही दियागया है । ना भारत कोई राजा था ना उसकी कभी इतना बड़ा भूखंड का राज । बस कुछ मन गढन कहानी भारत नाम की प्रचार और प्रसार करते हैं । अगर हम ये मान ले भारत एक पुरुष है तो भारत को माता क्यों कहते है? भारत एक पुरुष की नाम है ना की स्त्री विशेष की । अगर भारत को हम एक राजा मान लें तो उनकी राज कितने तक फैला था उसकी वारे में कुछ कहा नहीं जा सकता । क्यों की उसकी कुछ मजबूत सबूत ही नहीं है । अगर मान लिया जाये भारत “महाभारत” से लिया गया है तो महाभारत का मतलब क्या है? “महा” मतलब बड़ा या महान और “भारत” मतलब एक व्यक्ति विशेष का नाम । इसका मतलब क्या हुआ? जैसे किसीका नाम अगर “पपु” है “महापपु” का मतलब क्या होसकता है? अगर मान लिया जाये “महाभारत” का मतलब “महा युद्ध” है तो “भारत” का मतलब युद्ध है । अगर भारत का मतलब युद्ध है तो इसको एक राष्ट्र का नाम के रुपसे इस्तेमाल करना कितना तार्किक है? अगर मानलिया जाये “भारत” पाण्डु और कौरव के पूर्वज थे जैसे हिन्दू ग्रंथों में लिखा गया है; महाभारत ही संदेह की घेरे मैं है जैसे महाभारत में लिखा गया है? क्या गांधारी के पेटमें जो बच्चा था उस को मारने का बाद उसकी टुकड़े १०१ मिटटी के घड़ा में रख कर बच्चे पैदा की जा सकती है? क्योंकि महाभारत की अनुसार गांधारी की बच्चे उनकी पेट से नहीं मिट्टी की घड़ों से पैदा हुए है जो १०० लड़के थे और एक लड़की जो बायोलॉजिकल असंभव है । अगर मान भी लिया जाये एक औरत नौ महीना में एक बच्चा पैदा करे या जुड़वां तो ज्यादा से ज्यादा उसकी मेंस्ट्रुएशन साइकिल में ज्यादा से ज्यादा ४० से ५० बच्चा पैदा कर सकता है उससे ज्यादा नहीं क्योंकि ज्यादातर लडकियोंकी मेंस्ट्रुएशन साइकिल १० या १२ की उम्र से शुरु हो जाती हैं और ज्यादा से ज्यादा मेनोपोज़ यानी ५२-५४ तक बच्चे पैदा करने की क्षमता होती है । फिर ऊपर से गांधारी की आंख में पट्टियां और उनकी पति अंधा; आप खुद आगे सोच सकते हो; यानी कौरव बायोलॉजिकली इम्पोसिबल हैं । अब आते हैं पांडव के वारे में; पांडव नाम उनकी पिता पांडु से है जो की खुद एक नपुंसक थे यानी उनकी बच्चे पैदा करने की योग्यता ही नहीं थी तो कुंती और मद्री ने कैसे बच्चे पैदा की होगी आप खुद समझ लो । कोई सूर्य पुत्र था तो कोई धर्म, वायु और इंद्र की तो कोई अश्विनी की; इसका मतलब दो रानी आपने पति से नहीं अवैध सम्पर्क से ही बच्चे पैदा किया; वायु यानी हवा और सूरज के साथ कैसे सेक्स हो सकता है वह तर्क से बहार है । अच्छा चलो मानलेते हैं किसी और से “नियोग” प्रक्रिया से ये बच्चे पैदा हुए थे, जब की कौरव का पैदा होना बिलकुल असंभव है तो इसलिये ये एक मन गढन कहानी है ना की सत्य । आगर मान भी लिया जाये ये सब सच था तो यह लोग कौन सी भाषा की इस्तेमाल करते थे? अगर कुरूक्षेत्र नर्थ इंडिया का एक छोटा सा हिस्सा है तो हम ये कैसे मान लें ये अब की पूरी इंडियन भूखंड थी । अगर उनकी माँ बोली अलग था तो जो इनकी माँ बोली से अलग हैं और इस कहानी की अनुगामी हैं उनकी कहानी से क्या रिसता? इस कहानी को क्यों जबरदस्ती उन पे थोपा जाता है? जब भारत पहचान ही संदेह के घेरे में है तो ये देश का पहचान कैसे बन गया?  जब की सत्य ये है; भारत शब्द का उपयोग सावरकर ने अपनी हिंदूवादी संगठन “अभिनव भारत” के लिए  1903 में किया था । जो की हिंदूमहासभा का प्रेसिडेंट था; जो आर.एस.एस से जुड़ा था । जिसके कहनेपर नाथूराम गोडसे ने गाँधी जी की हत्या की । और जो कांग्रेस पार्टी ज्यादातर हिंदूवादी यानी वर्णवादी इस हिन्दू महासभा से सम्पर्कित नेताओंसे भरीपड़ी थी जिसके कारण जिन्न्हा ने कांग्रेस छोड़ी और पाकिस्तान के वारे में सोचा । सुभाष चंद्र बोस ने कांग्रेस छोड़ी और फॉरवर्ड ब्लॉक् बनाई और आज़ाद हिन्द की कल्पना की । 1947 में देश की आज़ादी के बाद इस कांग्रेस वाले हिन्दूत्त्व नेताओंने देश का नाम “भारत” रखा । देश का नाम हिन्दू महासभा ओरिजिन से “भारत” रखना इस बात का सबूत है की कांग्रेस बस छद्म सेकुलर है । जबकि खुद नेहरू या गांधीजी या तब का समय की कोईभी नेता देश के लिए “भारत” शब्द का इस्तेमाल नहीं किया । प्रमाण के तौर YouTube में आप उन लोगोंकी ओरिजिनल भाषण देख लीजिये । ज्यादातर वह देश का नाम हिन्दुस्तान या इंडिया का इस्तेमाल किया ना की भारत । ये इस बात का सूचक है भारत शब्द इनके बाद ही इस्तेमाल में आया । अगर आया तो इसके पीछे की नीयत क्या है? देश एक, नाम तीन क्यों? अगर किसी का नाम “अमर” है तो कोई भी भाषा में उससे  लिखे वह “अमर” ही रहेगा; लेकिन हमारा देश का नाम अंग्रेजी में इंडिया है लेकिन जब हिंदी में लिखते हैं वह “भारत” बन जाता है जब की भारत एक अलग नाम है । एक अलग नाम के पीछे क्या उद्देश्य हो सकता है आप ढूंढ़ने की कोशिश करो । मेरे हिसाब से इसके पीछे एक ही मक़सद है देश को हिन्दू राष्ट्र यानी वर्ण व्यवस्था  वाली देश बनाना जब की खुद वर्ण व्यवस्था  एक अंधविश्वास है । अगर मानलिया जाये भारत पहचान रामायण की चरित्र राम की छोटे भाई भारत से ली गयी है तो ये कितना तार्किक है? अगर राम अयोध्या की राजा थे तो दूसारे राजाओंके सभ्यता से क्या संबध हैं? अयोध्या तो अब की इंडिया नहीं था? अयोध्या एक छोटा सा राज्य था जो की उनके अनुगामी के हिसाब से अब उत्तर प्रदेश में है । वह सारि उत्तर प्रदेश भी नहीं था । अगर राम इस भूखंड में पैदा हुए तो उनकी माँ बोली इस भूखंड में जो बोली बोला जाता है वही होंगी; तो दूसरी भाषी लोगोंके साथ इनका कनेक्सन क्या है? क्या बन्दर सेना उनकी भाषा में बात करना जानते थे? क्या राम, लक्ष्मण, सीता, हनुमान इत्यादि श्रीलंकान भाषा जानते थे? भारत अगर राम जी की भाई भरत के नामसे आया है तो पूरी अयोध्या तो आज की इंडिया नहीं थी तो राम राज्य बनाने का नारा कितना सही है? इससे पता चल गया होगा राम की नाम पे राजनिति और आस्था की दुकान चलाने वाले ना केवल अंधविश्वासी, मुर्ख, बिकृत दिमाग की है बल्कि असामाजिक भी है क्यों की राम की नाम पे ये दंगा किये और इंसानों की हत्या की और सार्वजनिक और निजी संपत्ति का नुक्सान भी किया । जब भारत शब्द की खोज चली कुछ धूर्त्त ज्ञानी भारत शब्द को सही साबित करने के लिए अपनी हिसाब से भारत का मतलब भी निकाल लिए. कुछ बोलते हैं भारत शब्द एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ “भा” का मतलब है प्रकाश और ज्ञान, “रत” का अर्थ है “समर्पित”। भारत का मतलब है “अंधेरे के खिलाफ प्रकाश के लिए समर्पित”। “अंधेरे के खिलाफ प्रकाश के लिए समर्पित” तो बुद्ध के लिए सही बैठ ता है क्यों के उनको लाइट ऑफ़ एशिया भी कहा जाता है उनके नाम पे देश का नाम बुद्ध ही रख देते जो की ज्ञान और समर्पण का नाम है? अगर भारत एक संस्कृत शब्द है तो जो गैरसंस्कृत बोलनेवाले लोग हैं इस शब्द से क्या सबंध है? संस्कृत भाषा बोलनेवाले तो इस भूखंड का सत्यानाश किया है? ये नई अर्थ कितना भरोसा की योग्य है कौन जानता है और देश में १५ हजार से भी कम लोग जिसको अपनी मातृभाषा मानते हो इसको इतना प्राधान्य देने का उद्देश्य क्या है? कुछ का मानना है यह वैदिक देवता अग्नि के नामों में से एक है, और कुछ का मानना है की यह एक पौराणिक राजा है जो की, दुष्यंत और शकुंतला के पुत्र था। और कुछ लोगों का मानना है देश का नाम इसलिए भारत नामित किया गया है क्योंकि जैन धर्म का पहले तीर्थंकर भगवान ऋषभदेव के सबसे बड़े पुत्र भारत चक्रवर्ती ने लंबे समय तक इस भूखंड पर  शासन किया था; लेकिन ये कितना सही ही कहना मुश्किल है, कब और भूखंड का कितना हिस्सा उनोहोने राज किया था वहाँ पर बस मन गढ़न बातें और खामोशी ही है.  कुछ जैन अनुगामियों के अनुसार, जैन धर्म एक प्राचीन धर्म है और यहां तक कि वैदिक/हिंदू धर्म से भी बड़ा है । अगर सूरज एक्जिस्ट करता है इसको चाहे लोग हजार नाम से जाने लेकिन एंटिटी नहीं बदलता. लेकिन भारत शब्द के केस में सब कुछ बदलता रहता है इसलिये इस पहचान को देश का पहचान बनाना कुछ ही लोगों की दिल्लगी है यानी उनको ये नाम पसंद है और उनकी मेजोरिटी गणतंत्र की पोलटिकल मूवमैंट में ज्यादा होनेका कारण बेमतलब और असंबधित नाम भी देश का नाम रख सकते हैं. क्यों की वैदिक प्रचारकों और उनके प्रसारकों ने ये नाम कोएन किया था ज्यादातर ये पहचान वर्णवादी और ब्राह्मणवादी ही है जिसको धर्म निरपेक्ष माना नहीं जा सकता. अब आप जान लिए होंगे हिंदूवादी संगठन और उनके पोलिटिकल पार्टी क्यों “भारत माता की जय” बोलते हैं? यह भारत माता की नहीं वर्णवाद और मनुवादी की जय है जो की एन्टीसेकुलर ही है. इसीलिए हमारा देश का नाम ऑफिसियली ना हिन्दुस्तान सही है ना भारत सही है लेकिन इउरोपियन ओरिजिन से इंडिया ही सेक्युलर है और यही एक ऑफिसियल नाम ही हमारे देश का नाम रखना सही है. हमारा देश का नाम इंडिया रहना इसलिए सही है क्यों की ये कोई एक धर्म विशेष या कोई एक भाषीय सभ्यता या जाती या दौड़ (Race) या एक तरह की रूढ़िवादी विचारधारा या सोच को रिप्रेजेंट नहीं करता. इंडिया पहचान पूरी तरह से निरपेक्ष है और ये पहचान कंट्रोवर्सी से बहार है. ये अंग्रेजों का दियागया नाम नहीं है बल्कि अंग्रेजोंने इस नाम को इस भूखंड की पहचान के लिए अपनाया था. 5th सेंचुरी BC से भी पहले इयुरोपियन्स हमारे भूखंड को इंडोस(indos), इंडस(Indus), इंडीज(indies) इत्यादि के नामसे जाना करते थे. जो की आज की पाकिस्तान में बहते हुए नदी यानी सिंधु नदी से प्रेरित है. इंडिया का नाम पुरानी अंग्रेजी भाषा में जाना जाता था और इसका इस्तेमाल पॉल अल्फ्रेड के पॉलस ओरोसियस में भी इस्तेमाल किया गया था. मध्य अंग्रेजी में, फ्रांसीसी नाम प्रभाव के तहत, येंडे या इंडे द्वारा प्रतिस्थापित किया गया था, जिसने प्रारंभिक आधुनिक अंग्रेजी में इंडी के रूप में प्रवेश किया था. सायद लैटिन, या स्पेनिश या पुर्तगाली के प्रभाव के कारण 17 वीं शताब्दी के बाद से इंडिया अंग्रेजी उपयोग में आया. अंग्रेज उनके दिये गए इस भूखंड पहचान की नाम इस्तेमाल किया और हमारा देश का नाम इंडिया हो गया. ऑफिशियली देश का नाम केवल इंडिया ही होना चाहिए अनऑफिसियली आप जितने भी नाम रखो वह आप की पसंद है.

ORIGINAL RASTRA PITA OF BHARAT IS SAVARKAR (FATHER OF BHARAT)

RAPE IS NOT A CRIME ITS A RELIGIOUS DUTY ( Parodharmah)

  _ V.D. SAVARKAR

NEXT TIME WHEN YOU SEE ANYWHERE SAYING HIS FOLLOWERS

BHARAT MATA KI JAY!

DON’T FORGET TO MEAN IT THAT, THEY ARE SON OF BHARAT MATA WHOSE PITA IS V.D. SAVARKAR, WHO HAD AN IDEOLOGY RAPING IS GREAT RELIGIOUS DUTY (Parodharmah). SINCE IDEOLOGY OF FOUNDER “BHARAT” IS BALATKAR PARODHARMAH I.E. RAPING IS GREAT RELIGIOUS DUTY SO WE CAN SAY “BHARATIYA JANTA PARTY(BJP)” SHOULD BE BETTER KNOWN AS “BALATKARI JANTA PARTY.”

Posted in Uncategorized | Tagged | Leave a comment

इंडिया का सबसे बड़ा अंधविश्वास और मानसिक विकृति

बिना सोचे समझे जिस पर बिलीव या भरोसा/विश्वास किया जाता है उसे हम ब्लाइंडबिलीव यानी अंध विश्वास कहते हैं. अगर हम ये जानते हैं जिस पर हम बिलीव या भरोसा/विश्वास कर रहे हैं वह एक ब्लाइंडबिलीव यानी अंध विश्वास है या झूठ और भ्रम है; और अभ्यास के कारण एक लम्बे समय तक करते आ रहे हैं, वह एक मानसिक विकार यानी मानसिक विकृति है. ऐसा ही इंडियन भूखंड में वैदिक सामाजिक वर्ण व्यवस्था है जो की एक अंध विश्वास यानी मानसिक विकृति है.

इंडियन भूखंड कभी की एक भाषीय या एक राजा की अखंड राज्य सदियों नहीं रहा. यहाँ का भूखंड हजारों भाषीय सभ्यता से भरा रहा और इस भाषीय सभ्यताओं को तरह तरह की राजा राज किये. राजाओं के धर्म के अनुसार उनके प्रजाओं की भी धर्म हुआ करता था. बहुत सारे राजाओं धर्म की छूट यानी आजादी भी दी थी और कुछ राजाओं ने खुद की अपनायी हुई धर्म ही अपने प्रजा पर प्रेम से प्रसार किया जैसे बौद्ध धर्म राजा अशोक के द्वारा; तो, कोई जबरदस्ती थोपा, जैसे वैदिक वर्ण धर्म राजा पुष्यामित्र सुंग के द्वारा और इस्लाम; मुसलमान राजाओं के द्वारा. इंडिया की भूखंड में २०११ सेंसस की गणना की अनुसार १२२ प्रमुख भाषा और अन्य १५९९ भाषाएं देखने मिलते हैं । जितना भाषा, ये हम मान सकते हैं उतनी तरह की सभ्यता । अगर एक सभ्यता एक भाषीय भूखंड होता तो दूसारे भाषा की प्रयोजन ही क्या है? ज्यादातर राजाओं अपना अपनाई गयी धर्म को उसकी राज्य में फैलाते थे, ताकि एक सोच वाली नागरिकों  से मत भेद कम हो और राज्य में शांति बनाया रहे । क्यों की इस भूखंड में तरह तरह की भाषीय सभ्यता थे उनके जीवन सैली भी अलग अलग थे । यहां कई बुद्धिजीवी और महापुरुष पैदा हुए और उनके बनाई गयी दर्शन भी अलग अलग थी । उनके दर्शन या धर्म भी एक दूसरे की विरोधी भी थे ।  कुछ राजा धर्म और दर्शन की आजादी भी दी और कुछ प्रचारक और प्रसारक विरोधी धर्म को विनाश और अपभ्रंश भी किया । इस भूखंड में दो तरह की दर्शन और उससे बनी धर्म बने; एक तर्कसंगत(Rational) और दूसरा तर्कहीन(Irrational); आजीवक, चारुवाक/लोकायत, योग, बौद्ध, जैन और आलेख इत्यादि बिना भगवान और बिना मूर्ति पूजा की तर्कयुक्त धर्म और दूसरा बहुदेबबाद, मूर्ति पूजन, अंधविश्वास, तर्कविहीन, हिंसा, छल कपट और भेदभाव फैलाने वाला वैदिक जैसे धर्म । वैदिक धर्म को सनातन और हिन्दू धर्म भी कहा जाता है, जो वैदिक वर्ण व्यवस्था के ऊपर आधारित है । क्यों के आज की “हिन्दू” पहचान वाले अनुगामी चार वर्ण से बंटे हुए हैं; ये दरअसल चार वर्ण के वारे में जो धर्म या दर्शन बोलता है उसके अनुगामी हैं. चार वर्ण केवल एक ही दर्शन में मिलता है वह है संस्कृत में रचना की गयी रिग वेद में. यानी ये इस बात का पुष्टि करता है वर्ण व्यवस्था वैदिक सोच में में पैदा हुआ और जिन लोगों की प्रिय या मातृभाषा संस्कृत था उन्होंने ही इस सोच को दुषरे गैर संस्कृत भाषाई सभ्यता पर थोपा. वर्ण व्यवस्था रिग वेद की “पुरुष सूक्त १०.९०” में विस्तार रूप से व्याख्या की गयी है.

पुरुष सूक्त के अनुसार: एक प्राचीन विशाल व्यक्ति था जो पुरुष ही था ना की नारी और जिसका एक हजार सिर और एक हजार पैर था, जिसे देवताओं (पुरूषमेध यानी पुरुष की बलि) के द्वारा बलिदान किया गया और वली के बाद उसकी सरीर की टुकड़ों से ही विश्व और वर्ण (जाति) का निर्माण हुआ, जिससे ये दुनिया बन गई । पुरूष के वली से, वैदिक मंत्र निकले । घोड़ों और गायों का जन्म हुआ, ब्राह्मण पुरूष के मुंह से पैदा हुए, क्षत्रियों उसकी बाहों से, वैश्य उसकी जांघों से, और शूद्र उसकी पैरों से । चंद्रमा उसकी आत्मा से पैदा हुआ और उसकी आँखों से सूर्य, उसकी खोपड़ी से आकाश बना ।  इंद्र और अग्नि उसके मुंह से उभरे ।

कोई भी मनुष्य श्रेणी पुरुष की मुख, भुजाओं, जांघ और पैर से उत्पन्न नहीं हो सकती ना कोई कभी बिना जैविक पद्धति से पैदा हुआ है? मुख, बाहें, जांघ और पैरों से कभी भी इंसान पैदा हो नहीं सकते है, जो की अवैज्ञानिक और एक अंध  विश्वास है. साधारण ज्ञान के अनुसार, कोई भी जीबित  पुरुष को अगर मार दिया जाता है वह मर जाता है, ना की उससे कई तरह की जीवित प्राणियां पैदा हो जाते हैं. पुरुष  की बली से और उसकी सरीर की टुकड़े से इंसान पैदा होने का सोच ना केवल एक अंध विश्वाश है, ये झूठ, भ्रम और मुर्ख सोच भी है. पुरुष बलि की टुकड़ों से वैदिक मंत्र निकलना, घोड़ों और गायों का जन्म होना; आकाश, चंद्रमा और  सूर्य, उसकी शरीर की टुकड़ों से बनना ये एक मुर्ख सोच ही नहीं बल्कि उससे भी घटिया सोच है जो हमारे सभ्यता को अज्ञानता और अंधविश्वास की खाई में धकेलता है. दुःख की बात है जो इस सोच को फैलाते हैं हम उनको पंडित कहते हैं. ये सोच एक तरह से मानसिक विकृति है. इस सोच को ज्ञान की चोला पेहेनाके इंसान को बांटना और उन में फूट दाल के उन पर राज करना ना केवल मूर्खता है बल्कि शातिराना भी है; वर्ण की उत्पत्ति को हम वैदिक ज्ञान की बेवकूफी बोल सकते हैं. आप खुद ही अपनी तर्क से सोचो ये कैसा अंध विश्वाश और मूर्खता है? जिस मूर्खता और अंध विश्वास को सदियों ज्ञान और धर्म का चोला पहनाया गया और फैलाया गया? ये क्या मूर्ख सोच और अंध विश्वास का गुंडा गर्दी नहीं तो क्या है?

इस जातिबाद वैदिक पुरुष सूक्त फैलाने का क्या मतलब? मतलब साफ़ है गंदी सोच रखने वाले गुंडई सोच कपटी लोमड़ी सोच बुद्धि जीवी लोग अपनी और अपनी जैसी कुछ लोगों की संगठित लाभ के लिए बनाई सामाजिक शासन व्यवस्था जिसको हम वैदिक सामाजिक शासन व्यवस्था बोलते हैं जो की इंडिया सभ्यता की सबसे बड़ा मुर्ख और घटिया दर्शन है जिसको छल और बल से इसको इंडियन लोगों के ऊपर अपने संगठित लाभ के लिए  थोपा गया है  । हर भाषीय सभ्यता को ब्राह्मणबाद अगड़ी और पिछड़ी श्रेणी में बांटा; धूर्त, बाहुबली और बईमानों को अगड़ी यानी शासक वर्ग बनाने की मदद की और श्रम श्रेणी को हमेशा श्रम श्रेणी बने रहना और अगड़ी बनने से रोकने के लिए वर्ण व्यवस्था को धूर्त, बाहुबली और बईमानोंने अपनाया । रिग वेद का पुरुष सूक्त जो वर्ण व्यवस्था का वर्णन करता है एक मूर्खता और अज्ञानता का परिभाषा है; और क्योंकि ये संस्कृत भाषा में रचना की गयी हैं और अन्य १७०० भी ज्यादा अलग भाषी बोलने वाले सभ्यता जिन को संस्कृत बोलना नहीं आता उनके ऊपर  ये सोच जबरदस्ती थोपा गया है । यानी जिनलोगों की माँ बोली संस्कृत नहीं उनकी भाषीय प्रजाती में वर्ण व्यवस्था ही नहीं थी; इसलिये ये सोच उनके ऊपर छल और बल से थोपा गया है । संस्कृत भाषा सब भाषा की जननी है ये एक सफ़ेद झूठ है; जिसको मुर्ख और धूर्त वैदिक प्रचारकोंने फैलाई है । अगर संस्कृत भाषा इतनी पुरानी है, तो आज तक उसकी बोलने वाले १५ हजार से भी कम लोग क्यों हैं? ईश भाषा को कोई भी ख़तम करने को कोशिश नहीं किया; ईश को स्वाधीन इंडिया में भी संरक्षण मिला; उसके बावजूद ये कभी भी जन प्रिय भाषा बन नहीं पाया; इसका मतलब ये है की ये भाषा कभी भी  इस भूखंड का लोकप्रिय भाषा ही नहीं रहा । लेकिन दिलचस्पी की बात ये है की, हर वैदिक भगवान बस संस्कृत में ही समझता है । अगर भगवान हमेशा संस्कृत में समझते हैं, तो जिन लोगों का मातृभाषा संस्कृत नहीं हैं तो उनकी भगवान कैसा बना? क्या हम अरबी समझने वाले अल्ला; या इंग्लिश या अरामिक समझने वाला जिसु को अपना भगवान मानते हैं? तो संस्कृत समझने वाला भगवान हमारा भगवान है ये कितना तार्किक और मानने योग्य है?

३००० साल पहले इस भूखंड में कोई प्रमुख धर्म नहीं था; तो हमारा सब पूर्वज धर्महीन/धर्मबिहीन/गैरधर्मी ही थे; और किसी भी प्रमुख धर्म को नहीं मानते थे, तब क्या वह सब पापी और जानवर थे? प्रकृति की जैविक पहचान बड़ा है या कुछ इंसानों की बनाई गयी धार्मिक सामाजिक पहचान बड़ा? क्या हम पापी और जानवर के संतान हैं कहलवाना पसंद करेंगे? ये हम क्यों मानने को तैयार नहीं के हमारे पूर्वज इंसान थे; हो सकता है उन में से कुछ अच्छा होंगे और कुछ बुरा, और हम उन इंसानोकी ही संतान है ना की हिन्दू, मुसलमान, क्रिस्टिआन, बौद्ध, जैन इत्यादि इत्यादिओं का संतान? ये ज़रुरी नहीं है की हर अच्छा इंसान की संतान अच्छा इंसान ही हो और एक बुरा इंसान की संतान हमेशा बुरा. लेकिन एक तरह की सोच जो अच्छा भी हो सकता है और बुरा भी जो की साइंनोने ही बनाया है, और उनकी पीढ़ीओं को वही सोच विरासत में देकर जाते हैं वह है धर्म. ज्ञान और धर्म दो अलग चीज है. कोई भी धर्म को अच्छे ज्ञान और बुरे ज्ञान के तौर पर लिया जा सकता है लेकिन कोई भी एक सोच या ज्ञान को अपना ज्ञान मानना, जो की बुरा भी हो उस को सही ठहरना क्यों की उस को उसकी पूर्वज और वह मानता है, वह कितना सही और तार्किक है? उसीको रिपिटेडली अपने पीढ़ियों को ट्रांसफर करना ज्ञान की आजादी को रोकना होता है.

जितने भी आज की प्रमुख धर्म है जैसे ईसाई, इस्लाम, हिन्दू ये सब धर्म इन ३००० साल की अंदर ही बने हैं. ३००० साल पहले हमारे पूर्वज इस मिट्टी से  जुड़े हुए थे जिस मिट्टी के साथ अब हम जुड़े हुए हैं और आने वाला पीढी भी इस  मिट्टी से जुड़ेंगे. आज हम जिस धर्म के अनुगामी हैं या जुड़े हैं हमारा पूर्वज तो जुड़े हुए नहीं थे न वह हिन्दू कहलाते थे, ना मुसलमान ना ईसाई तो क्या उनकी जिंदगी की कीमत कम हो गयी थी? जिन के वजह से हमारा वजूद है वह अगर कोई धर्म को मानते ही नहीं थे तो धर्म आज की जिंदगी में इनसानियत से ज्यादा बड़ा कैसे हो गया? आज धर्म के वजह से इंसान इंसान से घृणा करता है. कोई बोलता है अरब का भगवान अल्लाह मेरा भगवान है तो कोई बोलता है बन्दर  सर वाला मानव, हाथी सर वाला मानव, सांप, कछुआ, मछली, दस हात वाला विष्णु, चार मुंडी वाला ब्रह्मा, पुरुष जननांग (शिव लिंग) इत्यादि इत्यादि इन जैसे पहचान वाला ३३ करोड़ मेरे भगवान है; कोई बोलता है जेरुजेलम में पैदा हुआ भगवान पुत्र जो की आरामिक भाषीय पहचान यीशु ही मेरे भगवान है, तो कोई महावीर और बुद्ध को अपना भगवान मानता है. इस पीढ़ी और उनसे आगे 25 पीढ़ियां क्या कोई इन भगवान को देखा था? तो एक सोच को दूसरे पीढ़ी के दिमाग में इम्प्लांट करके उससे नफरत और हिंसा पैदा करके एक दूसरे से लड़ना क्या मानसिक विकृति नहीं है? जब की ये सब सोच या इनफार्मेशन इंसानी दिमाग का बस एक रासायनिक स्थितियां हैं जो की एक इंसानी दिमाग से दूसरे दिमाग को इंसानी कम्यूनिकेशन से जस्ट सोच की रासायनिक कॉपी एन्ड पेस्ट हुई हैं. मैमोरी के हिसाब से बायोलोजिकली  इंसानी दिमाग में रसायन अणुओँके की तहत एक पहचान की तौर पर एक पीढ़ी से दूसरे पीढ़ी को ट्रांसफ़र किया जाता है. इनका असली मौजूदगी नहीं होता लेकिन इंसान की दिमाग में साइकोलॉजिकल मौजूदगी होता है जो की भ्रम की बराबर ही है. भ्रम इसलिये जब आप कुछ आंखों से देख ते है, कानों से सुनते हैं उस को महसूस  करते हैं और  उसका साथ कुछ ऐक्शन करने की क्षमता रखते है तो वह रियलिटी है. इंसानो की दिमाग अपने मेमोरीमें से कुछ भी काल्पनिक सोच पैदा कर सकता है वह जरूरी नहीं की वह रियलिटी हो. अगर आप जिसको सोच में ही कम्यूनिकेट करते हो लेकिन कम्यूनिकेट का माध्यम रियलिटी में पत्थर, धातु या मिट्टी से बनी मूर्त्तियां या वैसे ही कुछ प्रतीकात्मक इत्यादि के साथ इंटरैक्ट कर रहे हो जो की कुछ माइने नहीं रखता क्यों के निर्जीव पदार्थों का ना कान होता है ना आँख जो की आप को सून सकते हैं ना देख सकते हैं ना आप की कम्यूनिकेशन को महसूस कर सकते हैं तो आप रियलिटी में कुछ कर है हो और सोच में कुछ इसलिये ये भ्रम है. अगर एक कल्पना जो की हकीकत नहीं है और रियलिटी को हार्म करे उसकी अभ्यासगत प्रैक्टिस करना वेकूफ़ी ही है. कुछ इंसानोने अपने चारो ओर एक्जिस्टेन्स देखी उनको किसने बनाया उसकी तार्किक चिंतन से जब हार गया तो उनको एक आलसी और सुबिधावादी सोच से एक काल्पनिक महा सक्तिमान एंटिटी की पेहेचान देकर भगवान बनादिया; जो की केवल एक इमेजिनरी साइकोलॉजिकल एंटिटी ही है.  अब जिस इंसान की सोच जैसा है उसकी एंटिटी/भगवान भी वैसे बन गया. भगवान के नाम से शातिर लोग सोसिअल कोन्फोर्मिटी का गलत इस्तेमाल करके उनके दिमाग और जीवन पर कंट्रोल करने लगे उस को हम धर्म कहते हैं. अंधविश्वास और अपराध को धर्म की छतरी के नीचे लीगालाइज़ किया और भगवान भ्रम फैलाके अनुगामिओं की शोषण की . क्राइम्स यानी अपराध और अंधविश्वास को कोई भी धर्म का चोला पहनाओ वह अपराध और अंधविश्वास ही होता है. धर्म के नाम पर अपराध और अंधविश्वास को सही का चोला पहनना या सही साबित करना भी एक व्यक्तित्व विकृति ही है. अब हर धर्म में क्रिमिनल इंटेलीजेंसिआ ज्यादा मिलेंगे और  इंटेलीजेंसिआ कम. तरह तरह की भगवान सोच से इंसान और इंसान की बिच सोच की जंग लगी और इस सोच के वजह से तरह तरह की सामाजिक बुराई पैदा हुए और यहाँ तक की इंसान इंसान को मारने लगा और इस भगवान की सोच की वजह से हमारा इंसानी दौड़ भगवान की आस्था की सम्राज्य में विभाजित हो गया जैसे की अब ह्यूमान रेस में ३१% से भी ज्यादा लोग ईसाई धर्म को मानते हैं, २४% से भी ज्यादा लोग इस्लाम को मानते हैं और १५% से ज्यादा लोग वैदिक(हिन्दू) धर्म को मानते हैं. ये लोग अपने धर्म की भगवान को ही अपना भगवान मानते जब की दूसरे धर्म की भगवान को नकारते हैं. असलियत में ये भगवान सोच से पैदा एक मानसिक विकृति है जिसको हम गॉड एडिक्शन डिसऑर्डर कहना ठीक होगा. गॉड एडिक्शन डिसऑर्डर में इंसान दूसरे इंसान को अपनी भगवान की सोच की वजह से हार्म करता है और उससे तरह तरह की असामाजिक बीमारी और दूसरे मानसिक बिकृतियाँ पैदा होते हैं. जैसे इंसान को अगर कोई रोग होता है जिससे इंसान को सामान्य जिंदगी से कठिनाइयां होती है और कभी कभी अपना जान भी गंवाना पड़ता वैसे ही अगर भगवान की सोच की वजह से इंसान को तकलीफ हो और उसी सोच के वजह से खुद की और दूसरे इंसान की जान भी जाये, खुद को अंध विश्वासी बना ले, तर्क से घृणा करे, उसके मन में लॉजिकल ब्लाइंडनेस पैदा हो जाये, निर्जीव मूर्त्तियोँ के आगे जिन्दा पशुओं की बलि दे और उसके आगे सर झुकाये, निर्जीव मूर्त्तियों को घंटी बजा के उठाये और उनको खाना भी परोसे, भगवान की नाम से कुछ भी बोलो बिना सोचे समझे उसकी विश्वास कर ले और उस को कार्य में भी पालन करे यहाँ तक की पशुओं के मल और मूत्र को बिना तर्क के चाट ले, किसी इंसान की बलि भी चढ़ा दे इत्यादि इत्यादि करे, भगवान को माइक में चिल्ला चिल्ला के ढूंढे और तू ही बड़ा एक ही भगवान बोले और ये भी स्वीकार करे ना उसका शेप, साइज और आकर है इत्यादि इत्यादि, और कभी भगवान से बच्चा भी पैदा करके उस को सन ऑफ़ गॉड बोले यानी भगवान सेक्स भी करता  जैसे मानसिकता को फैलाये ये मानसिक बिकृतियाँ नहीं तो क्या है? इस तरह की तरह तरह इल्लॉजिकल सोच और अंध विश्वास को इंसानी दिमाग में इम्प्लांट करना और उनके लाइफ और दिमाग के साथ खिलवाड़ करना क्या एक मानसिक बीमारी नहीं है? जो लोग ये जानते हुए भी ये सोच दूसरे की दिमाग में अपने फायदे के लिए इम्प्लांट कर रहे हैं वह क्या असामाजिक व्यक्तित्व विकार की शिकार नहीं है? जिस भगवान सोच की मानसिक स्थितियों के कारण इंसान इंसान को नफ़रत करता है या एक दूसरे की दुश्मन और जान ले लेता है हम उस विकृत मानसिक स्थिति को एक रोग क्यों नहीं कह सकते? क्यों के ये सब बिकृतियाँ भगवान प्रेम से पैदा हुआ है, ये एक मानसिक बीमारी “God Addiction Disorder” ही है.

गॉड एडिक्शन डिसऑर्डर को हम Theophlia भी कह सकते हैं. थियोफिलिया दो शब्द “थियो” और “फिलिया” का संयोजन है। आप थिओलॉजी(Theology) शब्द के बारे में जानते होंगे  जिसका मतलब है “ईश्वर का तर्क(लॉजिक ऑफ़ गड)” यानी “थियो” का अर्थ “ईश्वर” है, जहां “फिलिआ(philia)” का मतलब असामान्य प्यार है, या किसी विशिष्ट चीज़ के प्रति झुकाव है। बस थियो = ईश्वर, फिलिया = एक काल्पनिक शक्तिमान पहचान को बिना शर्त या सशर्त प्रेम करना और ये इस प्यार के लिए कोई कारण हो या ना हो ये माइने नहीं रखना और ये विश्वास करना  जो की सर्वोपरि या हर एक चीज का निर्माता, पालन कर्ता और संहार कर्ता है; जिसको अनुगामी तर्क से विश्वास करने का कोई कारण ज़रुरी नहीं है, को भी स्वीकारता है । अन्य अर्थ में अगर हम कहें थियोफिलिया का मतलब है भगवान की लत (God addiction) । थियोफिलिया एक मानसिक  विकार है और यह हमारे मानव जाति के लिए हानिकारक है । वर्तमान की हर धर्म की भगवान सोच को मानने वाला आस्तिक प्रचारक और उनकी प्रसारक उस सोच को बढ़ावा देते हैं जिन्होंने ना अपनी भगवान को देखा है ना  उनकी पूर्वजों ने देखा था ना उनके धर्म बनानेवाले धर्म  के संस्थापकों ने  देखा था । तो क्या आप इसको समान्य मानसिकता कहना पसंद करेंगे?

263BC के वाद इस भूखंड का प्रमुख धर्म बौद्ध धर्म बना क्योंकि राजा अशोक की बनाई गयी अखंड राज्य का राष्ट्र धर्म बुद्धिजीम था ना की वैदिक; तब की समय में बौद्ध धर्म एक तार्किक धर्म ही था. ईशाई धर्म 33AD के बाद पैदा हुआ और इस्लाम 610AD के बाद. 185BC में वैदिक ब्राह्मण पुष्यामित्र सुंग ने असोका राज की बौद्ध धर्म की विनाश किया और मनुस्मृति लागु करके वैदिक वर्ण धर्म को राजा अशोक की अखंड राज्य की ऊपर थोपा. क्यों के मनुस्मृति में ब्राह्मणो को तरह तरह की संरक्षण थी इससे संगठित पुजारीवाद ने इसको अपने भाषीय सभ्यता में ज्यादा फैलाया और समय के साथ कई राजाओं ने अपने आप को क्षत्रिय का वैदिक पहचान दिया और अपने तलवार की धार यानी दहशत, छल और बल, साम दाम दंड भेद के तहत 185BC से लेकर इस्लाम आक्रमण कारियों आने तक यानी 700AD तक ये धर्म को अच्छी तरह से फैलाया. इस्लाम राजाओं ने पाकिस्तान की सिंध प्रोविंस, जो की तब सिंधु सभ्यता कहा जाता था उनके नाम पर अपने राज की नाम रखा जैसे अल-हिन्द, इन्दूस्तान, हिंदुस्तान इत्यादि…और उनके राज्य में गैर मुसलमानों को हिन्दू की पहचान दी जो की तब ज्यादातर वैदिक यानि वर्ण को मानने वाले अनुगामी हो गये थे. क्यों के ज्यादातर शूद्र सबर्णों से प्रताड़ित थे, तो  ज्यादातर शूद्र इस्लाम को अपना धर्म मान लिया ताकि छुआ छूत जैसे असामाजिक तत्त्व से खुद को और अपने पीढ़ीओं को बचा सके. इस तरह से एक अंध विश्वास यानी वैदिक वर्ण व्यवस्था इस भूखंड का सबसे बड़ा प्रमुख धर्म बन गया.


India had totally controlled by Vedic caste promoter oligarch elites those are in practical psychologically disordered race or race of Indian origin crooks with severe anti social personality disorders and we can say them Indian racial sociopaths or elite social criminals. Both Congress and BJP dominated and controlled by these Vedic crooks or so called elites. Only for these stupids India got divided and we have now three nations from one origin.

Following Organizations are harmful to India those stagnates the Indian civilization till to date socially and whose ancestors were the root evils of the Indian civilizations.

Abhinav Bharat Society: Founded by Vinayak Damodar Savarkar and his brother Ganesh Damodar Savarkar in 1903.(Both were Marathi Chitpavan Brahmins).

Akhil Bhāratiya Hindū Mahāsabhā: Founded in 1915 & Founder was Madan Mohan Malaviya (Original surname was Chaturved an Allhabadi Brahmin).

Rashtriya Swayamsevak Sangh: Founded in 27 September 1925 in Nagpur & Founder was K. B. Hedgewar (Marathi Deshastha Brahmin).

Bharatiya Jana Sangh: Founded in 21 October 1951 & Founder was Syama Prasad Mukherjee (Westbengal Brahmin).

Vishva Hindu Parishad: Founded in 1964 & Founders were M. S. Golwalkar(Original surname was Padhye. The Padhyes belonged to a place called Golwali in Konkan in Maharashtra are Brahmins), Keshavram Kashiram Shastri (Brahmin), S. S. Apte (Maharashtrian Brahmins).

Why these type of organizations those promotes Stupid caste based social system (Purusha Sukta 10.90) are founded and lead by Brahmins?

Have you ever seen any Brahmin explaining where Castes and Brahmins born from? These stupids are not only race of crooks but also a race of blind believers those genetically making their descendants mentally ill and blind believers generation to generations. These stupids are thinking they are fooling to their followers but they are so stupids that they have been already made their descendants mentally disordered more than their followers.

जातिवाद यानी वर्ण व्यवस्था संस्कृत भाषी रचनाओं में मिलता है इसका मतलब ये हुआ जो गैर संस्कृत बोली वाले है उनके ऊपर ये सोच यानी वर्ण व्यवस्था थोपी गयी है । रिग वेद की पुरुष सुक्त १०.९० जो वर्ण व्यवस्था का डेफिनेशन है उसको कैसे आज की नस्ल विश्वास करते हैं ये तर्क से बहार हैं? सायद आज की पीढ़ी भी मॉडर्न अंध विश्वासी हैं । पुरुष सूक्त बोलता है: एक प्राचीन विशाल व्यक्ति था जो पुरुष ही था ना की नारी और जिसका एक हजार सिर और एक हजार पैर था, जिसे देवताओं (पुरूषमेध यानी पुरुष की बलि) के द्वारा बलिदान किया गया और वली के बाद उसकी बॉडी पार्ट्स से ही  विश्व और वर्ण (जाति) का निर्माण हुआ है और जिससे दुनिया बन गई । पुरूष के वली से, वैदिक मंत्र निकले । घोड़ों और गायों का जन्म हुआ, ब्राह्मण पुरूष के मुंह से पैदा हुए, क्षत्रियों उसकी बाहों से, वैश्य उसकी जांघों से, और शूद्र उसकी पैरों से पैदा हुए । चंद्रमा उसकी आत्मा से पैदा हुआ था, उसकी आँखों से सूर्य, उसकी खोपड़ी से आकाश ।  इंद्र और अग्नि उसके मुंह से उभरे ।

Posted in Uncategorized | Tagged | Leave a comment

भारत क्या है?

हिंदी क्या है? कभी इसकी खोज की है? हिंदी या हिन्दू शब्द का उत्पत्ति कहाँ से हुई है कभी आपने इसको जानने की कोशिश की है? चलिए इस लेख में इसकी खोज करते हैं और जानते है ये हिंदी या हिन्दू है क्या? दोस्तों, हमेशा याद रखना कोई भी तथ्य अगर विवादास्पद लगे उसके पीछे कुछ न कुछ साजिश होता है। इसको आप को तर्क से ढूंढना पड़ेगा ना की यूँही विश्वास कर लेना चाहिए क्यों की ये हम को हमारे पिछले पीढी ने बताया था । ये भी हो सकता वह चीज जो हमें बताया गया हो वे झूठ हो और एक साजिश हो और पिछले पीढी ने जो ये बात हम तक पहुँचाई वह भी साजिश का सीकर हो । दोस्तों, जब कोई हम तथ्य के संपर्क में आते हैं उसकी सोर्सेस यानी स्त्रोत तरह तरह की होते हैं, जैसे कोई लेख से, या कोई संचार माध्यम से, कोई लोक कथा से या हमारे चारों और मौजूद समाज से । कोई भी तथ्य की जानकारी आप को विभिन्न स्रोत से मिल जायेंगे । अगर इन स्रोतों से कहीं अंतर्विरोध दिखा तो समझ लेना ईश के साथ कुछ छेड़ छाड़ हुई है और छेड़ छाड़ की वजह कई हो सकते है । वैसे ही हम हिंदी के साथ देखते हैं । हमेशा याद रखना हमें जो तथ्य मिलेंगे उसकी हम तर्क से ही लेना पड़ेगा अगर तथ्य तर्क से नकरात्मक हैं उसके पीछे सत्य को ढूंढना पड़ेगा जब तक तथ्य तर्कसंगत हो ना जाए और अंतर्विरोध ख़तम हो ना जाये । हम जो भूखंड में रहते हैं उसका नाम अब इंडिया है; हाला की ये भूखंड की नाम सत्ता धारी ताकतों के राज की नाम के तहत रखा हुआ करता था । समय के साथ इस भूखंड को तरह तरह का राजा, राज किये और इस भूखंड हिशाओंका राजाओं के नाम से भूखंड का नाम हुआ करता था कहने का मतलब ये है; ये भूखंड सदियों कई भाषाई और उनकी राज की भूखंड रहा है । कई राजाओं ने इस भूखंड को राज किया और उनके साम्राज्य के नाम से इस भूखंड का नाम हुआ । अभी इस भूखंड में १२२ प्रमुख भाषा और अन्य १५९९ भाषाएं देखने मिलते हैं । जितना भाषा, ये हम मान सकते हैं उतनी तरह की सभ्यता । अगर एक सभ्यता एक भाषीय भूखंड होता तो दूसारे भाषा की प्रयोजन ही क्या है? जो भाषाएं काफी मिलता जुलता है, उनकी एक मूल भाषा हो सकती है; लेकिन जिनके शब्द और अर्थ ज्यादातर काफी अलग अलग होते हैं वह कभी एक मूल से नहीं हो सकते । हमारे भूखंड में न एक भाषा है ना कभी एक अखंड भूखंड सदियों रहा । समय के साथ ये बदलता रहा । इस भूखंड में राजाओं आपने राज्य की परिसीमा बढ़ाने के लिए एक दूसारे से लड़ते रहते थे । ये भूखंड कभी भी एक राजा की नहीं रहा समय के साथ  तरह तरह की राजा राज किया और उनकी विलुप्ति भी हुई । इन राजाओं के वारे में हमें इतिहास, लोककथा और पुराण और कुछ कुछ पौराणिक कथाएं  और शास्त्रों से मिलता है । इसका मतलब ये नहीं वह हमेशा सच ही हो । सत्ता धारी ताकतों ने अपनी ही प्रतिष्ठा को इतिहास की माध्यमसे ज्यादा बढ़ा चढ़ा के आगे बढ़ाया होगा और उसकी विरोधी की निश्चित रूप से ध्वंस या उसके साथ छेड़ छाड़ की होगी । इसी हिसाब से हम को इनसे मिली तथ्य के साथ तर्क संगत टिप्पणी करनी होगी ।

समय के साथ राजा बदले उनके साथ साथ रज्योंके परिसीमा भी बदली । ये भूखंड कभी हजारों राजाओं का भूखंड रहा तो कभी कुछ महाराजाओं का । राजाओं अपनी सक्ति से दूसारे छोटे छोटे राज्य मिला के अखंड राज्य बनाया करते थे या कभी कभी राज्यों के साथ संधि यानी मित्र राज्य बना के पडोसी राज्य किया करते थे । ज्यादातर एक दूसारे के साथ लड़ाई करके खुद को बड़ा साबित करना तब की राज युग की (Age of kingdoms) परम्परा थी । इसलिए कोई भी एक संयुक्त भूखंड ऐतिहासिक नाम जैसे भारत, हिंदुस्तान या इंडिया इतिहास की पृस्ट्भूमिसे लियागया नाम है कहना बेमानी है । इस भूखंड का नाम कभी भारत नहीं था । भारत नाम देश स्वाधीन होने का वाद ही दियागया है । ना भारत कोई राजा था ना उसकी कभी इतना बड़ा भूखंड का राज । बस कुछ मन गढन कहानी भारत नाम की प्रचार और प्रसार करते हैं । अगर हम ये मान ले भारत एक पुरुष है तो भारत को माता क्यों कहते है? भारत एक पुरुष की नाम है ना की स्त्री विशेष की । अगर भारत को हम एक राजा मान लें तो उनकी राज कितने तक फैला था उसकी वारे में कुछ कहा नहीं जा सकता । क्यों की उसकी कुछ मजबूत सबूत ही नहीं है । अगर मान लिया जाये भारत “महाभारत” से लिया गया है तो महाभारत का मतलब क्या है? “महा” मतलब बड़ा या महान और “भारत” मतलब एक व्यक्ति विशेष का नाम । इसका मतलब क्या हुआ? जैसे किसीका नाम अगर “पपु” है “महापपु” का मतलब क्या होसकता है? अगर मान लिया जाये “महाभारत” का मतलब “महा युद्ध” है तो “भारत” का मतलब युद्ध है । अगर भारत का मतलब युद्ध है तो इसको एक राष्ट्र का नाम के रुपसे इस्तेमाल करना कितना तार्किक है? अगर मानलिया जाये “भारत” पाण्डु और कौरव के पूर्वज थे जैसे हिन्दू ग्रंथों में लिखा गया है; महाभारत ही संदेह की घेरे मैं है जैसे महाभारत में लिखा गया है? क्या गांधारी के पेटमें जो बच्चा था उस को मारने का बाद उसकी टुकड़े १०१ मिटटी के घड़ा में रख कर बच्चे पैदा की जा सकती है? क्योंकि महाभारत की अनुसार गांधारी की बच्चे उनकी पेट से नहीं मिट्टी की घड़ों से पैदा हुए है जो १०० लड़के थे और एक लड़की जो बायोलॉजिकल असंभव है । अगर मान भी लिया जाये एक औरत नौ महीना में एक बच्चा पैदा करे या जुड़वां तो ज्यादा से ज्यादा उसकी मेंस्ट्रुएशन साइकिल में ज्यादा से ज्यादा ४० से ५० बच्चा पैदा कर सकता है उससे ज्यादा नहीं क्योंकि ज्यादातर लडकियोंकी मेंस्ट्रुएशन साइकिल १० या १२ की उम्र से शुरु हो जाती हैं और ज्यादा से ज्यादा मेनोपोज़ यानी ५२-५४ तक बच्चे पैदा करने की क्षमता होती है । फिर ऊपर से गांधारी की आंख में पट्टियां और उनकी पति अंधा; आप खुद आगे सोच सकते हो; यानी कौरव बायोलॉजिकली इम्पोसिबल हैं । अब आते हैं पांडव के वारे में; पांडव नाम उनकी पिता पांडु से है जो की खुद एक नपुंसक थे यानी उनकी बच्चे पैदा करने की योग्यता ही नहीं थी तो कुंती और मद्री ने कैसे बच्चे पैदा की होगी आप खुद समझ लो । कोई सूर्य पुत्र था तो कोई धर्म, वायु और इंद्र की तो कोई अश्विनी की; इसका मतलब दो रानी आपने पति से नहीं अवैध सम्पर्क से ही बच्चे पैदा किया; वायु यानी हवा और सूरज के साथ कैसे सेक्स हो सकता है वह तर्क से बहार है । अच्छा चलो मानलेते हैं किसी और से “नियोग” प्रक्रिया से ये बच्चे पैदा हुए थे, जब की कौरव का पैदा होना बिलकुल असंभव है तो इसलिये ये एक मन गढन कहानी है ना की सत्य । आगर मान भी लिया जाये ये सब सच था तो यह लोग कौन सी भाषा की इस्तेमाल करते थे? अगर कुरूक्षेत्र नर्थ इंडिया का एक छोटा सा हिस्सा है तो हम ये कैसे मान लें ये अब की पूरी इंडियन भूखंड थी । अगर उनकी माँ बोली अलग था तो जो इनकी माँ बोली से अलग हैं और इस कहानी की अनुगामी हैं उनकी कहानी से क्या रिसता? इस कहानी को क्यों जबरदस्ती उन पे थोपा जाता है? जब भारत पहचान ही संदेह के घेरे में है तो ये देश का पहचान कैसे बन गया?

Original Draft Constitution of India Vs. Present Constitution of India

In original draft of “Constitution of India” neither “Bharat” nor “Hindustan” used as its second name or name in Hindi. Bharat word later inserted by RSS and Hindu Mahasabha political agents in Congress party after it came in to force. If you think Congress is free from RSS and Hindu extremist Politicians then its totally wrong.

INDIAN STAMPS GIVES US CLEAR PROOFS WHEN WE GOT THE NAME BHARAT. CLICK HERE FOR A COLLECTION OF INDIAN STAMPS, WHERE YOU CAN FIND CLEARLY, FROM JANUARY 17 1963 BHARAT NAME INTRODUCED IN STAMPS. ADOPTION OF BHARAT NAME FOR OUR NATION IN CONGRESS ADMINISTRATION SHOWS LINK WITH RSS AND HINDU MAHASABHA DOMINANCE IN CONGRESS PARTY OF INDIA.

Savarkar in his book “Six Glorious Epochs of Indian History”, which he had wrote before his death in 1966, show his views about his sharp communal ideology and voice of extremism and radicalism. Written in Marathi, his book based on many dubious historical records justifies rape as a political tool. Quoting the mythological figure Ravan, Savarkar wrote:

“What? To abduct and rape the womenfolks of the enemy, do you call it irreligious? It is Parodharmah, the great duty!”

Savarkar wanted Pakistan should be formed its why he had never opposed to Jinnah though  Jinnah and Savarkar both were living in Bombay. Savarkar wanted Pakistan should be formed as nation of Indian Muslims so he kept silence; where Jinnah was just a puppet to his conspiracy of two Nation theory. We must know prominently that first Hindutva political organization “Abhinav Bharat” had made by Savarkar in 1903 for two Nation theory followed by Muslim political organization All-India Muslim League  in 30 December 1906 at Dacca/Dhaka, Bangladesh by Nawab Viqar ul Malik. Jinnah was the supporter of united India and was an active member of Congress party till he joined in All-India Muslim League in 1913. He left Congress party only due to Hindu dominance in Congress party ignoring political interests of few Muslim leaders. Jinnah was not an orthodox Muslim, then how he supported a Nation based on religion? Which shows his political greed not the devotion to Islam; if he even not wanted partition there would not even partition. If Savarkar  wanted no partition he could have kill to Jinnah instead of Gandhi. Gandhi was just used and killed after the Nation formed. Hindu and Muslim were not the issue. Political rule and religious hegemony was the real issue. How Muslims of India and Hindus were living for 900yrs together without any disturbances i.e. from 700AD to 1600AD till British came, partly or majorly ruled by Islamic emperors to Indian demography? After even partition Punjabi clan converted to Islam  majorly rules Pakistan. Pakistani linguistic groups majorly from  Punjabi (45%), Pashto (15%), Sindhi (12%), Saraiki (10%) Urdu (8%) and Balochi (3.6%) where you can’t find any major orthodox Muslim ethnicity; which shows Pakistan is just a fake Islam nation. Actually original Hindustan is Pakistan not India due to presence of Shind province (Shindu civilization) and Shindu river in Pakistan that gives the Indian demography a National identity name “Hindustan” and name to its people Hindu.

जब की सत्य ये है; भारत शब्द का उपयोग सावरकर ने अपनी हिंदूवादी संगठन “अभिनव भारत” के लिए 1903 में किया था । जो की हिंदूमहासभा का प्रेसिडेंट था; जो आर.एस.एस से जुड़ा था । जिसके कहनेपर नाथूराम गोडसे ने गाँधी जी की हत्या की । और जो कांग्रेस पार्टी ज्यादातर हिंदूवादी यानी वर्णवादी इस हिन्दू महासभा से सम्पर्कित नेताओंसे भरीपड़ी थी जिसके कारण जिन्न्हा ने कांग्रेस छोड़ी और पाकिस्तान के वारे में सोचा । सुभाष चंद्र बोस ने कांग्रेस छोड़ी और फॉरवर्ड ब्लॉक् बनाई और आज़ाद हिन्द की कल्पना की । 1947 में देश की आज़ादी के बाद इस कांग्रेस वाले हिन्दूत्त्व नेताओंने देश का नाम “भारत” रखा । देश का नाम हिन्दू महासभा ओरिजिन से “भारत” रखना इस बात का सबूत है की कांग्रेस बस छद्म सेकुलर है । जबकि खुद नेहरू या गांधीजी या तब का समय की कोईभी नेता देश के लिए “भारत” शब्द का इस्तेमाल नहीं किया । प्रमाण के तौर YouTube में आप उन लोगोंकी ओरिजिनल भाषण देख लीजिये । ज्यादातर वह देश का नाम हिन्दुस्तान या इंडिया का इस्तेमाल किया ना की भारत । ये इस बात का सूचक है भारत शब्द इनके बाद ही इस्तेमाल में आया । अगर आया तो इसके पीछे की नीयत क्या है? देश एक, नाम तीन क्यों? अगर किसी का नाम “अमर” है तो कोई भी भाषा में उससे  लिखे वह “अमर” ही रहेगा; लेकिन हमारा देश का नाम अंग्रेजी में इंडिया है लेकिन जब हिंदी में लिखते हैं वह “भारत” बन जाता है जब की भारत एक अलग नाम है । एक अलग नाम के पीछे क्या उद्देश्य हो सकता है आप ढूंढ़ने की कोशिश करो । मेरे हिसाब से इसके पीछे एक ही मक़सद है देश को हिन्दू राष्ट्र यानी वर्ण व्यवस्था  वाली देश बनाना जब की खुद वर्ण व्यवस्था  एक अंधविश्वास है । अंग्रेज इंडिया को वेसेही छोड़कर जाने वाले थे इसलिये सिविल सर्विस ऑफिसर अल्लन ऑक्टेवियन ह्यूम १८८३ में पोलिटिकल मूवमेंट पैदा की और कांग्रेस पार्टी बनाया । यानी देश को पोलिटिकल डोर से चलाने की दौर सुरु हो गया था । १८८५ उमेश चंद्र बोनर्जी कांग्रेस के पहले सभाध्यक्ष थे; पहले सत्र में 72 प्रतिनिधियों ने भाग लिया था, इंडिया के प्रत्येक प्रांत का प्रतिनिधित्व करते हुए प्रतिनिधियों में 54 हिन्दू और दो मुस्लिम शामिल थे; बाकी पारसी और जैन पृष्ठभूमि की थी; जबकि १७५७ की  बैटल ऑफ़ प्लासी के साथ ही फ्रीडम मूवमेंट सुरु हो गया था । १९१५ में गांधीजी ने फ्रीडम मूवमेंट के १५८ साल वाद और कांग्रेस बनने की ३२ साल वाद गोखले के मदद से दक्षिण अफ्रीका से लौटे और कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए । १९२४ में वह पार्टी प्रेजिडेंट बनगए । सुभाष चंद्र बोस कांग्रेस के साथ १९२० में जुड़े और गांधीजी की कांग्रेस में प्रभुत्व और धूर्त्त कब्जेवाजी से असंतुष्ट सुभाष चंद्र बोस को कांग्रेस पार्टी से २९ अप्रैल में निष्कासित होना पड़ा; उसके वाद १९३९ जून २२ को वह अपना फॉरवर्ड ब्लॉक बनायी और आजाद हिन्द की स्थापना की; जबकि कांग्रेस पार्टी उसके बाद उनकी साथ क्या किया खुद इन्वेस्टीगेट करना बेहतर होगा । १९१९ में, नेहरू ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हुए जब की मुहम्मद अली जिन्ना कांग्रेस का साथ १९०६ से लेकर १९२० तक रहे । गाँधी और नेहरू जोड़ी ऐसे बनि आज तक नेहरू फॅमिली गाँधी का नाम लेके अपनी पोलिटिकल दुकान चला रहा है जब की और भी कितने कांग्रेस लीडर थे उनके नाम इनके जुबान पर कभी नहीं आया । मुहम्मद अली जिन्ना ने कांग्रेस पार्टी में ब्राह्मणवादी यानी हिंदुत्व की पकड़ से नाखुश होकर मुसलमानों की अलग देश के वारे में अगवाई की । जब की पाकिस्तान की सोच मुहम्मद इक़बाल ने की थी इसलिए मुहम्मद इक़बाल को पाकिस्तान का स्पिरिचुअल फादर कहा जाता है; मुहम्मद इक़बाल इंडियन नेशनल कांग्रेस की एक बड़ा क्रिटिक थे और हमेशा कांग्रेस को मनुबादी यानी हिन्दूवादी पोलिटिकल पार्टी मानते थे । वही मुहम्मद इक़बाल जिसने “सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोसिताँ हमारा, हम बुलबुलें हैं इसकी यह गुलसिताँ हमारा” गाना लिखाथा । मुहम्मद इक़बाल के पूर्वज कश्मीर पंडित थे जिन्होंने इस्लाम क़बूली थी । वह ज्यादातर उनके लेख में अपना पूर्वज कश्मीर पंडित थे उसका जिक्र भी किया । जिन्ना के पूर्वज यानी दादाजी गुजराती बनिया थे । उनके दादा प्रेमजीभाई मेघजी ठक्कर थे, वे गुजराती में काठियावाड़ के गोंडल राज्य के पोनली गांव से लोहाना थे । उन्होंने मछली व्यवसाय में अपना भाग्य बना लिया था, लेकिन लोहाना  जाती का मजबूत धार्मिक शाकाहारी विश्वास के कारण उन्हें अपने शाकाहारी लोहना जाति से बहिष्कृत कर दिया गया था । जब उन्होंने अपने मछली कारोबार को बंद कर दिया और अपनी जाति में वापस आने की कोशिश की, तो उन्हें हिंदू धर्म के स्वयंभू संरक्षकों के विशाल अहं के कारण ऐसा करने की अनुमति नहीं थी । परिणामस्वरूप, उनके पुत्र, पुंजालाल ठक्कर/जिन्नाभाई पुंजा (जिन्ना के पिता), इस अपमान से इतना गुस्सा थे कि उन्होंने अपने और उनके चार बेटों के धर्म को बदल दिया और इस्लाम में परिवर्तित हो गए । वैसे देखाजाये तो पाकिस्तान बनने के पीछे कांग्रेस और उसके अंदर बैठे हिन्दूमहासभा की एजेंट्स ही जिम्मेदार थे । तो अब आपको पता चलगया होगा गांधीजीके हत्या में कौन शामिल हो सकता है? क्योंकि हिंदूवादी अगर पाकिस्तान नहीं चाहते थे तो जिन्ना को मार सकते थे गाँधी को मारने के पीछे जो तर्क वह देते हैं वह दरअसल भ्रम हैं । अगर गांधीजी को मार सकते थे तो जो पाकिस्तान के वारे में जो सोचा उसको क्यों नहीं मारा? इसका मतलब हिंदूवादी संगठन और कांग्रेस चाहता था की पाकिस्तान बने; तो ये ड्रामा क्यों किया? ये ड्रामा बस सो कॉल्ड सेकुलर वर्णवादी हिन्दू राष्ट्र बनाना था जो नेहरूने सोचा ताकि हिन्दू और मुसलमानोंकी वोट बटोर सके; ये इसीलिए किया नेहरू विरोधी मुसलमानोंको रवाना की जाये और जो उनके साथ हैं उनके साथ राज किया जाये क्योंकि उनके पास गांधी जैसे कुटिल राजनीतिज्ञ थे । गांधी जी के कुटिल दिमाग के कारण नेहरू देश का प्रधान मंत्री बन गए । देश स्वाधीन १९४७ अगस्त १५ क़ो हुआ और नेहरु देश की कमान सँभालने का वाद ३० जानुअरी १९४८ क़ो गांधी जी की हत्या हो गयी । कांग्रेस में हिंदूवादी एजेंटोने जब देखा सम्पूर्ण हिन्दू राष्ट्र बनाना मुश्किल है तो अखिल भारतीय हिन्दू महासभा की प्रेजिडेंट श्यामा प्रसाद मुख़र्जी नेहरू के साथ सम्बन्ध बिगड़े और असंतुस्ट होने के बाद, मुखर्जी ने इंडियन नेशनल कांग्रेस छोड़ दी और 1951 में भारतीय जनसंघ की स्थापना की जो की अबकी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के पूर्ववर्ती पोलिटिकल पार्टी है । जिसका एजेंडा वर्ण वादी हिन्दू राष्ट्र बनाना है । इसका मतलब ब्राह्मणवादी देश और न्याय व्यवस्था को चलाएंगे, क्षत्रियवादी देश की आर्मी यानी सुरक्षा को संभालेंगे, देश की इकोनॉमी को वैश्यवादी चलायेंगे और जितने अन्य यानी वैदकी प्रमाण पत्र के हिसाब से शूद्र और अतिशूद्र यानी आउट कास्ट हैं उनके लिए  काम करेंगे । भारत शब्द ही उनकी पूर्व प्रेजिडेंट सावरकर की संगठन की साथ सम्बंधित थी । आर.एस.एस और अखिल भारतीय हिन्दू महासभा ही भारत से जुडी श्लोगान इस्तेमाल करते हैं । उनकी पॉलिटकल पार्टी का नाम भी भारतीय जनता पार्टी है; जब की इस भूखंड में इस पहचान का कोई विस्तार रिस्ता नहीं है । हेडगेवार ने 1925 में नागपुर में आर.एस.एस की स्थापना की थी जो 1920 के दशक में सक्रिय रूप से इंडियन नेशनल कांग्रेस में भाग लिया था और नागपुर के हिंदू महासभा के एक बलिष्ठ राजनेता थे । अब आर.एस.एस की 56,859 से भी ज्यादा शाखाएं है और इनके मेंबर 60 लाख से भी ज्यादा हैं । इनके मेंबर्स अब इंडियान गवर्नमेंट की हर शाखा में मिल जायेंगे । इनका एग्जीक्यूटिव, लेजिस्लेटिव और जुडिशरी में हर जगा अपना मेंबर को बिठाये रखा है यानी  आर.एस.एस एक तरह की प्रॉक्सी प्राइवेट गवर्नमेंट चला रहा है । और एक केस में हम ये मान सकते है भारत पहचान “रामायण” से ली गयी होगी, क्यों की रामजी के भाई के नाम भरत था तो उनके नाम से भारत भी हो सकता है क्यों की ये लोग राम नाम अपनी पोलिटिकल पार्टी के प्रचार और प्रसार के लिए ऐसे इस्तेमाल करते आ रहे हैं जैसे राम की नाम की कॉपी राइट बस इनके पास ही है।

रामायण को लिखा किसने? एक डाकू ने, जिसका नाम रत्नाकर है । वैदिक प्रचारक वालों की बनाई गई कहानी ऐसी है की एक डाकू ने ऋषि नारद के संपर्क में आकर अच्छे बननेकी कोशिश की और तपस्या किया; और तपस्या करते करते उसके शरीर में बालुका से पहाड़ बनगया जिसको वल्मीक कहते है यानी वाइट अंट हिल बनगई इसलिए उनकी नाम डाकू रत्नाकर से ऋषि वाल्मीकि बनगयी । वाल्मीकि ने रामायण की रचना की जो की सदियों एक लोकप्रिय गाथा रहा । पहली बात है की रामायण रचना करने वाले वाल्मीकि को वैदिक वाले नीच जात यानी अछूत मानते हैं इसलिये वाल्मीक मंदिर में ये पूजा नहीं करते । लेकिन उनकी लिखीगयी रचना रामायण वैदिक वाले अपने धर्म की प्रचार और प्रसार के लिए ऐसे इस्तेमाल करते हैं जैसे उनकी पूर्वजने लिखी हो । वैदिक प्रचारक और प्रसारक मीठी झूठ और भ्रम पैदा करने में उनको महारत हासिल है । इनलोगोंनें रामायण की असली रचयिता का साथ भी यही की होगी । हो या ना हो रामायण रचना करनेवाला का नाम रत्नाकर ही होगा वह संस्कृत भाषी सभ्यता से संबंधित थे या उनकी कहानी को संस्कृत भाषा की चोला अपने ही सोच को प्रचार और प्रसार के लिए  इस्तेमाल किया वह खुद अनुमान लगालो; क्यों की राम के वारे में आपको कोई भी वेद में नहीं मिलेंगे ।

अब आते हैं रामायण की बिषय वस्तु के ऊपर । रामायण एक अच्छी रचना है लेकिन ये बस एक कहानी ही है क्योंकि इनमें जो किरदार हैं जैसे हनुमान यानी बन्दर सर वाला मानव जो की बायोलॉजिकल असंभव है । हनुमान दो शब्द के सयोंग से बना हुआ है एक हनु मतलब बन्दर और मान जो की “मानव” शब्द से ली गयी है ।  वैसे ही आपको जम्बूवान, जटायु,  अंगद, वाली, सुग्रीव, सम्पति इत्यादि बायोलॉजिकल असंभव किरदार मिलजाएँगे जो ये साबित करता है की इनके बिना रामायण असंभव है । अगर ये किरदार ही असंभव है तो रामायण भी असंभव है; यानी रामायण एक मन गढन कहानी ही है । रामजी की पास बानर सेना थी यानी बन्दरों की सेना जिसने रावण की राक्षस यानी जंगली इंसानी सेना के साथ लड़ाई की और जित गया । कभी बन्दर एक इंसान के आगे टिक पायेगा? ये मजाक नहीं तो क्या है? बंदोरोने 130KM यानी  (ten yojana) ब्रिज  केवल पांच दिन में बना डाला जिसको रामसेतु कहा जाता है; क्या असलियत में ये संभब है? जबकि असलियत में अभी भी सारि तकनीक इस्तेमाल करके भी इंसान १३० किलोमीटर की बाँध ५ दिन में बना नहीं सकता तो बंदरों ने कैसा बना दिया? क्या कोई मानव का दस सर हो सकते हैं? तो कैसा रावण का दस सर था? जब वह पैदा हुए होंगे तब क्या दस सर की बच्चा कोई माँ पैदा कर सकता है? दस सर वाला इंसान क्या बायोलॉजिकल संभब है? दशरथ अगर नपुंसक थे तो उनकी चार बेटे किसका है? अगर नियोग से पैदा हुए हैं तो दशरथ के बच्चे कैसे हुए? राम और लक्ष्मण सरयू नदी में जलसमाधि ली थी यानी सुसाइड किया था; क्या एक भगवान को ये शोभा देता है? राम जी सीता के याद में जेनन जाते थे जेनन यानी राजाओं की वेश्यालय जहाँ शराब और नाच गाने हुआ करते थे; क्या ये एक मर्यादा पुरुषोत्तम को शोभा देता है? अगर सीता चाहती रावण के साथ प्रेम का ढोंग करके छल से जेहेर देके मार देती और राम को इतना नौटंकी करना ही नहीं पड़ता । अगर राम धोके से बाली को मार सकते हैं तो ये जहर वाली बात हनुमान को बोल देते, और वह सीता को, और बिना यूद्ध के रामायण ख़तम । क्या बस मर्द औरत का सुरक्षा का ठेका ली हुई है; खुद की जिंदगी को बचाना औरत की जिम्मेदारी नहीं? ये कैसे मर्यादा पुरुषोत्तम है जिनकी कोई मर्यादा ही नहीं है? राम जी ने अपनी वाइफ के लिए अनेक निर्दोष सैनिकों की बीबीओंको विधवा बना डाला, ये कितना तर्क संगत है? अपने बीबी के चाह में दूसारे के बीबीओंको विधवा बनाना कौनसी भगवान वाला काम है? तब तो सती प्रथा रही होगी और विचारे बिना कारण के अपने मर्द की चिता पर जले होंगे । अगर हनुमान पहाड़ उठा सकता है बाँध बनाने की क्या जरूरत थी? उसी पहाड़ में सबको बैठा के श्रीलंका क्यों नहीं ले गए? अभी राम की भक्त की मेसेज एक मिनिट से भी कम समय में श्रीलंका पहुंच जाता है; हनुमान भगवान होते हुए भी रामजी की मेसेज देने में इतना दिन क्यों लगा? क्या राम, लक्ष्मण और सीता बिना बिजली के जंगल में घनी अंधेरा में रात काटी नहीं होंगी? क्या जंगल की खुले मैदान और झाडिओं के पीछे उनको शौच करना पड़ा नहीं होगा? अगर उनकी जंगल की जिंदगी उनकी अनुगामियों से भी बहुत बदतर थी तो राम की सामूहिक उन्माद(Mass Hysteria) पैदा करके उस को जो फैला रहे हैं क्या वह सामाजिक लोग है या असामाजिक, या अपराधी? अगर आप ऐसे तार्किक प्रश्न पूछते चलोगे तो आप क़ो ये पता चल जायेगा की रामायण बस एक कहानी ही है । कहानी के अनुसार समय के साथ उनकी भक्तोने कुछ जगह को उनके नाम पे करके उसके सही होने की दावा कर रहे हैं जो की एक मानसिक विकृति ही । ये सब झूठ और अंध विश्वास को धर्म, आस्था और भक्ति का चोला पहना के क्या अनुयायीओंका ब्रेन रेप किया नहीं जा रहा है? अगर राम अयोध्या की राजा थे तो दूसारे राजाओंके सभ्यता से क्या संबध हैं? अयोध्या तो अब की इंडिया नहीं था? अयोध्या एक छोटा सा राज्य था जो की उनके अनुगामी के हिसाब से अब उत्तर प्रदेश में है । वह सारि उत्तर प्रदेश भी नहीं था । अगर राम इस भूखंड में पैदा हुए तो उनकी माँ बोली इस भूखंड में जो बोली बोला जाता है वही होंगी; तो दूसरी भाषी लोगोंके साथ इनका कनेक्सन क्या है? क्या बन्दर सेना उनकी भाषा में बात करना जानते थे? क्या राम, लक्ष्मण, सीता, हनुमान इत्यादि श्रीलंकान भाषा जानते थे? भारत अगर राम जी की भाई भरत के नामसे आया है तो पूरी अयोध्या तो आज की इंडिया नहीं थी तो राम राज्य बनाने का नारा कितना सही है? इससे पता चल गया होगा राम की नाम पे राजनिति और आस्था की दुकान चलाने वाले ना केवल अंधविश्वासी, मुर्ख, बिकृत दिमाग की है बल्कि असामाजिक भी है क्यों की राम की नाम पे ये दंगा किये और इंसानों की हत्या की और सार्वजनिक और निजी संपत्ति का नुक्सान भी किया ।

अब आते हैं देश का नाम इंडिया कैसे हुआ? 5th सेंचुरी BC से भी पहले इयुरोपियन्स हमारे भूखंड को इंडोस(indos), इंडस(Indus), इंडीज(indies) इत्यादि के नामसे जाना करते थे । जो की आज की पाकिस्तान में बहते हुए नदी यानी सिंधु नदी से प्रेरित है । इंडिया का नाम पुरानी अंग्रेजी भाषा में जाना जाता था और इसका इस्तेमाल पॉल अल्फ्रेड के पॉलस ओरोसियस में भी इस्तेमाल किया गया था । मध्य अंग्रेजी में, फ्रांसीसी नाम प्रभाव के तहत, येंडे या इंडे द्वारा प्रतिस्थापित किया गया था, जिसने प्रारंभिक आधुनिक अंग्रेजी में इंडी के रूप में प्रवेश किया था । सायद लैटिन, या स्पेनिश या पुर्तगाली के प्रभाव के कारण 17 वीं शताब्दी के बाद से इंडिया अंग्रेजी उपयोग में आया । अंग्रेज उनके दिये गए इस भूखंड पहचान की नाम इस्तेमाल किया और हमारा देश का नाम इंडिया हो गया ।

अब आते हैं “हिंदी” शब्द को डिकोड करने के लिए । मौजूदा हालत में हिंदी का मतलब एक भाषा जो इंडिया भूखंड की बहु भाषी लोकप्रिय भाषा है । २००१ की सेंसस की हिसाब से इंडियन आबादी के 53.6% ने घोषित किया कि वे पहली या दूसरी भाषा के रूप में हिंदी बोलते हैं, जिनमें से 41% ने इसे अपनी मूल भाषा या मातृभाषा के रूप में घोषित किया है । जब इसको लिखा जाता है उसके नाम हिंदी नहीं देवनागरी स्क्रिप्ट हो जाता है । एक भाषा की फिर दूसरी नाम? यानी हिंदी को देवनागरी भी बोलते हैं!  हिंदी या हिन्दू शब्द 1300AD से पहले कोई भी धार्मिक रचना या लेख में नहीं मिलेगा । अभी भी आप कोई भी वेद, पुराण या बौद्धिक या जैन और कोई भी स्क्रिप्ट में हिन्दू शब्द नहीं मिलेगा; न यहाँ की मूल निवासी का नाम हिन्दू था ना उनके भगवान हिन्दू । तरह तरह की सोर्स ये बता तें है की हिंदी या हिन्दू शब्द सिंधु नदीसे आया है जो अब ज्यादातर देश विभाजन के बाद पाकिस्तान में ही बहता है । वैदिक वाले ताल ठोक के बोलते है क्यों के सिंधु नदी के वारे में वेद में लिखी हुई है उसका कॉपी राइट हमारा है । दरअसल सिंधु  एक नाम नहीं इसका मतलब ही नदी है जो की समय के साथ नदीके सर्बनाम के तहत इस्तेमाल हुआ । वेद में अग्नि, सूरज, चाँद, हवा के वारे में भी लिखा है तो क्या ये सब के ऊपर उनकी ही कॉपी राइट है? ये नदी क्या वेद रचना होने से पहले वहा नहीं बहती होगी? कोई शब्द का कोई रचना में इस्तेमाल ये साबित नहीं करता उसके ऊपर उनकी कॉपी राइट है । सिंधु नदीके किनारे बसने वाले लोग ही सिंधु सभ्यता कहलाता था और उनकी इस्तेमाल की गयी भाषा को सिंधी कहते है न की हिंदी । देश विभाजन के बाद अब ये पाकिस्तान में सिंध प्रोविंस के नाम से जाना जाता है जिसके मूल निवासी ज्यादातर इस्लाम को कनवर्ट हो गये हैं; जो कुछ इंडिया में रहते हैं वह वैदिक धर्म की अनुगामी हैं यानि ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र में बटें हुए हैं । आप खुद इन दोनों की भाषाओं के अंतर जान सकते है बस YouTube इस्तेमाल कीजिए और बस Search में उनकी Documentary या गाना मारके खुद निरीक्षण करलीजिये उन में कितना डिफ्रेंस है । आपको ये पता चल जायेगा सिंधी और हिंदी एक नहीं है; यानी ये साबित हो गया सिंधी, हिंदी नहीं है । अगर सिंधी हिंदी होता तो सिंधी भाषा को हिंदी कहा जाता ना कि सिंधी । सिंधीवाले भी संस्कृत में नहीं बोलते यानी उनकी मातृभाषा संस्कृत नहीं है इसका मतलब ये है की वे संस्कृत भाषी सभ्यता से अलग है । सभी वेद और हिन्दू के सब भगवान बस संस्कृत ही समझते हैं; इसका मतलब ये हुआ संस्कृत बोलनेवाले लोग सिंधी नहीं है, अगर होते सब भगवान सिंधी भाषा में समझते, यानि उनको सुनानेवाला सब मंत्र सब सिंधी में होता ना कि संस्कृत में । कहने का मतलब ये है संस्कृत भाषी यानी वैदिक सभ्यता सिंधु सभ्यता नहीं है । वैदिक सभ्यता की हर चीज संस्कृत में रचना की गयी है और अलग भाषी सभ्यता उसकी अपनी भाषा में अनुवाद ही पढ़ते हैं । सिंधु नदी सदियों उस भूखंड में बहता होगा इसका मतलब ये नहीं की कन्या कुमारी, आंध्र, बंगाल, मराठा, ओडिशा इत्यादि इत्यादि भूखंड तब नहीं था । अगर भूखंड था तो उसमें बसने वाले लोग भी होंगे; क्यों की इस भूखंड में बसने वाले लोग सिंधी या संस्कृत नहीं बोलते, इसीलिए इस दो सभ्यता के साथ इन गैर-संस्कृत और गैर-सिंधी भाषीय सभ्यता की कोई संपर्क नहीं है, सीबाये पडोसी भाषीय सभ्यता के । तो ये नाम हिंदी या हिन्दू कैसे इन लोगों के ऊपर थोपा गया? दरअसल इस भूखंड के राजाओं एक दूसारे के साथ लड़ के अपना राज्य की सीमा बढ़ा के खुद को महाराजा कहलवाना पसंद करते थे । सबसे बड़ा अखंड राज्य इस भूखंड में चन्द्रगुप्त मौर्य और उनकी बंसज अशोक ने बनाया जो आज की इंडिया से भी ज्यादा बड़ा था । ज्यादातर राजाओं अपना अपनाई गयी धर्म को उसकी राज्य में फैलाते थे, ताकि एक सोच वाली नागरिकों  से मत भेद कम हो और राज्य में शांति बनाया रहे । क्यों की इस भूखंड में तरह तरह की भाषीय सभ्यता थे उनके जीवन सैली भी अलग अलग थे । यहां कई बुद्धिजीवी और महापुरुष पैदा हुए और उनके बनाई गयी दर्शन भी अलग अलग थी । उनके दर्शन या धर्म भी एक दूसारे की विरोधी थे । जिस राजा ने जिस धर्म अपनाया उस धर्म को उनकी प्रजा पर थोपा । कुछ राजा धर्म और दर्शन की आजादी भी दी और कुछ प्रचारक और प्रसारक विरोधी धर्म को विनाश और अपभ्रंश भी किया । इस भूखंड में दो तरह की दर्शन और उससे बनी धर्म बने एक तर्कसंगत(Rational) और दूसरा तर्कहीन(Irrational); आजीवक, चारुवाक/लोकायत, योग, बौद्ध, जैन और आलेख इत्यादि बिना भगवान और बिना मूर्ति पूजा की तर्कयुक्त धर्म और दूसरा बहुदेबबाद, मूर्ति पूजन, अंधविश्वास, तर्कविहीन, हिंसा, छल कपट और भेदभाव फैलाने वाला वैदिक जैसे धर्म । वैदिक धर्म को सनातन और हिन्दू धर्म भी कहा जाता है, जो वैदिक वर्ण व्यवस्था के ऊपर आधारित है ।

जिस राजा को जो धर्म पसंद आया वह उस को अपनाया और उसकी प्रचार और प्रसार उसकी राज्य में की । सबसे बड़ा अखंड राज्य अशोक ने बनाया जिसको इतिहास मौर्य साम्राज्य के नाम से प्रतिपादित करता है । अशोक ने बौद्ध धर्म की संस्पर्श में आकर बौद्ध धर्म अपना लिया, और उनकी राज्य में बौद्ध धर्म की खूब प्रचार और प्रसार की, जब की उनकी पूर्वज आजीविका और लोकायत जैसे धर्म और दर्शन की अनुगामी थे । क्यों की उनहोंने पाया बौद्ध धर्म ही उनकी राज्य और प्रजा के लिए  सही दर्शन और धर्म है । उनहोंने पाया बुद्ध ना खुद को भगवान माना ना कोई भगवान की प्रचार और प्रसार की । उनकी दर्शन करुणा, सेवा, अहिंसा, सत्य और तर्क की दर्शन पर आधारित थी ।  बुद्ध ने बहुदेबबाद और मूर्ति पूजन को नाकारा लेकिन आस्था उनकी सत्य और तर्क के ऊपर ही था । सिद्धार्था गौतम ने अपने आप को कभी भगवान की दर्जा नहीं दी ना कभी भगवान की आस्था को माना । ना वह खुद को भगवान की दूत बोला ना उनकी संतान; अगर वह भगवान की आस्था को मानते तो भगवान की वारे में उनकी विचारों में छाप होता । ना उनकी दिखाई गयी मार्ग में भगवान की जिक्र है ना उनकी कोई दर्शन में । इसलिए सिद्धार्था गौतम आज के वैज्ञानिक सोच वाले इंसान थे जिनका सोच ये था तार्किक बनो, सत्य की खोज करो, उसकी निरीक्षण और विश्लेषण करो उसके बाद अपनी तार्किक आधार पर सत्य की पुष्टि करो । आंख बंद करके अपने पूर्वज की पीढ़ी दर पीढ़ी अपनाया गया अंध विश्वास की चपेट मत फंसो; ना अंध विश्वास को यूँही स्वीकार कर लो क्यों की आपसे बड़े, गुरु और बुजुर्ग इसको मानते हैं; अपने खुद की दिमाग की विकास करो और बुद्धि की हक़दार बनो जिसके आधार पर आप उनकी अंध विश्वास को दूर कर सको । उनकी आस्था सत्य और तर्कसंगतता के ऊपर थी, उनकी आस्था मानवता, करुणा, प्रेम, अहिंसा और सेवा के ऊपर थी । सिद्धार्था गौतम की मृत्यु के बाद उनके दर्शन से छेड़ छाड़ किया गया; क्योंकि सिद्धार्था गौतम बहुदेब बाद और मूर्ति पूजा की विरोधी थे ये संगठित पुजारीबाद का पेट में लात मारता था । इसलिये सिद्धार्था गौतम की मृत्यु की बाद उनकी सिद्धान्तों की अनुगामी पुजारीबाद की षडयंत्र की शिकार बना और बुद्धिजीम “हिन जन” यानी “नीच लोग” / “नीच बुद्धि” और “महा जन” यानी “ऊँचे लोग” / “उच्च बुद्धि” में तोड़ा गया; हाला की बाद में इसको अलंकृत भाषा में हीनयान और महायान शब्द का इस्तेमाल किया गया । सिद्धार्था गौतम जी के निर्वाण के मात्र 100 वर्ष बाद ही बौद्धों में मतभेद उभरकर सामने आने लगे थे । वैशाली में सम्पन्न द्वितीय बौद्ध संगीति में थेर भिक्षुओं ने मतभेद रखने वाले भिक्षुओं को संघ से बाहर निकाल दिया । अलग हुए इन भिक्षुओं ने उसी समय अपना अलग संघ बनाकर स्वयं को ‘महासांघिक’ और जिन्होंने निकाला था उन्हें ‘हीनसांघिक’ नाम दिया जिसने समय के साथ  में महायान और हीनयान का रूप धारण कर लीया । इस तरह  बौद्ध धर्म की दो शाखाएं बनगए, हीनयान निम्न वर्ग(गरीबी) और महायान उच्च वर्ग (अमीरी), हीनयान एक व्यक्त वादी धर्म था इसका शाब्दिक अर्थ है निम्न मार्ग । हीनयान संप्रदाय के लोग परिवर्तन अथवा सुधार के विरोधी थे । यह बौद्ध धर्म के प्राचीन आदर्शों का ज्यों त्यों बनाए रखना चाहते थे । हीनयान संप्रदाय के सभी ग्रंथ पाली भाषा मे लिखे गए हैं । हीनयान बुद्ध जी की पूजा भगवान के रूप मे न करके बुद्ध जी को केवल बुद्धिजीवी, महापुरुष मानते थे । हीनयान ही सिद्धार्था गौतम जी की असली शिक्षा थी । राजा अशोक ने हीनयान ही अपने राज्य में फैलाया था । मौर्य साम्राज्य बुद्धिजीम को ना केवल आपने राज्य में सिमित रखा उस को पडोसी राज्य में भी फैलाया । जहाँ जहाँ तब का समय में बौद्ध धर्म फैला, बुद्ध की प्रतिमा को बस आदर्श और प्रेरणा माना गया ना कि भगवान की मूर्ति  इसलिये आपको आज भी पहाडों में खोदित बड़े बड़े बुद्ध की मूर्त्तियां देश, बिदेस में मिलजाएँगे । ये मूर्त्तियां प्रेरणा के उत्स थे ना कि भगवान की पहचान । वैदिक वाले  उनको विष्णु का अवतार बना के अपने मुर्तिबाद के छतरी के नीचे लाया और उनको भगवान बना के उनकी ब्योपारीकरण भी कर दिया । बुद्धिजीम असलियत में संगठित पुजारीवाद यानी ब्राह्मणवाद के शिकार होकर अपभ्रंश होता चला गया । हीनयान वाले मुर्तिको “बुद्धि” यानी “तर्क संगत सत्य ज्ञान” की प्रेरणा मानते हुए मुर्ति के सामने मेडिटेसन यानी चित्त को स्थिर करने का अभ्यास करते हैं जब की ज्यादातर महायान वाले उनकी मूर्ति को भगवान मान के वैदिकों के जैसा पूजा करते हैं । महायान की ज्यादातर स्क्रिप्ट संस्कृत में लिखागया है यानी ये इस बात का सबूत है बुद्धिजीम की वैदिक करण की कोशिश की गयी । उसमे पुनः जन्म, अवतार जैसे कांसेप्ट मिलाये गए और असली बुद्धिजीम को अपभ्रंस किया गया । जो भगवान को ही नहीं मानता वह अवतार को क्यों मानेगा? अगर अवतार में विश्वास नहीं तो वह क्यों पुनर्जन्म में विश्वास करेगा? महायान सिद्धार्था गौतम जी की यानी बुद्ध की विचार विरोधी आस्था है जिसको अपभ्रंश किया गया; बाद में ये दो सखाओंसे अनेक बुद्धिजीम की साखायें बन गए और अब तरह तरह की बुद्धिजीम देखने को मिलते हैं जिसमें तंत्रयान एक है । तंत्रयान बाद में वज्रयान और सहजयान में विभाजित हुआ । जहां जहां बुद्धिजीम फैला था समय के साथ तरह तरह की सेक्ट बने जैसे तिबततियन बुद्धिजीम, जेन बुद्धिजीम इत्यादि इत्यादि । हीनयान संप्रदाय श्रीलंका, बर्मा, जावा आदि देशों मे फैला हुआ है । बाद में यह संप्रदाय दो भागों मे विभाजित हो गया- वैभाष्क एवं सौत्रान्तिक । बुद्ध ने अपने ज्ञान दिया था ना कि उनकी ज्ञान की बाजार । अगर आपको उनकी दर्शन अच्छे लगें आप उनकी सिद्धान्तों का अनुगामी बने ना की उनके नाम पे बना संगठित पहचान की और उनके उपासना पद्धत्तियोंकी । वैदिक वाले बुद्ध जन्म भूमि की भी जालसाज़ी की, क्योंकि आज तक ब्राह्मणवादी ताकतों ने देश की सत्ता संभाली और बुद्ध की जन्म भूमि की जालसाज़ी में वह कभी प्रतिरोध नहीं किया ना उसकी संशोधन; बुद्ध इंडिया के रहने वाले थे लेकिन एक जालसाज़ जर्मनी आर्किओलॉजिस्ट अलोइस आनटन फुहरेर बुद्ध की जन्म भूमि नेपाल में है बोल के झूठी प्रमाण देकर इसको आज तक सच के नाम-से फैला दिया ।  खुद आर्किओलॉजिस्ट अलोइस आनटन फुहरेर माना वह झूठा थे फिर भी आज तक बुद्ध की जन्म भूमि नेपाल ही बना रहा । बुद्ध ने अपनी ज्ञान पाली भाषा में दिया । पाली भाषा का सभ्यता कौन सा है उस को भी अपभ्रंश किया गया । अगर नेपाल में कोई पाली भाषा नहीं बोलता तो सिद्धार्था गौतम कैसे नेपाल में पैदा हो गये? नेपाल में ज्यादातर खासकुरा/गोर्खाली भाषा की सभ्यता रही तो पाली सभ्यता की सोच पूरा बेमानी है, और ये बात प्रत्यक्ष इसको झूठ साबित करता है । राजा अशोक ने कलिंग युद्ध के बाद ही बौद्ध धर्म अपनाया ये इस बात का सूचक है जरूर उस समय राजा अशोक ने उड़ीसा की बौद्ध धर्म से प्रभावित रहे होंगे । उड़ीसा जिसको तब के समय में ओड्र, कलिंग, उक्कल, उत्कल इत्यादि भूखंड के नाम से जाना जाता था उनके बोलने वाले पूर्वज ही पाली बोलने वाली सभ्यता थी । अब अगर आप ओड़िआ भाषा की पालि के साथ मैच करोगे ५०% भी ज्यादा शब्द बिना अपभ्रंश के सही अर्थ के साथ मिल जायेंगे । उड़ीसा का कपिलेश्वर ही कपिलवस्तु है जो की अपभ्रंश होकर कपिलेश्वर हो गया है जब की नेपाल में कपिलवस्तु बोल के कोई स्थान ही नहीं था । जिस को आर्किओलॉजिस्ट अलोइस आनटन फुहरेर ने लुम्बिनी का नाम  दिया, असल में उसका नाम कभी लुम्बिनी ही नहीं था उसका नाम रुम्मिनदेई(Rummindei) था जिसे जबरदस्ती आर्किओलॉजिस्ट अलोइस आनटन फुहरेर अपना खोज को सही प्रमाण करने के लिए उस जगह की नाम भी बदल डाला और झूठी असोका पिलर और प्लेट वाली साजिश की । ये सब साजिश के पीछे कौन होगा आप खुद ही समझ लो । राजा अशोक ने बौद्ध धर्म सोच समझ कर ही अपना विशाल भूखंड में फैलाया था; नहीं तो वह वैदिक धर्म का प्रचार और प्रसार किया होता; इसलिए उनके राज में आप को कोई भी उनके द्वारा बनाये गए वैदिक भगवान की  मंदिर नहीं मिलेंगे जबकि ब्राह्मणो के द्वारा बौद्ध धर्म की विनाश के वाद बौद्ध मंदिरों को सब वैदक मंदिर में कनवर्ट किया गया है । वैदिक वाले बोलते हैं मुसलमान राजाओंने बौद्ध सम्पदा को नस्ट किया; तो, पूरी, तिरुपति, कोणार्क, लिंगराज इत्यादि इत्यादि मंदिरों को क्या मुसलमान राजाओंने बौद्ध मंदिर से वैदकी बनाया? इंडियन भूखंड में मुसलमान राजाओंने जितना बौद्ध सम्पदा को नस्ट नहीं की उससे ज्यादा संगठित पुजारीवाद बनाम ब्राह्मणवाद ने किया ।

3000 साल पहले हमारे ज्यादातर/सब पूर्वज गैर-धार्मिक ही होंगे । राजा अशोक की राज में 263BC के बाद इस भूखंड का प्रमुख यानी राष्ट्र धर्म बौद्ध धर्म था; यानी हमारे ज्यादातर पूर्वज इस अवधी में बौद्ध धर्म की अनुगामी थे । जब बेईमान, विश्वासघाती, गद्दार, कुटिल मौर्य साम्राज्य के ब्राह्मण सेना प्रमुख पुष्यामित्र शुंग ने मौर्य साम्राज्य पर 185BC में छल और बल से कब्जा कर लिया, जो आखिरी शासक ब्रह्द्रथ को धोखे से हत्या किया था, उसने ना केवल बौद्ध धर्म को नष्ट कर दिया बल्कि कई बौद्ध भिक्षुओं की नर संहार कर दी थी । विश्व का पहला आतंकवादी पुष्यामित्र शुंग ही था क्योंकि उसने, लड़ाई नहीं, धोकेसे जब मौर्य की राजा अपना सेना की निरीक्षण कर रहे थे इस धोखेबाज सेनाध्यक्ष ने पीछे से राजा की हत्या की और सेना की दम पर साम्राज्य हतिया लिया; वह ना केवल बौद्ध धर्म की ख़ात्मा किया बल्कि तलवार की धार पर छल और बल, साम दाम दंड भेद के तहत वैदिक धर्म की स्थापना की ।  पुष्यामित्र शुंग ने ही  बौद्ध साम्राज्य में वेदीजिम यानी जाति आधारित सामाजिक प्रणाली को लागू किया था। 185BC के बाद संगठित पुजारीबाद ब्राह्मणवाद के रूप में उभरा और ये पुजारीबाद ने छल और बल, साम दाम दंड भेद के तहत वैदिक धर्म की प्रचार और प्रसार करके वैदिक धर्म को इस भूखंड का सबसे बड़ा बहुसंख्यबाद बनाया । ठीक पुष्यमित्र शुंग के जैसे बंगाल भाषीय सभ्यता के गौड़ राज्य की प्रतिष्ठाता राजा शशांक ने  (590 AD-625 AD) बाकि बचा बुद्धिजीम के साथ किया था । जैसे कोई पोलिटिकल पार्टी देश के किसी कोने में बनता है और उसके लीडर, प्रचारक और उसका वोटर हर प्रान्त में मिल जाते हैं ठीक वैसे ही ब्राह्मण बाद फैला, राजा क्षत्रिय बना, पुजारी ब्राह्मण बना, बनिया वैश्य बना और बाकी अन्य वृत्ति करने वाले लोग गुलाम यानी शूद्र बनादिये गए; अगर ऐसा नहीं होता तो हर ब्राह्मण, क्षत्रिय , वैश्य और शूद्र का सरनेम उनके एक पूर्वज की सरनेम की तरह एक ही होता अलग अलग नहीं जो प्रदेश बदलते ही उनकी मातृ भाषा के साथ साथ तरह तरह के सरनेम से बदल जाता है । यह बात न भूलें हर भाषीय सभ्यता में वैदिक पुरुष सूक्त यानी वर्ण व्यवस्था के कारण अपने ही लोग बंट गए और एक दूसारे की दुश्मन बनेहुए हैं । मानो एक परिवार के चार बेटे थे और उनके मानसिक और शारीरिक क्षमताओं अलग थी । एक चालक था, दूसरा बाहुबली था, तीसरी ब्योपारी दिमाग का था और चौथा बस परिश्रमी लेकिन थोड़ी बुद्धि में कमजोर । तीन भाइयोंने अपने स्वार्थ के लिए चौथे भाई को अपने गुलाम बनाया और मरते दम तक इसलिये उस को ये मौका नहीं दिया ताकि वह उनके जैसे बन गया तो उन के लिए काम कौन करेगा? भाईओंके बच्चे बने; कमजोर भाई का बच्चे भी उनलोगोंसे ज्यादा अकल्मन्द और क़ाबिल बने लेकिन तीन भाईओंने अपनी ही सुनी चालक भाई का बच्चे चाहे न चालक हो, बाहुबली का बच्चे चाहे बाहुबली न हो या ब्योपारी दिमागी भाई का बच्चे भले दिमागी ना हो, क्योंकि वह सब चालक, बाहुबली और ब्योपारी दिमागी भाई का बच्चे हैं उनको चालक, बाहुबली और ब्योपारी दिमागी मानना पड़ेगा ये वर्ण व्यवस्था उनके ऊपर थोप दिया । अगर जातीबाद संस्कृत भाषी सोच में पैदा हुआ तो दूसारे भाषी सभ्यता का साथ उसका सबंध क्या है? ब्राह्मणबाद फैलाने में अपने भाषी क़ाबिले के धूर्त पूर्वज ही जिम्मेदार हैं । ब्राह्मणबाद सोच इंडियामें वैदिक धूर्त्तों ने पैदा किए लेकिन फैलने वाले अपने ही स्वजाति भाषी धूर्त, दबंग और बेईमान पूर्वज ही थे । अपने ही भाषा बोलने वाले स्वजाती के पुजारिओं ने अपने और संगठित स्वार्थ के लिए वेद के गुलाम बने और बेद दर्शन की आधार पर अपने ही लोगों को बाँटा उनमे फुट डाली और गुलाम बनाया । आप लोग इन वैदिक धूर्तोंकी फैलाई हुई झूठ की चपेट में मत आना, कोई सुर असुर नहीं, कोई देव दानव नहीं, कोई आर्य जैसे दौड़(Race) नहीं ये सब इनकी फैलाई गई झूठ और भ्रम है, जो सदियों लोगों को भ्रम में डाले हुए हैं । ये अगर आर्य हैं तो जिन भाषीय सभ्यता मैं क्षत्रिय कहलाती हैं वह कहाँ से आये थे और कौन सी रेस से सम्बंधित हैं? हर भाषीय सभ्यता मैं वैश्य मिलते हैं वह कहां से आये हैं? और तो और जिन को ये शूद्र कहते हैं जिनका सर नेम और मातृ भाषा भूभाग बदलते ही बदल जातें वह कहां से आये हैं? आप ये बात याद रखना इन धूर्त्तों की झूठ, झाँसा और धोखा की कोई सीमा नहीं होती; भोलेभाले लोगों को कुछ भी बोल के उनकी ध्रुवीकरण करने मैं उनको महारत हासिल है; ये धूर्त अपने ही जात की लोगों को ही नहीं छोड़ते तो वैदिक सर्टिफाएड शूद्र को पूछता कौन है? इसलिए इनके अनुयायि भगवान के नाम पे कुछ भी बोलो, बिना सोचे समझे करने को तैयार हो जाते हैं; इसलिए ये लोग पशु की मल और मूत्र भी चाटलेते हैं । जो इनके विरोधी थे उनको ये नीच और हीन की पहचान दिया और जो उनकी समर्थक उनको अच्छा और यहां तक कुछ को भगवान का दर्जा भी दे दिया; जिस विरोधी को हरा नहीं पाया उस को उसकी मौत के बाद उसकी इतिहास ही बदल के अपने ही छतरी के नीचे दाल दिया । कभी भी ब्राह्मण लिखित लेख और उनसे प्रेरित लेख को आंख बंद कर बिना सोच समझ कर विश्वास मत करना ये लोग शहद में जेहेर देने वाले लोग हैं; कभी कभी सीधी शहद में जहर देते हैं तो कभी दीर्घसूत्री धीमा जेहेर ताकि आदमी मरे और उसको पता भी नहीं चले; अनुयायी शहद (झूठी मीठी भ्रम बोली) का जल्द दीवाना और नसेडी तो हो जाता है लेकिन उसकी मौत उसी शहद से हुई है उसको पता भी नहीं चलता । कभी भी बिना तार्किक विश्लेषण किये हुए उनके लेख और कही गयी बातों को विश्वास मत करना । अगर कोई अच्छी वचन भी बोले उसके पीछे उनकी मोटिव यानी नियत की भी जांच करना; हाला की उनकी सब अवरोही उनके जैसे ही है ये कहना गलत होगा । वैदिक धर्म ने धूर्त, दबंग, बईमानों को शासक वर्ग के रूपमें अगड़ी वर्ग बनादिया और कमजोर वर्ग को उनके गुलाम । वैदिक वाले धूर्त, दबंग, बईमानों की अगड़ी वर्ग ने कभी भी सदियों पिछड़े यानी समाज के कमजोर वर्ग को वर्ण व्यवस्था इस्तेमाल करके अगड़ी बनने नहीं दिया । इसका मतलब यह नहीं उनके हर पढ़ी के हर संतान उनके पूर्वजों की जैसे ही थे; लेकिन ज्यादातर उनके जैसे ही थे । पुरातन समय से वैदिक धर्म कभी भी इस भूखंड का पसंदीदा धर्म नहीं रहा । अभी जितना हिन्दू हिन्दू बोल के उच्छल रहे हैं उनमे से ज्यादातर मूल निवासी शूद्र हैं जोकि अपने अज्ञानता के लिए वह नहीं जानते की वह शूद्र क्यों हैं और शूद्र बनानेवाला वही ब्रम्हाण हैं जिन्होंने तरह तरह की हिन्दू भगवान बना के उनको अपने भ्रम में डाली हुए हैं । ये उनसे बचेंगे क्या उनसे ही अपनी अधिकार की मांग कर रहे हैं, यानी उन को अपनी मालिक बनाने की मांग कर रहे हैं । कभी भी वेदीजिम इस भूखंड में पसंदीदा धर्म नहीं रहा क्यों की  ७०% से ज्यादा मूल निवासी शूद्र हैं यानी गुलाम हैं जो की वेदीजिम की वजह से ही शूद्र बने; जब उनको ये बात पता चलेगी की शूद्र बनाने वाला लोग ब्राह्मण ही हैं तब वह उनकी विरोध नहीं शायद ब्राह्मणवाद की ही बिनाश करेंगे । अगर देश की २० करोड़ आबादी मुस्लिम , ९१  करोड़ इंडिया की नीच जात, १८  करोड़ पाकिस्तानी मुसलमान और बांग्लादेश की  १५  करोड़ मुसलमानों को मिला दिया जाए ये करीब १४४  करोड़ मूल निवासी कभी भी वेदीजिम को समर्थन नहीं किए; अगर धर्मान्तरण से बने मुसलमानों को  ब्राह्मणबाद पसंद होता तो वह आज भी हिन्दू होते या मुसलमान बन ने का वाद फिर से हिन्दू हो जाते । जो शूद्र जात से बचने के लिए मुसलमान बने हो फिर से शूद्र क्यों बने? मानाजाता है केवल ३% से भी कम इनमें से बाहरी नस्ल की मुसलमान की पीढ़ियों से हैं जो की संकरण से अपनी खुद की पहचान इस भूखंड में खो चुके हैं । देश हमेशा बौद्ध धर्म की इतिहास के वारे मे छुपाया और स्कूली तालीम से भी दूर रखा ताकि उसका प्रसार न हो सके; और बस ये ६ करोड़ ब्राह्मण, १ करोड़ से भी कम क्षत्रिय और करीब ७ -१० करोड़  वैश्य के पूर्वज ही इसको समर्थन किए और छल और बल से इसको  लागू किया । ये  उपद्रवी  वैदिक प्रचारक और प्रसारक ही हमरा देश की असली  दुश्मन हैं जिन्होंने देश और सभ्यता की विनाश की और  आज तक देश को गुलाम बनाये रखा । पुजारीबाद बनाम ब्राह्मणबाद ने अजिविका, चारुवाक / लोकायत, बौद्ध धर्म, जैन धर्म आदि जैसे सभी तर्कसंगत दर्शनों को अपने स्वार्थ के लिए नष्ट कर दिया और अपने अनुयायियों के जीवन पर नियंत्रण करने लगे । पुजारीबाद अनेक वेद विरोधी दर्शन को ध्वंस और अपभ्रंश किया और ज्यादातर दर्शन को  अपने छतरी के नीचे लाये उनमेसे योग, वैशेषिक, मीमांसा, नाय इत्यादि दर्शन थे । वैदिक धर्म झूठ, अंधविश्वास, तर्क हीनता, भ्रम, हिंसा और अज्ञानता को बढ़ावा इसलिये दिया ताकि लोगों के मन में तर्क पैदा हो ना सके; कहीं उनकी बनाया गया झूठी भगवान की दुनिया के वारे में जिज्ञासा ना पैदा हो जाये; इसलिये स्वर्ग, नर्क, पाप, पुण्य जैसे भ्रम पैदा किए; तरह तरह तेवहार पैदा किया ताकि वह उन में खोये रहें और उनको ये सब सोचने का मौका ना मिले । उनके भगवान की खोज और उनकी उत्पत्ति की तर्क को पाप और नास्तिक का चोला पहनादिया ताकि अनुयायी खुद को अच्छा साबित करने के लिए इस सब की खोज ना करे । यानी मूर्खता, अंध विश्वास और तर्क हीनता ही उनके लिए  अच्छे की प्रमाणपत्र था । जब तक उनकी झूठी भगवान की भ्रम में भ्रमित रहो, निर्जीव मूर्त्तियों के आगे सर झुकाते रहो तब तक आप लोग उनके नियंत्रण में हो, जब इसका विरोध हो तो आप पापी हो और नास्तिक हो । उनकी झूठी मूर्तिवाद बिना प्रश्न किए आंख मूंद कर विश्वास करने को उन लोगों ने आस्तिक का पहचान दिया । जब आप उनकी दुनिया को खोज करके उनकी झूठी दुनिया का राज खोल दो तो आप को ये लोग नास्तिक की पहचान देंगे । दिमागी कमजोर और मुर्ख कभी इन सबका खोज नहीं करता इसलिए आंख बंद किये सब मानलेता है और खुद  को आस्तिक का प्रमाण पत्र देता है; जब की उनकी द्वारा घोषित नास्तिक बनना ही बहुत मुश्किल है । उनकी भ्रम की दुनिया को बेनकाब  करने के लिए उनकी हर चीज की अध्ययन करना पड़ता है, जो की भोलाभाला अनपढ़ लोगों के लिए ज्यादातर नामुमकिन है; जब कोई इंसान उनकी झूठ की पोल खोलता है तो ये लोग उस को नास्तिक का पहचान देके उनको बदनाम करते हैं । भोलेभाले लोग तो अपनी जिंदगी में व्यस्त होता है उसको इतना समय भी कहाँ उनकी षडयंत्र को बेनकाब करे? ये लोग आस्था की गलत अर्थ फैलाते हैं । आस्था का मतलब कोई भी विषय में विश्वास करना होता है । आप अगर अंध विश्वासी हो तो भी आप आस्तिक हो क्यों की आप अंध विश्वास के ऊपर विश्वास करते हो यानी आप की अंध विश्वास की प्रति आस्था यानी विश्वास है; वैसे ही जिन को तर्क और सत्य के ऊपर आस्था है वे भी आस्तिक हैं, लेकिन आस्था तर्क और सत्य के ऊपर ना कि असत्य और मन गढन भ्रम की दुनिया पर । जो विज्ञान के ऊपर विश्वास करते है वह भी आस्तिक हैं लेकिन उनकी आस्था विज्ञान के ऊपर है । अगर ये लोग कुछ में भी विश्वास नहीं करते तो वे नास्तिक कहलाते; यानी किसी भी विषय में नकरात्मक रहना यानी विश्वास नहीं करना ही नास्तिकता है । संगठित पुजारीवाद ने झूठी अफवाएं फैलाई जो भगवान को विश्वास करता है वह आस्तिक है और जो नहीं वह नास्तिक । यानी खोजी और तार्किक दिमाग ही उनके हिसाब से नास्तिक हैं शायद इसलिए ये लोग वैज्ञानिओंको नास्तिक कहते हैं । वैदिक धूर्त्तों ने उनके अनुयाईयों के सोच में ये सोच प्रत्यारोपण किया की जो उनके विचारों और भगवान को नहीं मानता वह गन्दा, पापी और नीच है; जबकि असलियत में वे खुद ही नीच और गंदगी से भी नीचे हैं, भला कोई वैदिक वर्ण व्यवस्था जैसे अमानवीय असामाजिक व्यवस्था बनाके  इंसान को इंसान की बिच लड़ता है? ये कैसे धर्म है जो मानवीय मूल अधिकार का उलंघन करता हो और लोगों को अंध विश्वासी और मुर्ख बनता हो? । क्योंकि गंगा नहाना वाला खुद को पापी मानता है, इसलिए तो पाप धोने गंगा में डुबकी मारता है? खुद पापी भी खुद को नीच कहलवाना पसंद नहीं करेगा और उनकी ये चाल उनके अनुयाईयोंके ऊपर अच्छी चली । साधारण भोलाभाला लोग नास्तिक को एक हीन, पापी और नीच प्राणी मानता है इसलिए वह इस पुजारीवाद का आस्तिक वाला अच्छी इंसान की झूठी प्रमाणपत्र के चाह मैं कभी उनकी नास्तिक प्रमाण पत्र को पसंद नहीं किया और खुद को अंधविश्वासी और मुर्ख बनाये रखने को अपना धर्म और गर्व माना । इंडिया की विभिन्न भाषाई के मूल निवासी 185BC के बाद ही उनकी सबसे मूर्खतापूर्ण और बेवकूफ सामाजिक जाति आधारित पहचान प्राप्त किये जो आज तक इंडियन समाज में प्राथमिक सामाजिक पहचान बना हुआ है । हमारे शिक्षा व्यवस्था में हम सबको इस सबके वारे में भ्रमित और झूठी शिक्षा सदियों दिया गया । जब की ज्यादार सत्ता में कांग्रेस ही रही । कांग्रेस ऐसे क्यों किया अब आप खुद ही सोचो।

जातिवाद यानी वर्ण व्यवस्था संस्कृत भाषी रचनाओं में मिलता है इसका मतलब ये हुआ जो गैर संस्कृत बोली वाले है उनके ऊपर ये सोच यानी वर्ण व्यवस्था थोपी गयी है । रिग वेद की पुरुष सुक्त १०.९० जो वर्ण व्यवस्था का डेफिनेशन है उसको कैसे आज की नस्ल विश्वास करते हैं ये तर्क से बहार हैं? सायद आज की पीढ़ी भी मॉडर्न अंध विश्वासी हैं । पुरुष सूक्त बोलता है: एक प्राचीन विशाल व्यक्ति था जो पुरुष ही था ना की नारी और जिसका एक हजार सिर और एक हजार पैर था, जिसे देवताओं (पुरूषमेध यानी पुरुष की बलि) के द्वारा बलिदान किया गया और वली के बाद उसकी बॉडी पार्ट्स से ही  विश्व और वर्ण (जाति) का निर्माण हुआ है और जिससे दुनिया बन गई । पुरूष के वली से, वैदिक मंत्र निकले । घोड़ों और गायों का जन्म हुआ, ब्राह्मण पुरूष के मुंह से पैदा हुए, क्षत्रियों उसकी बाहों से, वैश्य उसकी जांघों से, और शूद्र उसकी पैरों से पैदा हुए । चंद्रमा उसकी आत्मा से पैदा हुआ था, उसकी आँखों से सूर्य, उसकी खोपड़ी से आकाश ।  इंद्र और अग्नि उसके मुंह से उभरे ।

ये उपद्रवी वैदिक प्रचारकों को क्या इतना साधारण ज्ञान नहीं है की कोई भी मनुष्य श्रेणी पुरुष की मुख, भुजाओं, जांघ और पैर से उत्पन्न नहीं हो सकती? क्या कोई कभी बिना जैविक पद्धति से पैदा हुआ है? मुख से क्या इंसान पैदा हो सकते है? ये कैसा मूर्खता है और इस मूर्खता को ज्ञान की चोला क्यों सदियों धर्म के नाम पर पहनाया गया और फैलाया गया? ये क्या मूर्ख सोच का गुंडा गर्दी नहीं है? अगर मान भी लिया जाये ये मुर्ख सोच सही है तो जो ब्राह्मण बन गए उनके पूर्वज क्या ब्रह्मा, विष्णु, महेश्वर की ज्ञान ले के पैदा हुए थे ? जो पैदा होते ही उनको अपनी भगवान की जानकारी मिल गयी? उनको अपनी भगवान की जानकारी मिलने से पहले उनके पूर्वज क्या इस दुनियामें नहीं जी रहे थे? तो तब वह कौन सी काम कर रहे थे? जब चमड़ी से बनी चीजों का ज्ञान अविष्कार नहीं हुआ था तो चमार क्या चमार था? जब इंसान कपडे बनाना नहीं जनता था तो धोबी क्या धोबी थे? तेल बनाने का ज्ञान जब इंसान नहीं ढुंढा था तो क्या तेली के पूर्वज तेली थे? या राजाओं का हर पूर्वज राजा था? इस जातिबाद वैदिक पुरुष सूक्त फैलाने का क्या मतलब? मतलब साफ़ है गंदी सोच रखने वाले गुंडई सोच कपटी लोमड़ी सोच बुद्धि जीवी लोग अपनी और अपनी जैसी कुछ लोगों की संगठित लाभ के लिए बनाई सामाजिक शासन व्यवस्था जिसको हम वैदिक सामाजिक शासन व्यवस्था बोलते हैं जो की इंडिया सभ्यता की सबसे बड़ा मुर्ख और घटिया दर्शन है जिसको छल और बल से इसको इंडियन लोगों के ऊपर अपने संगठित लाभ के लिए  थोपा गया है  । हर भाषीय सभ्यता को ब्राह्मणबाद अगड़ी और पिछड़ी श्रेणी में बांटा; धूर्त, बाहुबली और बईमानों को अगड़ी यानी शासक वर्ग बनाने की मदद की और श्रम श्रेणी को हमेशा श्रम श्रेणी बने रहना और अगड़ी बनने से रोकने के लिए वर्ण व्यवस्था को धूर्त, बाहुबली और बईमानों अपनाया । रिग वेद का पुरुष सूक्त जो वर्ण व्यवस्था का वर्णन करता है एक मूर्खता और अज्ञानता का परिभाषा है; और क्योंकि ये संस्कृत भाषा में रचना की गयी हैं और अन्य १७०० भी ज्यादा अलग भाषी बोलने वाले सभ्यता जिन को संस्कृत बोलना नहीं आता उनके ऊपर  ये सोच जबरदस्ती थोपा गया है । यानी जिनलोगों की माँ बोली संस्कृत नहीं उनकी भाषीय प्रजाती में वर्ण व्यवस्था ही नहीं थी; इसलिये ये सोच उनके ऊपर छल और बल से थोपा गया है । संस्कृत भाषा सब भाषा की जननी है ये एक सफ़ेद झूठ है; जिसको मुर्ख और धूर्त वैदिक प्रचारकोंने फैलाई है । अगर संस्कृत भाषा इतनी पुरानी है, तो आज तक उसकी बोलने वाले १५ हजार से भी कम लोग क्यों हैं? ईश भाषा को कोई भी ख़तम करने को कोशिश नहीं किया; ईश को स्वाधीन इंडिया में भी संरक्षण मिला; उसके बावजूद ये कभी भी जन प्रिय भाषा बन नहीं पाया; इसका मतलब ये है की ये भाषा कभी भी इस भूखंड का लोकप्रिय भाषा ही नहीं रहा । लेकिन दिलचस्पी की बात ये है की, हर वैदिक भगवान बस संस्कृत में ही समझता है । अगर भगवान हमेशा संस्कृत में समझते हैं, तो जिन लोगों का मातृभाषा संस्कृत नहीं हैं तो उनकी भगवान कैसा बना? क्या हम अरबी समझने वाले अल्ला; या इंग्लिश या अरामिक समझने वाला जिसु को अपना भगवान मानते हैं? तो संस्कृत समझने वाला भगवान हमारा भगवान है ये कितना तार्किक और मानने योग्य है?

मोर्य साम्राज्य की ब्राह्मण सेनापति पुष्यामित्र शुंग ने ईशा पूर्ब १८५ में विश्वासघात और तलवार धार की आतंक से बौद्धिक साम्राज्य को वैदिक साम्राज्य में परिवर्तित किया और श्रमिक श्रेणी को अपनी आतंक,  छल, कपट से शूद्र बनाया, और उनकी अनुगामी राजाओं ने ठीक उनकी तरह ही हर भाषीय सभ्यता में वही चीज़ दोहराई । कोई भला अपने आप को शूद्र या अपने आपको दूसरों की दास क्यों बनाना चाहेगा ? क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र क्यों नहीं चाहेगा की वह ब्राह्मण बने? ब्राह्मण अगर शरीर से पवित्र और महान है तो शूद्र की सर नेम अपनाने से भी वह पवित्र और महान रहेगा! तो शूद्र की सर नेम से क्यों चीड़ है? क्योंकि अशोक की साम्राज्यमें ज्यादातर मूल निवासी बुद्ध धर्म को मानते थे इसलिए ज्यादातर बुद्ध धर्म मानने वाले लोग ही जाती वाद को बाध्य करने के कारण अपने वृत्ति के अनुसार चार जात में बटने में मजबूर हो गए; इसका मतलब यह नहीं तब का समय में दूसारे दर्शन जैसे कि आजीविका, चारुवाक/लोकायत, वैशेषिक, योग, सांख्य, न्याय, जैन, आलेख इत्यादि धर्म को मान ने वाले लोग वैदिक पहचान से बच गए । क्योंकि वैदिक धर्म तलवार की धार पर मौत की भय दिखा के मूल निवासीओंपे थोपा गया, जबकि बुद्ध धर्म हिंसा को समर्थन नहीं करता इसलिये वैदिक धर्म दबंगई यानी छल और बल से आसानी से फैल गया । जो पुजारी वैदिक धर्म को अपना के अपने आप को ब्राह्मण की पहचान दी वह बहुत कम थे, उन्हों ने बस वैदिक धर्म को छल से आगे बढ़ने में साथ दिया और मनु स्मृतिमें ब्राह्मण के लिए दिए गए सुबिधाओंकी लाभ उठाई । राजाओं को क्षत्रिय का मान्यता मिली जो की तब का समय में कुछ हजारों में हीं होंगे, उस समयमें ब्योपार करने वाले वर्ग जो वैदिक पहचान अपनाया अपने आपको वैश्य घोषित किया जो ब्राह्मण से ज्यादा थे; लेकिन सबसे ज्यादा आबादी श्रम श्रेणी की थी जिन को शूद्र की पहचान मिली; और जातिबाद यानी वैदिक धर्म न मानेवाले लोग और राज्य जाती व्यवस्था से बहार यानी अतिशूद्र की मान्यता मिली । समय की अनुसार राजाओं के शासन में प्रत्यक्ष रूप से भाग लेने वाले वर्ग यानी राजाओं और ब्राह्मणों की क़रीबी वर्ग अपने आप को शूद्र से क्षत्रिय की मान्यता का पहचान दिलाने में कामयाब रहे यानी अगड़ी शूद्र अपने आप को समय के साथ क्षत्रिय बनालिया और जाती बाद फैलाने में वैदिक घोषित राजा और पुजारिओं को जाती बाद फैलाने में मदद की । ईसाई ५७० में नबी मुहम्मद अरब देश में पैदा हुए और जब उनको ४० शाल चल रहा था यानी करीब ईसाई ६१० में उनहोंने इस्लाम धर्म की रचना की जो की एकेईस्वरवाद और मूर्ति पूजा की विरुद्ध वाली धर्म थी । मुहम्मद अपने कबीला में अपनी धर्म को फैलाने की कोशिश की, लेकिन बहु मूर्तिबाद मानने वाले अरबी कबीला इसको अपना ने से इंकार किया और नबी मुहम्मद को विरोध भी किया । समय के साथ नबी मुहम्मद ने अपनी कुछ अनुगामी बनाया और अपना ताकत बढ़ाई, और तलवार की जोर पर अपने कबीला की लोगों को मौत की डर दिखा के मुस्लिम बनाया और “काबा” की ३६० मूर्तिओं को ध्वस्त कर दिया । तलवार की जोर पर वह और उनके साथी इस्लाम को फैलाता चले गए; जब इस्लाम धर्म को परिवर्तित राजाओं इंडिया भूखंड को करीब करीब ईसाई ७०० में आक्रमण किया उनके साथ साथ इस्लाम हमारे भूखंड में आया; वह ठीक वैदिक धर्म की जैसी अपने तलवार के धार पर ज्यादातर अपनी धर्म फैलाई और कई राज्योंको जित के अपने साम्राज्य बनाया और करीब करीब ९०० साल यानी अंग्रेज आने तक, यानी ईसाई १६०० तक बहुत सारे राज्यों में राज किया । क्योंकि वैदिक परिचय अपनानेवाले पुजारी (ब्राह्मण) , राजाओं यानी क्षत्रिय, ब्योपारी यानी वैश्य, शूद्रों और अति शूद्रों की तुलनामें कम थे उन में से कम ही तलवार की डर से इस्लाम कबूला होगा, क्योंकि बहुत सारे इस्लाम राजाओंने धर्म की छूट दी थी इसलिये अभी भी देश में ज्यादा वैदिक धर्म मानने वाले लोग देखने में मिलते हैं, अगर ऐसा नहीं होता ९०० साल की राज में वह हर किसी को इस्लाम धर्म में परिवर्तित कर दिए होते । वैदिक धर्म के कारण ज्यादातर श्रमिक श्रेणी वैदिक अगड़ी जात यानी ब्राह्मण, क्षत्रिय और वैश्य से तरह तरह की शोषण और यातना सहती रहते थे । इस्लाम आने का बाद इस श्रम श्रेणी यानी शूद्र जात से कुछ अपने आपको इस्लाम धर्म से परिवर्तित कर लिए ताकि कम से कम छुआ छूत, जात पात इत्यादि वैदिक असामाजिक शोषण से बच सके; इसलिये आज की इंडिया, पाकिस्तान और बांग्लादेश की मुशलमानों को अगर मिला दिए जाये करीब ५३ करोड़ से भी ज्यादा होंगे जिसका कारण ज्यादा तर ब्राह्मणबाद यानी वैदिक जाती प्रथा ही है । जिनके पूर्वज जिस भूखंड यानी प्रदेश तथा भाषीय सभ्यता के साथ जुड़े हुए हैं, वहाँ का मुसलमान उसी भाषीय सभ्यता से इस्लाम धर्म को परिवर्तित हुआ है । यानी पाकिस्तान की पंजाब और इंडिया की पंजाब की भूखंड में जो मुस्लिम बसते हैं वह सब पंजाबी भाषीय सभ्यता से परिवर्तित हुए हैं; वैसे ही आंध्र का मुसलमान की पूर्वज तेलुगु भाषीय सभ्यता से ही थे और बांग्लादेशी मुसलमान बंगाल के भाषी सभ्यता से; उसी प्रकार अन्य प्रदेश में दिखने वाले मुसलमान उसी भाषीय सभ्यता की ही हिस्सा हैं । ज्यादातर मुसलमान राजाओंने आपने अधिकृत भूखंड के नाम सिंधु नदीके किनारे बसनेवाले सभ्यता यानी सिंध प्रदेश के आधार पर अल-हिन्द, इन्दुस्तान, हिंदुस्तान जैसे नाम दिए । ये नाम हमारे कोईभी धर्म ग्रन्थ में नहीं मिलेंगे जो ये बात की पुष्टि करती है इस नाम से यहाँ की लोगो का साथ कोई रिश्ता नहीं सीबाये एक नामकरण की । उनके धर्म को परिवर्तित मुसलमान को छोड़ के यानी गैर-मुसलमानों को उन्हों ने हिन्दू की पहचान दी और इस तरह से दूसारे भाषी सभ्यता जिनका सिंधु सभ्यता के साथ दूर दूर तक कोई सबंध नहीं  उनके ऊपर ये पहचान थोपा गया; वैदिक वाले संगठित पुजारीबाद बुद्ध और अन्य तार्किक दर्शन को खत्म कर चुके थे और वैदिक धर्म ही बहुसंख्यवाद धर्म बनचुका था; इसलिये इस बहुसंख्यवाद को हिन्दू का चोला थोपा गया । जो मेडीवाल इंडिया का जन प्रिय भाषा था वह था नगरी जिसका पाली के साथ ज्यादा मेल है वह शायद उन सदी का नगर की भाषा कहलाता था और नगरी/नागरी के नाम से जाना जाता था वैदिक वाले उसके सामने देव लगा के देवनागरी बना डाला । अगर हर भगवान यानी देवतायें संस्कृत समझते हैं तो नगरी कैसे उनकी बोली हो गयी? इसके आगे देव् लगाना इस भाषा की नाम के साथ छेड़ छाड़ यानी अपभ्रंश किया गया है । ये कोई देवनागरी नहीं केवल नागरी ही है । जब यहाँ की मुसलमान शासकों ने यहाँ की लोकप्रिय भाषा “नगरी/नागरी (जिसका मतलब नगर की भाषा)” उनके राज में ये ज्यादा बोलने वाली भाषा थी उनके राज की नाम से इसका नाम हिंदी रख दी । समय के साथ मुसलमान शासकों ने इस नगरी/नागरी भाषा में कुछ अरबी और पार्सी शब्द मिला के उसका नाम उर्दू रख दिया और इंडिया की मुसलमानों के लिए एक अपनी पहचान वाली भाषा बनाया जो की आज की इंडियन ओरिजिन वाले मुसलमानों का मातृभाषा बन गयी है । जबकि उनकी सेकेण्ड लेंगुएज ही ज्यादातर उनकी पूर्वजोंकी मातृभाषा रही । क्योंकि बहुत सारे जगह में पाया गया बुद्ध की प्रतिमा इस्लाम धर्म से भी ज्यादा पुराने है, और कोई वैदिक धर्म की मंदिर या उनकी मूर्त्तियां उनसे भी पुरानी नहीं है ये, ये बात की सूचक है की ये प्रतिमाएं और भग्न बौद्ध स्थल पाने वाले जगह में बौद्ध धर्म था और ईश भूखंड और इसके आस पास ज्यादातर भूखंड में रहने वाले पूर्वज बौद्ध धर्मी थे; यानी हमारे पूर्वज ज्यादातर बौद्ध धर्मी थे ना की वैदिक धर्म के अनुगामी । क्योंकि ३००० साल पहले कोई प्रमुख धर्म या धर्म ही नहीं था सब पूर्वज धर्महीन/ गैरधर्मी ही थे; और किसी भी धर्म को नहीं मानते थे, तब क्या वह सब पापी और जानवर थे?

ब्राह्मणवाद / वेदीजिम यानी वैदिक धर्म को इस्लाम राजाओं ने आक्रमण के बाद हिंदू धर्म के रूप में नामकरण किया और वैदिक प्रचारक इसको अपना पहचान मानलिया; जब धर्म के आधार पर देश विभाजित हुआ इंडियन भूखंड में ज्यादातर वैदिक धर्म मान ने वाले अनुयाई थे; नेहरू ने इंडियन क़ानूनोंमें इस भूखंड में पैदा सब वैदिक और गैर वैदिक धर्मोंको एक छतरी के निचे हिंदू का नाम दे दिया जब की ज्यादातर गैरवैदक धर्म वैदिक धर्म की विरोधी थे । इस तरह सत्ताधारी ताकतों वह कांग्रेस हो या BJP दोनोंने ही वैदिक धर्म की प्रसार किया जब की गैर वैदिक धर्म और दर्शन भी इस भूखंड का ही उपज और ज्ञान सम्पदा है कोई दूसारे देश की नहीं ।


India had totally controlled by Vedic caste promoter oligarch elites those are in practical psychologically disordered race or race of Indian origin crooks with severe anti social personality disorders and we can say them Indian racial sociopaths or elite social criminals. Both Congress and BJP dominated and controlled by these Vedic crooks or so called elites. Only for these stupids India got divided and we have now three nations from one origin.

Following Organizations are harmful to India those stagnates the Indian civilization till to date socially and whose ancestors were the root evils of the Indian civilizations.

Abhinav Bharat Society: Founded by Vinayak Damodar Savarkar and his brother Ganesh Damodar Savarkar in 1903.(Both were Marathi Chitpavan Brahmins).

Akhil Bhāratiya Hindū Mahāsabhā: Founded in 1915 & Founder was Madan Mohan Malaviya (Original surname was Chaturved an Allhabadi Brahmin).

Rashtriya Swayamsevak Sangh: Founded in 27 September 1925 in Nagpur & Founder was K. B. Hedgewar (Marathi Deshastha Brahmin).

Bharatiya Jana Sangh: Founded in 21 October 1951 & Founder was Syama Prasad Mukherjee (Westbengal Brahmin).

Vishva Hindu Parishad: Founded in 1964 & Founders were M. S. Golwalkar(Original surname was Padhye. The Padhyes belonged to a place called Golwali in Konkan in Maharashtra are Brahmins), Keshavram Kashiram Shastri (Brahmin), S. S. Apte (Maharashtrian Brahmins).

Why these type of organizations those promotes Stupid caste based social system (Purusha Sukta 10.90) are founded and lead by Brahmins?

Have you ever seen any Brahmin explaining where Castes and Brahmins born from? These stupids are not only race of crooks but also a race of blind believers those genetically making their descendants mentally ill and blind believers generation to generations. These stupids are thinking they are fooling to their followers but they are so stupids that they have been already made their descendants mentally disordered more than their followers.

जातिवाद यानी वर्ण व्यवस्था संस्कृत भाषी रचनाओं में मिलता है इसका मतलब ये हुआ जो गैर संस्कृत बोली वाले है उनके ऊपर ये सोच यानी वर्ण व्यवस्था थोपी गयी है । रिग वेद की पुरुष सुक्त १०.९० जो वर्ण व्यवस्था का डेफिनेशन है उसको कैसे आज की नस्ल विश्वास करते हैं ये तर्क से बहार हैं? सायद आज की पीढ़ी भी मॉडर्न अंध विश्वासी हैं । पुरुष सूक्त बोलता है: एक प्राचीन विशाल व्यक्ति था जो पुरुष ही था ना की नारी और जिसका एक हजार सिर और एक हजार पैर था, जिसे देवताओं (पुरूषमेध यानी पुरुष की बलि) के द्वारा बलिदान किया गया और वली के बाद उसकी बॉडी पार्ट्स से ही  विश्व और वर्ण (जाति) का निर्माण हुआ है और जिससे दुनिया बन गई । पुरूष के वली से, वैदिक मंत्र निकले । घोड़ों और गायों का जन्म हुआ, ब्राह्मण पुरूष के मुंह से पैदा हुए, क्षत्रियों उसकी बाहों से, वैश्य उसकी जांघों से, और शूद्र उसकी पैरों से पैदा हुए । चंद्रमा उसकी आत्मा से पैदा हुआ था, उसकी आँखों से सूर्य, उसकी खोपड़ी से आकाश ।  इंद्र और अग्नि उसके मुंह से उभरे ।

Posted in Uncategorized | Tagged | 2 Comments